Widgets Magazine

खुलासा! केंद्रीय विद्यालयों में शिक्षकों के 23 प्रतिशत पद खाली

इंदौर| Last Updated: बुधवार, 17 मई 2017 (14:54 IST)
इंदौर। सूचना के अधिकार (आरटीआई) से पता चला है कि देशभर में फैले 1,100 से ज्यादा केंद्रीय विद्यालयों में शिक्षकों की कमी की समस्या बरकरार है। इन प्रतिष्ठित सरकारी स्कूलों में प्राथमिक स्तर से लेकर उच्चतर माध्यमिक स्तर तक शिक्षकों के करीब 23 प्रतिशत स्वीकृत पद खाली पड़े हैं।
 
मध्यप्रदेश के नीमच निवासी सामाजिक कार्यकर्ता चन्द्रशेखर गौड़ ने बुधवार को बताया कि उनकी आरटीआई अर्जी के जवाब में संगठन (केवीएस) ने 31 मार्च तक की स्थिति के मुताबिक यह जानकारी दी है। केंद्र सरकार के मानव संसाधन विकास मंत्रालय के तहत आने वाला केवीएस देशभर में केंद्रीय विद्यालयों का संचालन करता है।
 
केवीएस की ओर से गौड़ को भेजे जवाब में बताया गया कि केंद्रीय विद्यालयों में प्राथमिक स्तर से लेकर उच्चतर माध्यमिक स्तर तक शिक्षकों के कुल 42,640 पद स्वीकृत हैं लेकिन इनमें से 32,891 पदों पर ही कार्यरत हैं और शेष 9,749 पद खाली पड़े हैं यानी इन विद्यालयों में शिक्षकों के करीब 23 प्रतिशत स्वीकृत पद रिक्त हैं।
 
केवीएस ने आरटीआई अर्जी के जवाब में बताया कि केंद्रीय विद्यालयों में प्राइमरी अध्यापकों (पीआरटी) के 14,946 पद स्वीकृत हैं जिनमें से 11,322 पदों पर शिक्षक कार्य कर रहे हैं और शेष 3,624 पद खाली पड़े हैं।
 
केंद्रीय विद्यालयों में प्रशिक्षित स्नातक शिक्षक (टीजीटी) के 17,298 स्वीकृत पदों के मुकाबले 13,269 पदों पर अध्यापकों की नियुक्ति की गई है और शेष 4,029 पद खाली पड़े हैं। केंद्रीय विद्यालयों में परास्नातक शिक्षक (पीजीटी) के 10,396 पद स्वीकृत हैं लेकिन इन पदों पर 8,300 अध्यापक ही नौकरी कर रहे हैं और शेष 2,096 पद खाली पड़े हैं। (भाषा) 


Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine