पन्ना टाइगर्स रिजर्व में मिले बाघ के पदचिह्न

ND|
ND

विहीन होने पर तीन साल पूर्व जिस तरह से सुर्खियों में आया था, अब वह बाघों की तेजी से वंशवृद्धि को लेकर चर्चा में है। सबसे ज्यादा खुशी की बात यह है कि टाइगर रिजर्व से बाघों का पूरी तरह से सफाया हो जाने के बावजूद भी यहां के खत्म नहीं हुई।

जिला मुख्यालय से 10 किमी दूर लखनपुर सेहा के जंगल में एक के मिले हैं, जिसकी वन अधिकारियों व विशेषज्ञों की टीम द्वारा तलाश की जा रही है।

बाघों का सफाया हो जाने की घोषणा के बाद टाइगर रिजर्व में बाघ पुनर्स्थापना योजना शुरू की गई। योजना के तहत से चार बाघिन तथा पेंच टाइगर रिजर्व से एक बाघ पन्ना लाया गया।
दो वर्ष की अल्प अवधि में ही यहां तीन बाघिनों का सफल प्रजनन हुआ। इन बाघिनों के आठ से भी अधिक पन्ना टाइगर रिजर्व की शान बढ़ा रहे हैं, जिनमें 6 शावक डेढ़ वर्ष की उम्र को पार कर चुके हैं तथा अपनी मां से अलग होकर टेरीटोरी की खोज करने लगे हैं।

Panna Tiger Reserve
ND
पन्ना टाइगर रिजर्व के क्षेत्र संचालक आर. श्रीनिवास मूर्ति ने बताया कि पन्ना के माथे पर बदनामी का जो दाग लगा था कि यहां के बाघों की नस्ल खत्म हो गई है। वह दाग भी अब मिट जाएगा।
बताया जा रहा है कि यह पूरा इलाका अत्यधिक दुर्गम है तथा यहां का जंगल भी बेहतरीन है। यही वजह है कि इस विशाल व दुर्गम वन क्षेत्र में पन्ना के बाघ अपने को बचाने में कामयाब हो सके हैं।

बाघों के संरक्षण और उनकी सुरक्षा में मौजूदा प्रबंधन को यदि आम जनता का भी रचनात्मक सहयोग मिल जाय तो पन्ना की धरती एक बार फिर बाघों से आबाद हो सकती है और मप्र फिर का दर्जा प्राप्त कर सकता है।
मूर्ति के अनुसार दहलान चौकी व लखनपुर सेहा के जंगल में बाघ के पगमार्क मिले हैं। राज्य वन्यप्राणी बोर्ड के सदस्य हनुमंत सिंह सहित वन अधिकारियों ने पगमार्क देखे हैं। वन्य जीव संस्थान देहरादून और पन्ना टाइगर रिजर्व की टीम बाघ की तलाश में जुटी है।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine



और भी पढ़ें :