हिटलर की प्रेमिका ईवा ब्राउन की डायरी

NDND
हिटलर का नाम सुनते ही कईयों की रूह काँप जाती है। द्वितीय विश्व युद्ध के इस खलनायक को लोग पत्थर दिल मानते हैं। कहते हैं उसके भीतर नफरत का लावा उबलता था। क्या इस गर्म लावे के बीच भी उस पत्थर-से दिल में कोई फूल खिला था? जी हाँ, हिटलर ने रोमांस किया था ईवा ब्राउन से। विश्व युद्ध समाप्ति के पश्चात ईवा ब्राउन की एक डायरी मिली जिसमें उसने अपनी सामान्य मनोभावनाओं को व्यक्त किया है। मगर बातों ही बातों में यह झलक जाता है कि एक विचित्रमना कट्टरपंथी किंतु दुस्साहसी व्यक्ति की प्रेमिका होने पर क्या मानसिक अवस्थाहोती है। पढ़िए डायरी के कुछ अनूदित अंश :

फरवरी 6, 1935
आज मैं तेईस साल की खुशनुमा उम्र में पहुँच गई हूँ। मगर खुशनुमा शब्द का इस्तेमाल करना कुछ बहुत सही नहीं होगा। इस पल तो मैं निश्चित ही खुश नहीं हूँ। मेरे पास एक पालतू कुत्ता होता तो मैं शायद इतना अकेला महसूस नहीं करती, ओह पर ये तो मैं कुछ ज्यादा ही चाहरही हूँ।

फरवरी 11, 1935
वह (हिटलर) मुझसे मिलने आया था। मगर उसने यह तक न पूछा कि जन्मदिन हेतु मुझे क्या तोहफा चाहिए था। अतः मैं खुद के लिए ही थोड़ी ज्वेलरी ले आई। 50 मार्क (जर्मन मुद्रा) में गले का हार, कान के कुंडल और मैचिंग की अँगूठी मिल गई। सारी चीजें बहुत सुंदर हैं। उम्मीद करती हूँ कि 'उसे' यह सब पसंद आएँगी। यदि नहीं आती तो उसे खुद मेरे लिए कुछ लाना चाहिए।

फरवरी 18, 1935
कल शाम वह अचानक ही आ गया था। हमारी शाम बेहद हसीन रही। वह मुझे एक छोटा सा घर दिला सकता है। यह कितना अद्भुत होगा। पर मुझे पहले से ही खुश नहीं होने लगना चाहिए... क्या पता... हे भगवान सचमुच ऐसा हो जाए, वह भी जल्द ही। फिर मुझे एक शॉप गर्ल की तरह नहींरहना होगा। मैं कितनी खुश हूँ, वो मुझे कितना चाहता है। मैं प्रार्थना करती हूँ वो हमेशा ही मुझे चाहे।

... पर मैं इतनी नाखुश भी हूँ, इस बारे में मुझे उसे नहीं लिखना चाहिए। क्या पता वो समझ बैठे कि मैं शिकायत कर रही हूँ।

WD|
वह शनिवार को आया था। शनिवार की शाम साथ बिताने के बाद मैंने उससे 'टाउन बॉल' में जाने की अनुमति माँगी थी। उसने अनुमति दे दी थी। वह अगले दो हफ्तों तक नहीं आने वाला। तब तक मुझ में बहुत मायूसी और बेचैनी रहेगी। हो सकता है उसे कुछ काम हो... हो सकता है वह नाराज हो क्योंकि मैं बॉल में गई थी। पर मैंने उसकी अनुमति तो ले ली थी।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :