प्यार, इश्क और मोहब्बत

ND

हमारे मजनूँ भाइयों एवं लैला देवियों के लिए प्रस्तुत हैं प्रेम में पगी कुछ मीठी-मीठी शेर-शायरीः

हर इक मोड़ पर किसी ने पुकारा मुझको
इक आवाज तेरी जब से मेरे साथ हुई।
**

हम लबों से कह न पाए तुमसे हाले दिल कभी
और तुम समझे नहीं ये खामोशी क्या चीज है।
**

निगाहों से जान लीजिए मेरी ख्वाहिशें
हर बात लबों से कही नहीं जाती।
**

दिल है किसका जिसमें अरमाँ आपका रहता नहीं
फर्क इतना है कि सब कहते हैं मैं कहता नहीं।
**

थक गया मैं करते-करते याद तुझको
अब तुझे मैं याद आना चाहता हूँ।
**

मैंने तो यूँ ही फेरी थी रेत पर अँगुलियाँ
गौर से देखा तो बन गई थी तेरी तस्वीर।
**

कौन कहता है मुहब्बत की जुबाँ होती है
ये हकीकत तो निगाहों से बयाँ होती है।
**

तेरी सूरत से नहीं मिलती किसी की सूरत
हम जहाँ में तेरी तस्वीर लिए फिरते हैं।
**

अपनी यादों के उजाले मेरे साथ रहने दो
न जाने जिंदगी की किस गली में शाम हो जाए।
**

तुमने किया न याद कभी भूलकर हमें
हमने तुम्हारी याद में सब कुछ भुला दिया।
**

जिसके खयाल में हूँ गुम उसको भी कुछ खयाल है
ND|
- धर्मेन्द्र जैन 'विरक्त'
मेरे लिए यही सवाल सबसे बड़ा सवाल है।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :