लव-मंत्र : साथी का रूप नहीं, गुण देखना सीखें


WD|
वर्तमान के दौर में फैशन जगत हो, चाहे फिल्म इंडस्ट्री सभी में 'जो दिखता है, वही बिकता है'। धीरे-धीरे यही फार्मूला अब हमारी जीवनशैली पर भी लागू होने लगा है। जहां पहले हमारी पहचान हमारे गुणों के आधार पर होती थी, वहीं अब भौतिकतावाद के इस युग में हमारी पहचान हमारे स्टेटस से होने लगी है। मतलब यदि आपके पास पैसा है तो आपके सारे गुनाह माफ। 
 
तेजी से लुप्त होती हमारी भारतीय संस्कृति में पहले कभी 'रूपस्याभरणम् गुणं' की बात की जाती है। जिसका अर्थ होता है कि व्यक्ति के रूप का तभी महत्व है, जब उसमें गुण हो, वरना उसकी सुंदरता व्यर्थ है। वास्तविकता में भी सुंदर वही व्यक्ति होता है, जो भले ही धनवान या सुंदर न हो परंतु गुणवान हो। लेकिन क्या करें बाहरी चमक की चकाचौंध में आज हम सब चौंधिया जो गए हैं। 
 
आमतौर पर जब अखबारों में वैवाहिकी या रिसेपशनिस्ट के विज्ञापन दिए जाते हैं तो उसमें स्पष्ट तौर पर लिखा होता है कि 'सुंदर व आकर्षक लड़की को प्राथमिकता' भले ही वो गुणों में नगण्य ही क्यों न हो। जब शादी-ब्याह की बात पक्की होती है तो कई बार रूप-रंग व कद-काठी के कारण गुणवान लड़के-लड़की को भी नकार दिया जाता है तथा उन पर नाकाबिल होने का ठप्पा लगा दिया जाता है। 
 
इसके पीछे मुख्य कारण लोगों की कहा-सुनी से बचना व उनके बीच अपनी धाक जमाए रखना है। आजकल के टीवी सीरियलों में भी यही सबकुछ दिखाकर लोगों को गुमराह किया जा रहा है। आखिरकार लोगों को दिखाने व आकर्षित करने के लिए रंग-रूप का यह भेदभाव कब तक जारी रहेगा?
 
यदि जीवन में सही साथी का चयन करना हो तो उसकी नम्रता, शिष्टाचार, सहनशीलता आदि गुणों को परखना चाहिए फिर उसका चयन करना चाहिए क्योंकि रूपवान तो हजारों लोग हैं परंतु गुणवान नगण्य हैं। अत: सही समय पर सही व्यक्ति का चयन करके अपने जीवन को एक नई दिशा दें।  >
>

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

दुर्घटनाएं अमावस्या और पूर्णिमा पर ही क्यों होती है? आइए ...

दुर्घटनाएं अमावस्या और पूर्णिमा पर ही क्यों होती है? आइए जानते हैं यह रहस्य-
पूर्णिमा के दिन मोहक दिखने वाला और अमावस्या पर रात में छुप जाने वाला चांद अनिष्टकारी होता ...

क्या आपका बच्चा भी अंगूठा चूसता है? तो हो जाएं सावधान, जान ...

क्या आपका बच्चा भी अंगूठा चूसता है? तो हो जाएं सावधान, जान लें नुकसान
शायद ऐसा कोई व्यक्ति नहीं होगा, जिसने किसी बच्चे को अंगूठा चूसते हुए कभी न देखा हो। अक्सर ...

यही है वह मौसम जब शरीर का बदलता है तापमान, रहें सावधान, ...

यही है वह मौसम जब शरीर का बदलता है तापमान, रहें सावधान, जानें वजह और बचाव के उपाय
मौसम आ गया है कि आपको चाहे जब लगेगा हल्का बुखार। तो क्या घबराने की कोई बात है? जी नहीं, ...

प्रेशर कुकर में नहीं कड़ाही में पकाएं खाना, जानिए क्यों...

प्रेशर कुकर में नहीं कड़ाही में पकाएं खाना, जानिए क्यों...
अगर आप से पूछा जाए कि प्रेशर कुकर में या कड़ाही खाना बनाना बेहतर है तो आप तुरंत प्रेशर ...

मलाईदार नारियल क्रश, सेहत के यह 8 फायदे पढ़कर रह जाएंगे दंग

मलाईदार नारियल क्रश, सेहत के यह 8 फायदे पढ़कर रह जाएंगे दंग
आजकल मार्केट में नारियल पानी से ज्यादा नारियल क्रश को पसंद किया जा रहा है। इसकी बड़ी वजह ...

उपजी नाराजगी और समस्याओं को परे रखें

उपजी नाराजगी और समस्याओं को परे रखें
पति-पत्नी के बीच घर के दैनिक कार्य को लेकर, नोकझोंक का सामना रोजाना होता हैं। पति का ...

बालों को कलर करते हैं, तो पहले यह सही तरीका जरूर जान लें

बालों को कलर करते हैं, तो पहले यह सही तरीका जरूर जान लें
हर बार आप सैलून में ही जाकर अपने बालों को कलर करवाएं, यह संभव नहीं है। बेशक कई लोग हमेशा ...

व्रत कथा : देवशयनी एकादशी की पौराणिक एवं प्रा‍माणिक कहानी ...

व्रत कथा : देवशयनी एकादशी की पौराणिक एवं प्रा‍माणिक कहानी यहां पढ़ें...
धर्मराज युधिष्ठिर ने कहा- हे केशव! आषाढ़ शुक्ल एकादशी का क्या नाम है? इस व्रत के करने की ...

श्रावण मास में शिव अभिषेक से होती हैं कई बीमारियां दूर, ...

श्रावण मास में शिव अभिषेक से होती हैं कई बीमारियां दूर, जानिए ग्रह अनुसार क्या चढ़ाएं शिव को
श्रावण के शुभ समय में ग्रहों की शुभ-अशुभ स्थिति के अनुसार शिवलिंग का पूजन करना चाहिए। ...

क्या ग्रहण करें देवशयनी एकादशी के दिन, जानिए 6 जरूरी काम की ...

क्या ग्रहण करें देवशयनी एकादशी के दिन, जानिए 6 जरूरी काम की बातें...
हिन्दू धर्म में आषाढ़ मास की देवशयनी एकादशी का बहुत महत्व है। यह एकादशी मनुष्य को परलोक ...