सईद का माँ को खत

खामोश क्रांति

ND
सईद मिर्जा का कुछ वर्षों का एकांतवाश हाल ही में मुखर हुआ। हालाँकि उन्‍होंने अपने इस अकेले में भी कई आवाज को समेटा और केद्र में अपनी माँ को रखा। उन्‍होंने किताब लिखी -'अम्मी, लैटर टू ए डेमोक्रेटिक मदर। इसके बाद एक और खुशगवार बाकया यह होने वाला है कि उन्‍होंने फिल्‍म बनाने की भी घोषणा कर दी है।

दरअसल सईद जिस मिट्टी के बने हैं, उनके लिए यह एकांतवाश जरूरी थी, लेकिन वहाँ स्‍टैटिज्‍म नहीं रहा हो, बिल्‍कुल नहीं। सईद की तासिर में स्‍टैटिज्‍म है ही नहीं। अकेले रहते हुए भी वो डायनमिक हैं। बहुत कुछ चलता होगा दिमाग में। तभी तो किताब लिखी। वैसे दो साल पहले सईद ने अपने बारे में, कहाँ-कहाँ गुजरे वगैरह पर किताब लिख रहे थे।

फिलहाल माँ के दायरे में रखकर उनकी किताब सामने आई है 'अम्मी, लैटर टू ए डेमोक्रेटिक मदर।' जैसा कि शीर्षक से ही ध्वनित होता है, उन्होंने अपनी प्रजातांत्रिक सोच वाली माँ को संबोधित करते हुए पुस्तक लिखी है। उनकी इस संस्मरणात्मक शैली वाले उपन्यास से प्रस्तुत है एक छोटा-सा टुकड़ा।

'मैं कल्पना कर रहा हूँ कि वह पल कैसा रहा होगा? वह 1938 का साल था और बुरका तो तुम तबसे पहनती आ रही थीं जब तुम तेरह साल की थीं। तुम्हारे दिमाग में आखिर क्या आया होगा कि तुमने अचानक यह निर्णय ले लिया होगा कि अब से बुरका नहीं पहनोगी? कितना अविश्वसनीय निर्णय था यह?

वैसे मुझे लगता है कि यह फैसला तुम्हारे दिमाग में तय था और तुम कभी से निर्णय के इस क्षण की राह देख रही थीं। क्यूँ मैं सही यूँ ना? अच्छा बाबा ने क्या किया या कहा होगा जब तुमने अपना सिर झटक दिया होगा? मुझे लगता है वो मुस्कुराए होंगे। उतारकर हाथ में ले लिए गए बुरके का तुमने क्या किया होगा? मुझे पता चला है तुमने इसे तह करके बाँह पर लटका लिया था, रास्ते पर इसी तरह चलते हुए तुम बाबा के साथ घर आई थीं।

सड़क पर दसियों लोग तुम्हारे सामने से गुजरे होंगे, कुछ ने पलटकर तुम्हें घूरा भी होगा। क्या तुमने उन्हें पलटकर देखा या तुम सड़क की तरफ गर्दन झुकाकर चलीं। मुझे पता है बाद में तुमने बुरका तह करके ट्रंक में डाल दिया था जैसे
  दरअसल सईद जिस मिट्टी के बने हैं, उनके लिए यह एकांतवाश जरूरी थी, लेकिन वहाँ स्‍टैटिज्‍म नहीं रहा हो, बिल्‍कुल नहीं। सईद की तासिर में स्‍टैटिज्‍म है ही नहीं। अकेले रहते हुए भी वो डायनमिक हैं। बहुत कुछ चलता होगा दिमाग में। तभी तो किताब लिखी।      
अपने आपको और दुनिया को कह रही हों, 'पुराना अध्याय अब बंद हो गया।' मेरे खयाल से यह सबसे खामोश क्रांति थी, क्योंकि बाद में भी तुम्हें और बाबा को तुम्हारे इस निर्णय के बारे में बहस करते कभी नहीं देखा।'


* लेखक- सईद मिर्जा
WD|
* पुस्‍तक- अम्मी, लैटर टू ए डेमोक्रेटिक मदर

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

ऐसे लगाएं परमात्मा से योग

ऐसे लगाएं परमात्मा से योग
योग यानी जुड़ना और जुड़ना जिससे भी सच्चे मन से हो जाए, उससे ही योग लग जाता है। जब किसी को ...

शहद और लहसन साथ में लेने के यह 5 फायदे आपको चौंका देंगे, ...

शहद और लहसन साथ में लेने के यह 5 फायदे आपको चौंका देंगे, जरूर पढ़ें
शहद और लहसन, दोनों के सेहत से जुड़े 5 फायदे... लेकिन पहले जानिए कि कैसे करें लहसन और शहद ...

प्राणायाम से पाएं दीर्घायु

प्राणायाम से पाएं दीर्घायु
हर कोई चाहता है कि जब तक वह जीवित रहे, स्वस्थ ही रहे। स्वस्थ रहते हुए ही अपने बच्चों को ...

घी जरूर खाएं,नहीं करता है नुकसान, जानिए इसके बेमिसाल फायदे

घी जरूर खाएं,नहीं करता है नुकसान, जानिए इसके बेमिसाल फायदे
घी पर हुए शोध बताते हैं कि इससे रक्त और आंतों में मौजूद कोलेस्ट्रॉल कम होता है। क्या वाकई ...

एक साथ लीजिए दूध और गुड़, जानिए इस कॉंबिनेशन में कितने हैं ...

एक साथ लीजिए दूध और गुड़, जानिए इस कॉंबिनेशन में कितने हैं गुण
अगर आप दूध के साथ चीनी का इस्तेमाल करते है तो इसकी जगह आप गुड़ का इस्तेमाल करें। ऐसा करने ...

बुध का कर्क में गोचर, जानिए क्या होगा 12 राशियों पर असर...

बुध का कर्क में गोचर, जानिए क्या होगा 12 राशियों पर असर...
बुध ज्ञान का कारक शत्रु चन्द्र की राशि कर्क में 25 जून, सोमवार से आ रहा है, इसके साथ ही ...

हर सुबह की ताज़गी के लिए रेड टी, फायदे हैं अनमोल

हर सुबह की ताज़गी के लिए रेड टी, फायदे हैं अनमोल
अब ज़माना आ गया है रेड टी का। तेज़ी से लोगों की पहली पसंद बनती रेड टी आपकी किचन का हिस्सा ...

केरल साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित कवयित्री सुजाता ...

केरल साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित कवयित्री सुजाता देवी का निधन
केरल साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित कवयित्री बी सुजाता देवी का शनिवार को ...

बारिश के मौसम में अपने खान-पान में शामिल करें ये 11 खास ...

बारिश के मौसम में अपने खान-पान में शामिल करें ये 11 खास बातें...
बारिश के दिनों में स्वास्थ्य से लेकर खानपान में परिवर्तन और सतर्कता बेहद जरूरी है। विशेष ...

बारिश की बीमारी अमीबियासिस : जानिए कारण, लक्षण और कैसे करें ...

बारिश की बीमारी अमीबियासिस : जानिए कारण, लक्षण और कैसे करें उपचार
बारिश के मौसम आ गया है और इस मौसम में बीमारियों का फैलना आम बात है, क्योंकि यह मौसम ...