सिर्फ एक बार

NDND
मुझे आने दो

हँसते हुए अपने घर

बार मैं पहुँचना चाहता हूँ

तुम्हारी खिलखिलाहट के ठीक-ठीक करीब

जहाँ तुम मौजूद हो पूरे घरेलूपन के साथ

बिना परतदार हुए कैसे जी लेती हो इस तरह?

सिर्फ एक बार मुझे बुलाओ

खिलखिलाकर तहें खोलो मेरी

जान लेने दो मुझे

घर को घर की तरह

WD|
विजयशंकर चतुर्वेदी
सिर्फ एक बार।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :