समय गुजरना है बहुत

विजयशंकर चतुर्वेदी

NDND
बहुत गुजरना है समय

दसों दिशाओं को रहना है अभी यथावत

खनिज और तेल भरी धरती

घूमती रहनी है बहुत दिनों तक

वनस्पतियों में बची रहनी हैं औषधियाँ

चिरई-चुनगुन लौटते रहने हैं घोंसलों में हर शाम

परियाँ आती रहनी हैं हमारे सपनों में बेखौफ

बहुत हुआ तो किस्से-कहानियों में घुसे रहेंगे सम्राट

पर उनका रक्तपात रहना है सनद

और वक्त पर हमारे काम आना है

WD|
बहुत गुजरना है समय।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :