नौकरी पाने की उम्र

विजयशंकर चतुर्वेदी

NDND
जिनकी चली जाती है नौकरी पाने की उम्र

उनके आवेदन पत्र पड़े रह जाते हैं दफ्तरों में

तांत्रिक की अँगूठी भी

ग्रहों में नहीं कर पाती फेरबदल

नहीं आता बरसोंबरस कहीं से कोई जवाब

कमर से झुक जाते हैं वे

हालाँकि इतनी भी नहीं होती उमर

सब पढ़ा-लिखा होने लगता है बेकार

बढ़ी रहती हैं दाढ़ी की खूँटियाँ

कोई सड़क उन्हें नहीं ले जाती घर

वे चलते हैं सुरंगों में

और चाहते हैं कि फट जाए धरती

उनकी याद्दाश्त एक पुल है

कभी-कभार कोई साथी

नजर आता है उस पर बैठा हुआ

वे जाते हैं

और खटखटाते हैं पुराने बंद कमरे

वहाँ कोई नहीं लिपटता गले से

NDND
चायवाला बरसों से बूढ़ा हो रहा है वहीं

मगर बदल जाते हैं लड़के साल दर साल

जिनकी चली जाती है नौकरी पाने की उम्र

वे सोचते हैं नए लड़कों के बारे में

WD|
और पीले पड़ जाते हैं।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :