खोया-खोया चांद...


स्मृति आदित्य| Last Updated: रविवार, 5 अक्टूबर 2014 (15:46 IST)
नहीं जानती अं‍तरिक्ष के इस चमकीले चमत्कार से मेरा क्या संबंध है लेकिन जब भी कुछ बहुत अच्छा लिखने का मन होता है मेरी लेखनी की नोक पर बड़े अधिकार के साथ आ धमकता है। यूं तो मेरी कलम की कुछ बातें स्वयं मुझे हैरत में डाल देती है। 
 
समझ नहीं पाती कि क्यों गुलमोहर, नीम, पीपल,अमराई, गुलाबी रंग, सावन और फाल्गुन जैसे शब्द मेरे इतने आत्मीय है कि कुछ सोचने से पहले ही कागजी धरा पर कतारबद्ध आ बैठते हैं। क्यों मेरी हर कविता और आलेख में इन शब्दों की पंक्तियां खुद-ब-खुद सज उठती है? 
 
इनमें भी 'चांद' मेरा सबसे लाड़ला है ना सिर्फ शब्द से बल्कि समूचे स्वरूप में वह मुझे सबसे अधिक मोहता है। ऐसा भी नहीं है कि गुलजार को पढ़ने के बाद यह चस्का लगा हो। जब मैं कक्षा 7 में थी तब कहां गुलजार से परिचित थी? फिर क्यों मेरी पहली कविता चांद पर जन्मी? यह रिश्ता जन्मों पुराना लगता है। 
 
चांद, चंद्रमा, आफताब, उसके हर नाम की एक अनोखी छटा है चांद की ही तरह। चांद ने भी बिना कुछ कहे अब तक कितना कुछ कहा है मुझसे।
 
बचपन में सुनी कहानी के बाद तो अक्सर अकेले में छत पर जाकर उस 'बुढि़या' को पहचानने की को‍शिश करती थी जो कथानुसार चांद पर बैठकर सूत काता करती है। नानी सुनाती थी कि यह जो बादल है असल में उसी बुढि़या के घर से निकले रूई के गोले हैं। जब भी मेरा मन चांद को खूब ध्यान से देखने का होता, तब चांद बादलों की नर्म रजाई में छुप जाता। छुपे ही रहता।
 
बदली में चांद सबसे ज्यादा खूबसूरत और दिलकश लगता है। हल्का-हल्का, झीना-झीना परदा सरकाकर आकाश में थिरकता और दमकता चांद मुझे दुनिया का सबसे हसीन मित्र लगता है। आप इसे दृश्य कह लीजिए मेरे लिए तो एक पूरा जीवन और उसका समस्त सौन्दर्य समेटे 'दर्शन' है वह उसे  'दृश्य' नहीं कह सकती..  
 उन दिनों मैं चांद पर लिखी हर ग़ज़ल और फिल्मी गीत को एक डायरी में सजाया करती थी। पत्र-पत्रिकाओं से काटकर उन पर चांद की खूबसूरत तस्वीरें भी चिपकाया करती थी। 
 
आज वह डायरी पता नहीं कहां खो गई , डायरी के गीत खो गए, जिन स्मृतियों को सहेजने के लिए चांद-डायरी सृजित की थी वे स्मृतियां भी लगभग विलुप्त और निहायत ही बेमानी हो चली हैं लेकिन मेरा चांद!> > मेरा चांद ना खोया है, ना विलुप्त हुआ है और ना बेमानी। चांद जब तक आसमान में है इस धरा पर चांद को चाहने वाले भी हमेशा रहेंगे मेरी तरह। इस वक्त जो 'चांद-गीत' होंठों पर है- 'बदली से निकला है चांद...

सम्बंधित जानकारी

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :