Widgets Magazine

कैसे पहचानें अपने भाग्य के सितारे को, जानिए...

kundli


* क्या कहते हैं आपके भाग्य के सितारे, जानिए...

हर इंसान की तमन्ना होती है कि वो भाग्यशाली बने। हर इंसान भाग्यशाली बन जाता तो कोई मजदूर नहीं होता। लेकिन कुछ लोग भाग्य साथ लेकर ही जन्म लेते हैं और कोई भाग्य का निर्माता स्वयं होता है। कहने का तात्पर्य यह है कि वो स्वयं भाग्य अपने हाथों से संवारता है।

जन्म के समय ग्रहों की स्थिति से जाना जा सकता है कि वह भाग्यशाली होगा या अपने हाथों स्वयं भाग्य का निर्माण करेगा? उसके भाग्य में बाधा तो नहीं रहेगी आदि। जन्म लग्न से कैसे जानें कि वह बालक भाग्यशाली होगा या स्वयं भाग्य निर्माता? बाधा तो नहीं रहेगी आदि।

आइए जानें जन्म के समय ग्रहों की स्थिति स्वराशिस्थ या उच्च की हो या मित्रक्षैत्री होना चाहिए। कोई भी अपनी राशि में स्वक्षैत्री होता है, जैसे मेष, वृश्चिक का मंगल, वृषभ, तुला का शुक्र, मिथुन, कन्या का बुध, कर्क का चन्द्र, सिंह का सूर्य, गुरु, धनु मीन का,
शनि मकर, कुंभ का होता है। राहु, केतु छाया ग्रह होने से यहां उनको नहीं लिया गया है।
जैसे मंगल मकर का, शुक्र मीन का, बुध कन्या का, चन्द्र वृषभ का, सूर्य मेष का, गुरु कर्क का, शनि तुला का होता है। यहां पर राहु केतु छाया ग्रह होने से नहीं लिए गए है।

उच्च या स्वग्रही ग्रह नवम होकर लग्न, पंचम, दशम, चतुर्थ भाव में होना चाहिए। इन पर अशुभ ग्रहों की युति जैसे शनि, मंगल का साथ होना कालसर्प योग के अधीनस्थ होना बाधक रहता है। कोई भी ग्रह षष्ट, अष्टम, द्वादश में नहीं होना चा‍हिए, नहीं तो शुभ परिणामों में कमी आ जाएगी, क्योंकि ये भाव बाधक माने गए हैं।

जब स्वराशिस्थ या उच्च ग्रहों की महादशा या अंतररदशा चलती है तो ग्रह स्थिति अनुसार लाभ अवश्य देते हैं। यदि इनसे संबंधित रत्न धारण करें तो शीघ्र लाभ मिलता है।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

राशिफल

शुक्रवार के 11 प्रभावकारी उपाय एवं टोटके देंगे मनोवांछित ...

शुक्रवार के 11 प्रभावकारी उपाय एवं टोटके देंगे मनोवांछित फल...
कई बार ग्रह-नक्षत्र या दोष की वजह से व्यक्ति को मेहनत का पूर्ण फल प्राप्त नहीं हो पाता। ...

23 अप्रैल को है मां बगलामुखी जयंती, जानें कैसे करें

23 अप्रैल को है मां बगलामुखी जयंती, जानें कैसे करें साधना...
सोमवार, 23 अप्रैल 2018 को बगलामुखी जयंती है। मां बगलामुखी की साधना शत्रु बाधा से मुक्ति ...

बृहस्पतिवार को करें मंगल दोष के ये उपाय, दूर होगा तनाव...

बृहस्पतिवार को करें मंगल दोष के ये उपाय, दूर होगा तनाव...
ज्यादातर ज्योति‍षी का मानना है कि अगर कुंडली में मंगल कमजोर हो तो गुरुवार का दिन प्रतिकूल ...

सोना-चांदी शुभ क्यों होते हैं पूजा में...

सोना-चांदी शुभ क्यों होते हैं पूजा में...
चांदी को भी पवित्र धातु माना गया है। सोना-चांदी आदि धातुएं केवल जल अभिषेक से ही शुद्ध हो ...

वैशाख शुक्ल पक्ष का पाक्षिक पंचांग : 30 अप्रैल को है बुद्ध ...

वैशाख शुक्ल पक्ष का पाक्षिक पंचांग : 30 अप्रैल को है बुद्ध पूर्णिमा
'वेबदुनिया' के पाठकों के लिए 'पाक्षिक पंचाग' श्रृंखला में प्रस्तुत है वैशाख माह के शुक्ल ...

किस दिशा में प्राप्त होगी सफलता, जानिए अपनी कुंडली से...

किस दिशा में प्राप्त होगी सफलता, जानिए अपनी कुंडली से...
अक्सर अपनी जन्म पत्रिका का परीक्षण करवाते समय लोगों का प्रश्न होता है कि किस दिशा में ...

गंगा सप्तमी 2018 : आजमाएं ये 8 उपाय, होगा पापों का नाश...

गंगा सप्तमी 2018 : आजमाएं ये 8 उपाय, होगा पापों का नाश...
वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को गंगा सप्तमी कहा जाता है। इस वर्ष ये तिथि 22 ...

कर्मकांड करवाने वाले आचार्य व पुरोहित कैसे हो, आप भी ...

कर्मकांड करवाने वाले आचार्य व पुरोहित कैसे हो, आप भी जानिए...
कर्मकांड हमारी सनातन संस्कृति का अभिन्न अंग है। बिना पूजा-पाठ व कर्मकांड के कोई भी हिन्दू ...

23 से 30 अप्रैल 2018 : साप्ताहिक राशिफल

23 से 30 अप्रैल 2018 : साप्ताहिक राशिफल
आप प्रतिकूल परिस्थिति में भी गंभीर बने रहकर मानसिक रूप से राहत महसूस कर सकते हैं। सही ...

शनिदेव के 11 चमत्कारी टोटके एवं उपाय करेंगे कार्यसिद्धि...

शनिदेव के 11 चमत्कारी टोटके एवं उपाय करेंगे कार्यसिद्धि...
सूर्यपुत्र शनिदेव के अशुभ प्रभावों को दूर कर शुभ प्रभावों को प्राप्त करने हेतु कई उपाय ...