कुंडली के सप्तम भाव से जानिए अपने जीवनसाथी को....


विवाह योग्य आयु हो जाने पर प्रत्येक व्यक्ति के मन में यह जानने की उत्सुकता रहती है कि उसका भावी जीवनसाथी कैसा होगा। जीवनसाथी का निर्णय करने में वैसे तो कई कारक होते हैं लेकिन सबसे महत्त्वपूर्ण व मुख्य कारक एवं सप्तमेश होता है।

की स्थिति से जीवनसाथी के स्वभाव का पता चल जाता है। सप्तम भाव में यदि शुभ ग्रह जैसे गुरू, शुक्र, बुध, चन्द्र की राशि और शुभ ग्रह स्थित हों एवं सप्तमेश भी यदि शुभ स्थानों में शुभ ग्रह के प्रभाव में हो तो आपका जीवनसाथी सौम्य स्वभाव वाला, आपको प्रेम करने वाला व आपकी भावनाओं को समझने व उनकी कद्र करने वाला होता है।

इसके विपरीत यदि सप्तम भाव में क्रूर ग्रह जैसे शनि, मंगल, सूर्य की राशि हो या सप्तम भाव में राहु-केतु विराजनमान हों तो आपका जीवनसाथी क्रूर स्वभाव वाला व निष्ठुर होता है।

यदि सप्तमेश पर भी क्रूर ग्रहों का प्रभाव हो तब बात विवाह-विच्छेद तक पहुंच सकती है। सामान्यत: जनसामान्य में विवाह हेतु कुंडली-मिलान करते समय 18 गुण मिलान जैसी कई भ्रान्तियां प्रचारित हैं। केवल 18 गुण मिल जाने मात्र से दाम्पत्य-सुख की प्राप्ति सुनिश्चित कर लेना सर्वथा अनुचित है। दाम्पत्य-सुख की प्राप्ति के लिए सबसे महत्त्वपूर्ण कारक सप्तम भाव, सप्तमेश एवं शुक्र होता है। अत: दाम्पत्य-सुख एवं जीवनसाथी के बारे में विचार करते समय इन कारकों को सर्वाधिक महत्त्व देना चाहिए।
-ज्योतिर्विद् पं. हेमन्त रिछारिया
सम्पर्क: astropoint_hbd@yahoo.com

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

राशिफल

कैसा है शिव का स्वरूप, क्यों माने गए हैं स्वयंभू, जानिए...

कैसा है शिव का स्वरूप, क्यों माने गए हैं स्वयंभू, जानिए...
शिव यक्ष के रूप को धारण करते हैं और लंबी-लंबी खूबसूरत जिनकी जटाएं हैं, जिनके हाथ में ...

शिव को प्रिय है रुद्राक्ष, यहां जानिए 21 मुखी रुद्राक्ष के ...

शिव को प्रिय है रुद्राक्ष, यहां जानिए 21 मुखी रुद्राक्ष के देवी-देवता और उनके चमत्कारिक मंत्र
पौराणिक मान्यता के अनुसार रुद्राक्ष का उद्भव शिव के नेत्रों से हुआ है। ये रुद्राक्ष इतने ...

जब शिवजी माता पार्वती को सुना रहे थे अमरकथा, तब किसने सुन ...

जब शिवजी माता पार्वती को सुना रहे थे अमरकथा, तब किसने सुन ली यह कथा, जानिए
जब भगवान शंकर इस अमृतज्ञान को भगवती पार्वती को सुना रहे थे तो वहां एक शुक (हरा कठफोड़वा ...

रोचक जानकारी : यह है उम्र के 9 खास पड़ाव, जानिए कौन सा ग्रह ...

रोचक जानकारी : यह है उम्र के 9 खास पड़ाव, जानिए कौन सा ग्रह किस उम्र में करता है असर
लाल किताब अनुसार कौन-सा ग्रह उम्र के किस वर्ष में विशेष फल देता है इससे संबंधित जानकारी ...

कैसे होते हैं वृश्चिक राशि वाले जातक, जानिए अपना ...

कैसे होते हैं वृश्चिक राशि वाले जातक, जानिए अपना व्यक्तित्व...
जिन जातकों के जन्म समय जन्मपत्रिका में चन्द्रमा वृश्चिक राशि में स्थित होता है, उनकी ...

अखंड लक्ष्मी साधना : विदेश जाने का सपना है, जाते-जाते टल ...

अखंड लक्ष्मी साधना : विदेश जाने का सपना है, जाते-जाते टल जाते हैं योग... तो अवश्य आजमाएं
अखंड लक्ष्मी साधना प्रयोग 3 दिन का है। विशेष रूप से विदेश यात्रा जैसी मनोकामना पूर्ति के ...

नहीं बच सके भगवान भी शनिदेव से.. भोलेनाथ शिव को लगी शनि की ...

नहीं बच सके भगवान भी शनिदेव से.. भोलेनाथ शिव को लगी शनि की दशा, पढ़ें कथा
हे नाथ, कल सवा प्रहर के लिए आप पर मेरी वक्र दृष्टि रहेगी। शनिदेव की बात सुनकर भगवन शंकर ...

23 जुलाई 2018 का राशिफल और उपाय...

23 जुलाई 2018 का राशिफल और उपाय...
पुराना रोग उभर सकता है। जल्दबाजी न करें। चोट व दुर्घटना का भय है। कुसंगति से हानि होगी। ...

23 जुलाई 2018 : आपका जन्मदिन

23 जुलाई 2018 : आपका जन्मदिन
आप बेहद भाग्यशाली हैं कि आपका जन्म 23 को हुआ है। 23 का अंक आपस में मिलकर 5 होता है। 23 का ...

23 जुलाई 2018 के शुभ मुहूर्त

23 जुलाई 2018 के शुभ मुहूर्त
शुभ विक्रम संवत- 2075, अयन- दक्षिणायन, मास- आषाढ़, पक्ष- शुक्ल, हिजरी सन्- 1439, मु. मास- ...