सिरदर्द हो या हाजमा खराब, सांप का मीट खाइए!

पुनः संशोधित सोमवार, 17 सितम्बर 2018 (11:21 IST)
में का बड़े शौक से खाया जाता है। इससे कई तरह के पकवान बनाए जाते हैं, जबकि सांप के खून को चावल से बनने वाली में मिला कर पिया जाता है। लेकिन सांप का मीट खाने के फायदे क्या हैं?
उत्तरी वियतनाम में लोग समझते हैं कि सांप का मीट खाने से इंसान का शरीर अंदर से ठंडा रहता है, सिर दर्द में राहत मिलती है और यह आसानी से हजम हो जाता है। ये बाई प्रांत में एक रेस्त्रां में काम करने वाले शेफ डिन टिएन डुंग कहते हैं कि रेस्तरां वाले सांप के मीट को या तो भाप में पकाते हैं या फिर लेमनग्रास और मिर्ची के साथ फ्राई करके चावल से बनी वाइन के साथ परोसते हैं, जिसमें सांप का खून मिला होता है।
अपने एक हाथ में सांप के मुंह को पकड़े हुए डिन टिएन डुंग एक चाकू से उसके सिर को बाकी हिस्से से अलग कर देते हैं और उसका खून निकाल लेते हैं। फिर वे इसे राइस वाइन से भरे एक कप में डुबोते हैं। 32 साल के डिन टिएन डुंग कहते हैं, "हम सांप के सिर और केंचुली को छोड़ कर उसके हर हिस्से को इस्तेमाल करते हैं।"

स्थानीय लोगों का मानना है कि सांप वाली वाइन सिर्फ 50 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को पीनी चाहिए। रेस्तरां के मालिक डुओंग डुक डोक कहते हैं कि अगर नौजवान लोग इसे पीते हैं तो उनमें "कमर दर्द और नपुसंकता" की समस्या हो सकती है।
35 वर्षीय डांग कुओक खान बचपन से ही जंगलों में सांप पकड़ रहे हैं। वह सांप का मीट खाने के कई फायदे बताते हैं। उनका कहना है, "सांप का मीट बहुत अच्छा खाना है। यह लजीज होता है, सेहत के लिए अच्छा होता है, हड्डियों के लिए अच्छा होता है।"

दूसरी तरफ, जानवरों के लिए काम करने वाली संस्था फोर पॉज इंटरनेशनल के लिए काम करने वाली वन्यजीव विशेषज्ञ इओना डंगलर का कहना है कि सांपों को मारने और जंगल के इको सिस्टम को बिगाड़ने की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि दुनिया में होने वाला मीट का उत्पादन पर्याप्त है।
वह कहती हैं, "इन जीवों को खाने की प्लेट में परोसना या फिर उनसे पीने की कोई भी चीज बनाने की जो प्रक्रिया है, वह बहुत ही दर्दनाक है।। और यह सब ऐसे मकसद के लिए किया जा रहा है जिसकी कोई जरूरत ही नहीं है।"

एके/आईबी (एएफपी)

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :