2000 साल पहले यहां एक समृद्ध शहर था

पुनः संशोधित गुरुवार, 26 अप्रैल 2018 (12:17 IST)
बहुत ही कम लोग जानते हैं कि में मक्का, मदीना और तेल के साथ ही बहुत समृद्ध धरोहरें भी हैं। इन धरोहरों तक जाने की अब तक विदेशियों को अनुमति नहीं थी।
पौराणिक सभ्यता
सऊदी अरब का दक्षिण पश्चिमी अल उला प्राचीन काल में अहम कारोबारी ठिकाना हुआ करता था। यह शहर पुरातत्व संबंधी अवशेषों से भरा पड़ा है। ऐसी ही धरोहरों में यह गुंबद भी शामिल हैं।

111 कब्रें
अल उला के पास ही मदा इन में भी एक आर्कियोलॉजिकल साइट है। यह 2008 से है। सन 2000 में यहां प्राचीन काल की 111 कब्रें मिलीं। कब्रों को चट्टान काटकर उसके भीतर बनाया गया था।
हैरतंगेज इंजीनियरिंग
रेगिस्तान के बीच में हरा भरा इलाका। करीब 2000 साल पहले यहां रहने वाले लोग सिंचाई और खेती के एक्सपर्ट थे। नबातेन लोगों को हाइड्रॉलिक्स और फव्वारे बनाने का विशेषज्ञ माना जाता है। आज कई सदियों बाद भी यह बाग हरा भरा है।

संदेश छोड़ गए
यहां रहने वाला समुदाय चट्टानों पर अपना संदेश भी छोड़ गया है। अभी तक यह किसी की समझ में नहीं आया है कि इन संदेशों का अर्थ क्या है।
विरासत बचाने की कोशिश
2018 में सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने इन विरासतों को बचाने के लिए फ्रांस के साथ समझौता किया। रेतीली हवाओं के चलते ये धरोहरें धीरे धीरे नष्ट होती जा रही हैं।

ऊपर से नजारा
पूरे इलाके का मुआयना करने के लिए एरियल सर्वे जरूरी था। दो साल तक अब पुरातत्व विज्ञानी इस इलाके की व्यापक समीक्षा करेंगे। हेलिकॉप्टरों, ड्रोनों और सैटेलाइटों का इस्तेमाल किया जा रहा है।
बर्बाद शहर का वीजा
अब तक बहुत ही कम और हाई प्रोफाइल लोगों को यहां आने का वीजा मिला हैं। इनमें ब्रिटेन के राजकुमार चार्ल्स जैसे नाम शामिल हैं। अब सऊदी अरब पहली बार आम लोगों को अल उला के लिए वीजा देने की तैयारी कर रहा है।

पीआर एक्सरसाइज
मार्च में सऊदी अरब ने पहली बार पत्रकारों के एक ग्रुप को अल उला का दौरा कराया। महिला पत्रकारों के लिए हिजाब पहनने की शर्त भी नहीं थी। हो सकता है कि टूरिस्टों को भी ऐसी छूट दी जाए। यह सऊदी अरब के लिए अपनी छवि बेहतर करने का जरिया है।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

मुंगेर के निसार हैं 'लावारिस शवों के मसीहा'

मुंगेर के निसार हैं 'लावारिस शवों के मसीहा'
जहां धर्म और मजहब के नाम पर हिंदू और मुसलमानों के बीच तनाव की खबरें सुर्खियों में आती ...

शवों के साथ एकांत का शौक रखने वाला यह तानाशाह

शवों के साथ एकांत का शौक रखने वाला यह तानाशाह
चार अगस्त, 1972, को बीबीसी के दिन के बुलेटिन में अचानक समाचार सुनाई दिया कि युगांडा के ...

तो क्या खुल गया स्टोनहेंज का राज?

तो क्या खुल गया स्टोनहेंज का राज?
शायद आपने फिल्मी गानों में इन रहस्यमयी पत्थरों को देखा हो। इंग्लैंड में प्राचीन पत्थरों ...

कैंसर ने इरफान खान को बदल डाला

कैंसर ने इरफान खान को बदल डाला
अपने एक्टिंग से बॉलीवुड और हॉलीवुड को हिलाने वाले इरफान खान ने कैंसर की खबर के बाद पहला ...

दिल्ली का जीबी रोड: जिस सड़क का अंत नहीं

दिल्ली का जीबी रोड: जिस सड़क का अंत नहीं
दिल्ली की एक सड़क है, जिसका नाम सुनते ही लोगों की भौंहें तन जाती हैं और वे दबी जुबान में ...

केरल में दर्द का सैलाब, केंद्रीय मंत्री बोले- राष्ट्रीय ...

केरल में दर्द का सैलाब, केंद्रीय मंत्री बोले- राष्ट्रीय आपदा घोषित करने का प्रावधान नहीं
तिरुवनंतपुरम। केंद्रीय मंत्री अल्फोंस कन्ननथानम ने केरल की बाढ़ को राष्ट्रीय आपदा घोषित ...

यह कैसा सुशासन : हत्या में शामिल होने के शक में भीड़ ने ...

यह कैसा सुशासन : हत्या में शामिल होने के शक में भीड़ ने महिला के साथ मारपीट कर निर्वस्त्र घुमाया
आरा। बिहार के भोजपुर जिले में एक युवक की हत्या में शामिल होने के संदेह में उग्र भीड़ ने ...

भारत-इंग्लैंड के बीच तीसरे टेस्ट मैच के तीसरे दिन की 10 खास ...

भारत-इंग्लैंड के बीच तीसरे टेस्ट मैच के तीसरे दिन की 10 खास बातें
नॉटिंघम में खेले जा रहे तीसरे टेस्ट मैच का तीसरा दिन भारतीय बल्लेबाजों के नाम रहा। कप्तान ...