Widgets Magazine

पहचान में आता है भेड़ों को चेहरा

पुनः संशोधित गुरुवार, 9 नवंबर 2017 (11:23 IST)
एक स्टडी के मुताबिक भेड़ों में चेहरे पहचानने की क्षमता होती है। वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि इस स्टडी की मदद से मस्तिष्क से जुड़ी बीमारियों के बारे में और भी अधिक जानकारी जुटायी जा सकेगी।
तस्वीरों में नजर आ रही इन भेड़ों को महज ऊन देने वाला नहीं समझा जाना चाहिए क्योंकि ये भेड़ें आपका चेहरा भी पहचान सकती हैं। रॉयल सोसाइटी ओपन साइंस पत्रिका में छपे एक अध्ययन के मुताबिक भेड़ों में इंसानों की तरह ही चेहरों की पहचान करने की क्षमता होती है। स्टडी के मुताबिक, वैज्ञानिकों ने आठ भेड़ों का परीक्षण दिया और इसके बाद देखा कि ये पशु पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा, फिल्म हैरी पॉटर की अभिनेत्री एमा वॉटसन, ब्रिटेन की एक टीवी होस्ट और अमेरिकी अभिनेता को पहचानने में सफल रही हैं।
पिछले शोध बताते हैं कि भेड़ उनके ईदगिर्द रहने वाले इंसानों की पहचान कर लेते हैं। लेकिन इस बारे में अब तक कोई जानकारी नहीं थी कि क्या ये अंजान या नये चेहरों को भी पहचान पाते हैं। इस प्रयोग में वैज्ञानिकों ने भोजन का इस्तेमाल कर तस्वीरों के जरिए भेड़ों को इन लोगों से पहचान करवाने की कोशिश की। इस पूरे प्रयोग में भेड़ों को दस बार ये चेहरे दिखाये गये और दिलचस्प है कि दस में से 8 बार ये सही चेहरा पहचान पाए।

शोधकर्ताओं ने यह भी जांचा कि क्या ये भेड़ें अलग-अलग कोणों से तस्वीरों की पहचान कर पाती है। शोधकर्ताओं के मुताबिक इस पूरे टास्क में भेड़ों को 66 फीसदी सफलता मिली। जब इस टास्क में भेड़ों को उनके ईदगिर्द रहने वालों की तस्वीरें दिखायी, तो भेड़ 72 फीसदी सफल रहे। स्टडी बताती है कि भेड़ों को न केवल अंजाने चेहरों की पहचान करने के लिए ट्रेंनिंग दी जा सकती है, साथ ही इनके आसपास रहने वाले लोगों की पहचान भी टू-डी इमेज के जरिये करायी जा सकती है।
चेहरा पहचानने की काबिलियत खास तौर पर इंसानों में होती है। भेड़ों के अलावा, चिंपांजी, गाय, बकरियां, कबूतर अपने परिवारों की पहचान कर लेते हैं। वहीं कुछ स्टडी बताती हैं कि घोड़े, कुत्ते, भेड़ आदि पशु अन्य प्रजातियों के चेहरे भी पहचान सकते हैं। वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि भेड़ों की इस स्टडी की मदद न्यूरोडिजनरेटिव बीमारियां मसलन ह्यूटिंगटन रोगों में की जा सकेगी। रिसर्चर उम्मीद कर रहे हैं कि इस स्टडी से सामान्य मस्तिष्क को समझने में मदद मिलेगी जिसके बाद यह समझना आसान हो सकता है कि बीमारी ग्रस्त दिमाग कैसे काम करता है।
- चेस विंटर/एए

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

इस पैंतरेबाजी से तो संसद चलने से रही

इस पैंतरेबाजी से तो संसद चलने से रही
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का एक दिवसीय उपवास संपन्न हो गया। उनके साथ ही उनके मंत्रियों ...

इन देशों में नहीं होती रविवार की छुट्टी

इन देशों में नहीं होती रविवार की छुट्टी
5 या 6 दिन के कामकाजी हफ्ते के बाद साप्ताहिक छुट्टियों का बड़ा महत्व है। बहुत से काम हैं ...

क्यों कहते हैं, जानवरों की तरह मत चीखो?

क्यों कहते हैं, जानवरों की तरह मत चीखो?
दुनिया में सबसे ज्यादा शोर इंसान या उसकी गतिविधियों से पैदा होता है तो भी हम अक्सर कहते ...

क्या यही 'एक भारत, श्रेष्ठ भारत' है ?

क्या यही 'एक भारत, श्रेष्ठ भारत' है ?
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री मोदी जहां ‘एक भारत, श्रेष्ठ भारत’का नारा देते नहीं थकते वहीं ...

बलात्कार पर धर्म की राजनीति क्यों?

बलात्कार पर धर्म की राजनीति क्यों?
उत्तर प्रदेश और कश्मीर में गैंग रेप के मामलों के बाद जिस तरह का माहौल बना है, उसमें ...

सावधान, हर 15 मिनट में एक बच्चा होता है यौन अपराध का शिकार

सावधान, हर 15 मिनट में एक बच्चा होता है यौन अपराध का शिकार
नई दिल्ली। बाल अधिकारों के लिए काम करने वाले गैर सरकारी संगठन क्राई (चाइल्ड राइट्स एंड ...

नकदी संकट पर एक ही दिन में बात से पलटा एसबीआई रिसर्च

नकदी संकट पर एक ही दिन में बात से पलटा एसबीआई रिसर्च
मुंबई। एसबीआई रिसर्च ने तंत्र में 70 हजार करोड़ रुपए की कमी बताने के एक ही दिन बाद इससे ...

पीएम मोदी ने पाक पीएम अब्बासी से नहीं की मुलाकात

पीएम मोदी ने पाक पीएम अब्बासी से नहीं की मुलाकात
लंदन। विदेश मंत्रालय ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रमंडल देशों के ...