टी20 में निर्णायक जंग के लिए उतरेंगे भारत और ऑस्ट्रेलिया

पुनः संशोधित गुरुवार, 12 अक्टूबर 2017 (18:08 IST)
हैदराबाद। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच क्रिकेट के सबसे फटाफट स्वरूप ट्वंटी 20 में आखिरी जंग की बारी आ गई है और दोनों के बीच शुक्रवार को यहां होने वाले तीसरे ट्वंटी 20 मैच से सीरीज का फैसला होगा।






भारत ने रांची में वर्षा बाधित पहला मैच नौ विकेट से जीता था जबकि ऑस्ट्रेलिया ने जवाबी प्रहार करते हुए गुवाहाटी में दूसरा मैच आठ विकेट से जीतकर सीरीज में 1-1 से बराबरी कर ली। हैदराबाद में अब सीरीज का फैसला होना है। ऑस्ट्रेलिया की पूरी कोशिश होगी कि वह इस मैच को जीते और दौरे का समापन जीत के साथ करे और भारत से एकदिवसीय सीरीज की हार का बदला चुकाए।




भारतीय टीम गुवाहाटी में दूसरे मैच में अपनी लय से भटक गई थी, जिसका नतीजा उसे करारी शिकस्त के साथ भुगतना पड़ा था। भारतीय बल्लेबाजों ने गैर जिम्मेदाराना अंदाज में अपने विकेट गंवाए थे और किसी ने भी पिच के मिजाज को समझने की कोशिश नहीं की थी।






लम्बे समय बाद ऐसा देखने में आया था कि भारत के शीर्ष चार बल्लेबाजों ने एक ही गेंदबाज को अपने विकेट दे डाले। भारतीय बल्लेबाजों के पास बाएं हाथ के तेज गेंदबाज जैसन बेहरनडोर्फ़ की गेंदों का कोई जवाब नहीं था।




रोहित शर्मा, कप्तान विराट कोहली, मनीष पांडेय और शिखर धवन जैसे दिग्गजों ने अपने विकेट अपना दूसरा ट्वंटी 20 मैच खेल रहे बेहरनडोर्फ़ को दिए थे। यह वाकई हैरान करने वाली बात है कि कैसे ये चार दिग्गज बल्लेबाज अपने विकेट एक ही गेंदबाज को देकर पैवेलियन लौट चले।

दोनों देशों के बीच हुए दो ट्वंटी 20 मैचों में एक दिलचस्प तथ्य है कि जहां पहले मैच में ऑस्ट्रेलिया ने 118
रन बनाए थे तो वहीं
दूसरे मैच में भारत ने 118
रन बनाए थे। फटाफट क्रिकेट के महारथियों से भरी दोनों टीमों से इतने छोटे स्कोर के मैच देखना आश्चर्यजनक है। ऑस्ट्रेलिया को पहले मैच में संघर्ष करना पड़ा जबकि दूसरे मैच में भारत को संघर्ष करना पड़ा।






भारतीय कप्तान विराट को इस बात से सतर्क रहना होगा कि वे विपक्षी कप्तान वार्नर के दूसरे घर हैदराबाद में खेल रहे हैं। वार्नर आईपीएल टीम सनराइजर्स हैदराबाद के कप्तान रहे हैं और इस मैदान को बेहतर जानते हैं। दूसरा मैच जीतने के बाद वार्नर एंड कंपनी का हौसला पहले से ही बुलंद हो गया है और बेहरनडोर्फ़ की गेंदों से मिले टॉनिक के दम पर वे सीरीज जीतने के लिए पूरा जोर लगा देंगे।






एकदिवसीय सीरीज में भी ऐसी स्थिति आई थी जब ऑस्ट्रेलिया ने चौथा वनडे जीतकर भारत को चौंका दिया था लेकिन विराट सेना ने पांचवें मैच में जवाबी प्रहार करते हुए ऑस्ट्रेलिया को धो डाला था और सीरीज 4-1 से जीत ली थी। ठीक यही स्थिति अब ट्वंटी 20 सीरीज में भी आ गई है और भारत को जवाबी प्रहार करना है।




गुवाहाटी की हार के बाद कहा गया कि भारत का दिन ख़राब था जब न तो उसके बल्लेबाज चले और न ही उसके गेंदबाज चले। विराट की सफल कप्तानी भी उस मैच में उखड़ी रही। अब विराट एंड कंपनी को यही साबित करना है कि वाकई वह दिन टीम इंडिया के लिए ख़राब था और अब टीम उस झटके से उबरकर अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने के लिए तैयार है।






दिवाली इस मैच से मात्र छह दिन दूर है और देशवासियों को पूरी उम्मीद है कि विराट सेना उन्हें कल ही दिवाली का जश्न मनाने का मौका देगी। सुप्रीम कोर्ट ने बेशक पटाखों पर बैन लगाया है, लेकिन भारतीय बल्लेबाजों के बल्ले से चौके-छक्के रूपी पटाखे जमकर फूटने चाहिए ताकि कल की रात दिवाली की रात बन जाए। (वार्ता)

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :