सीके खन्ना बन सकते हैं बीसीसीआई के कार्यवाहक अध्यक्ष

नई दिल्ली| पुनः संशोधित शनिवार, 25 मार्च 2017 (09:01 IST)
(बीसीसीआई) में वरिष्ठ उपाध्यक्ष सीके खन्ना बोर्ड के कार्यवाहक अध्यक्ष बन सकते हैं। उच्चतम न्यायालय ने बीसीसीआई और राज्य संघों के सदस्यों के आधिकारिक पद संभालने के लिए अयोग्यता के मुद्दे पर निर्णय देते हुए शुक्रवार को स्पष्ट किया कि यदि किसी व्यक्ति ने बीसीसीआई में नौ साल तक पद संभाला है तो वह फिर बीसीसीआई में किसी पद को संभालने के लिए अयोग्य है लेकिन वह किसी राज्य संघ में पद संभाल सकता है।








इसी प्रकार यदि किसी व्यक्ति ने राज्य संघ में नौ साल तक पद संभाला है तो वह फिर अपने राज्य संघ में किसी पद को संभालने के लिए अयोग्य है लेकिन वह बीसीसीआई में पद संभाल सकता है।






इन परिस्थितियों में अब यह कहा जा रहा है कि बीसीसीआई के वरिष्ठ उपाध्यक्ष सीके खन्ना बोर्ड के कार्यवाहक अध्यक्ष बन सकते हैं क्योंकि उनके बीसीसीआई में अभी साढ़े छह साल ही पूरे हुए हैं। सुप्रीम कोर्ट ने बीसीसीआई के अध्यक्ष अनुराग ठाकुर को लोढा समिति की सिफारिशों को लागू न करने को लेकर बर्खास्त कर दिया था।






उच्चतम न्यायालय ने बीसीसीआई को चलाने के लिए चार सदस्यों की प्रशासकों की समिति नियुक्त की थी जबकि बोर्ड के दैनिक कामकाज की जिम्मेदारी बोर्ड के सीईओ राहुल जौहरी देख रहे हैं।






उच्चतम न्यायालय ने बीसीसीआई के अध्यक्ष अनुराग ठाकुर और सचिव अजय शिर्के को बर्खास्त किए जाने के अपने फैसले में यह साफ कहा था कि बोर्ड के सबसे वरिष्ठ उपाध्यक्ष अध्यक्ष पद के कर्तव्यों का निर्वाह कर सकते हैं। इसके परिप्रेक्ष्य में सीके खन्ना को कार्यवाहक अध्यक्ष की जिम्मेदारी मिल सकती है। हालांकि उच्चतम न्यायालय के शुक्रवार के फैसले के बाद खन्ना को बधाईयों का सिलसिला शुरु हो गया है।




इस आधार पर देखा जाए तो झारखंड के अमिताभ चौधरी और हरियाणा के अनिरुद्ध चौधरी भी क्रमश: संयुक्त सचिव और कोषाध्यक्ष के पद पर काम कर सकते हैं क्योंकि इनके भी बीसीसीआई में नौ साल पूरे नहीं हुए
हैं। (वार्ता)

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine



और भी पढ़ें :