रेलवे में करना चाहते हैं नौकरी तो बड़ी खबर

Last Updated: गुरुवार, 22 फ़रवरी 2018 (11:52 IST)
नई दिल्ली। रेलवे भर्ती परीक्षा में आवेदन शुल्क में बढ़ोतरी कर दी गई है, लेकिन इस पर रेलमंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि अगर परीक्षा देता है तो यह बढ़ी हुई फीस उसे बाद में वापस कर दी जाएगी। रेल मंत्री ने यह भी बताया कि भर्ती के लिए परीक्षा कम्प्यूटर के जरिए ही होगी और यह 15 भाषाओं में दी जा सकेगी।

बढ़े हुए शुल्क पर रेलमंत्री ने कहा कि कई बार अगर शुल्क न रखा जाए तो बड़ी संख्या में ऐसे लोग भी आवेदन करते हैं, जो गंभीर नहीं होते और उस स्थिति में यह होता हे कि परीक्षा के दिन ऐसे परीक्षा देने के लिए आते ही नहीं हैं। उस स्थिति में परीक्षा के लिए सरकार ने जो इंतजाम किए होते हैं, उन पर खर्च हुई राशि व्यर्थ हो जाती है।
इस कारण रेलवे ने यह फैसला लिया है कि अनुसूचित जाति व जनजाति समेत जिन वर्गों को पहले इस तरह की परीक्षा के लिए आवेदन के साथ कोई राशि नहीं देनी होती थी, उन्हें अब 250 रुपए की फीस देनी होगी जबकि अनारक्षित श्रेणी के उम्मीदवारों को 500 रुपए की राशि आवेदन के साथ देनी पड़ेगी।

रेलमंत्री ने कहा कि आवेदन करने वालों में से जितने उम्मीदवार परीक्षा देंगे, उनमें से आरक्षित श्रेणी के उम्मीदवारों को उनकी पूरी फीस यानी 250 रुपए वापस कर दी जाएगी जबकि अनारक्षित श्रेणी के उम्मीदवारों को 500 रुपए के शुल्क में से 400 रुपए वापस कर दिए जाएंगे। इस तरह से अनारक्षित श्रेणी के उम्मीदवारों के लिए रेलवे भर्ती में आवेदन करने का एक तरह से पहले की तरह ही महज 100 रुपए शुल्क होगा जबकि आरक्षित श्रेणी के उम्मीदवारों को 250 रुपए वापस मिल जाएंगे। (एजेंसियां)


और भी पढ़ें :