Widgets Magazine

चटपटी बाल कविता : जीवन सुलेख...


 
 
 - लक्ष्मीनारायण भाला 'लच्छू भैया'
 
समतल से बनाती,
रेखा हो सीधी खड़ी।
मात्राएं उससे आधी हो,
ऊपर-नीचे, गोल-झुकी।।1।।
 
मध्य भाग से अंग जुड़े हो,
सदा-सर्वदा ही छोटे। 
सुगठित हो आकार सभी के,
पर नहीं रेखा से मोटे।।2।।।
 
शीर्ष भाग पर स्नेह-सूत्र से,
अक्षर जोड़े, शब्द रचे।
दो शब्दों की दूरी नापे,
रेखा की ऊंचाई से।।3।।
 
सीधी रेखा के समान जो,
स्वाभिमान से हुए खड़े।
स्नेह-सूत्र से बंधते जाते, 
सार्थक जीवन वे जीते।।4।।

साभार - देवपुत्र 
Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine