भगवान श्रीकृष्ण की जन्म कुंडली : विलक्षण सितारे

आइए, जानते हैं श्री कृष्ण की प्रचलित जन्म कुंडली के आधार पर कैसे हैं भगवान श्रीकृष्ण के जगमगाते सितारे। 
उच्च के 6 ग्रह, लग्न में एक स्वराशि का होने से श्रीकृष्ण सामने वाले की मन:स्थिति को जानने वाले तथा पराक्रमी बने।
 
पराक्रम भाव में उच्च का एकादशेश व अष्टम भाव का स्वामी होने से श्रीकृष्ण से मृत्यु पाने वाले उनकी मृत्यु का कारण भी बने। पंचम भाव में उच्चस्थ बुध के साथ राहु ने आपको अत्यंत विलक्षण बुद्धि तथा गुप्त विद्याओं का जानकार बनाया। 
 
षष्ठ भाव में उच्चस्थ शनि होने से  श्रीकृष्ण प्रबल शत्रुहंता हुए। सप्तमेश मंगल उच्च होकर नवम भाव है अत: भाग्यशाली रहे। चतुर्थेश सूर्य स्वराशि में होने से हर समस्याओं का समाधान श्रीकृष्ण कर सके। उनके समक्ष बड़े से बड़ा शत्रु भी न टिक सका। सर्वत्र सम्मान के अधिकारी बने। 
 
उच्च के चन्द्र से चतुर, चौकस, चमत्कारी, अत्यंत तेजस्वी, दिव्य और अनेक विलक्षण विद्याओं के जानकार रहे। 

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

आत्महत्या करने के बाद क्या होता है आत्मा के साथ, जानिए ...

आत्महत्या करने के बाद क्या होता है आत्मा के साथ, जानिए रहस्य...
पहली बात तो यह कि आत्महत्या शब्द ही गलत है, लेकिन यह अब प्रचलन में है। आत्मा की किसी भी ...

आश्चर्य .... एक सियार सिंगी में है कई समस्याओं का समाधान

आश्चर्य .... एक सियार सिंगी में है कई समस्याओं का समाधान
क्या आप जानते हैं कि प्राचीन काल में घर में कई शुभ वस्तुएं रखी जाती थीं, उनमें से एक ...

चमत्कारिक लाभ देता है नवग्रह कवच का पाठ, प्रतिदिन अवश्य ...

चमत्कारिक लाभ देता है नवग्रह कवच का पाठ, प्रतिदिन अवश्य पढ़ें...
ज्योतिष में नवग्रह का बहुत महत्व है। कुंडली में अगर ग्रहों का अशुभ प्रभाव या ग्रहदोष हो ...

पुष्पक विमान की खासियत जानकर रह जाएंगे हैरान

पुष्पक विमान की खासियत जानकर रह जाएंगे हैरान
रामायण के अनुसार रावण के पास कई लड़ाकू विमान थे। पुष्पक विमान के निर्माता विश्वकर्मा थे। ...

महाभारत के युद्ध में लाखों सैनिकों को भोजन कौन और कैसे ...

महाभारत के युद्ध में लाखों सैनिकों को भोजन कौन और कैसे कराता था?
श्रीकृष्ण की एक अक्षौहिणी नारायणी सेना मिलाकर कौरवों के पास 11 अक्षौहिणी सेना थी तो ...

19 जून 2018 : आपका जन्मदिन

19 जून 2018 : आपका जन्मदिन
दिनांक 19 को जन्मे व्यक्ति का मूलांक 1 होगा। आप राजसी प्रवृत्ति के व्यक्ति हैं। आपको ...

19 जून 2018 के शुभ मुहूर्त

19 जून 2018 के शुभ मुहूर्त
शुभ विक्रम संवत- 2075, अयन- उत्तरायन, मास- ज्येष्ठ, पक्ष- शुक्ल, हिजरी सन्- 1439, मु. ...

जैन धर्म में श्रुत पंचमी का महत्व, जानिए...

जैन धर्म में श्रुत पंचमी का महत्व, जानिए...
ज्येष्ठ माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को जैन धर्म में 'श्रुत पंचमी' का पर्व मनाया जाता ...

करण क्या है और किस करण में नहीं करें शुभ कार्य?

करण क्या है और किस करण में नहीं करें शुभ कार्य?
हिंदू पंचांग के पंचांग अंग है:- तिथि, वार, नक्षत्र, योग और करण। उचित तिथि, वार, नक्षत्र, ...

16 जुलाई तक सूर्य रहेंगे मिथुन राशि में, कैसा होगा समय 12 ...

16 जुलाई तक सूर्य रहेंगे मिथुन राशि में, कैसा होगा समय 12 राशियों के लिए...
15 जून 2018 को सूर्य ने मिथुन राशि में प्रवेश कर लिया है। सूर्य के इस गोचर का 12 राशियों ...

राशिफल