IPL-10: हैदराबाद को भारी पड़ी वॉर्नर की रणनीतिक भूल

बेंगलुरु। गत चैंपियन को उसके की एक रणनीतिक भूल अंत में भारी पड़ गई और उसे से एलिमिनेट हो जाना पड़ा।



हैदराबाद ने के खिलाफ एलिमिनेटर में कल 7 विकेट पर 128 रन का स्कोर बनाया था। बारिश आने के कारण जब दोबारा खेल शुरू हुआ तो कोलकाता के सामने छह ओवर में 48 रन का लक्ष्य रखा गया, जिसे उसने चार गेंद शेष रहते हासिल कर लिया।




इस मुकाबले को जीतने के लिए हैदराबाद के पास एक ही मौका था कि वह विकेट ले और कोलकाता पर दबाव बनाए रखे। पहली सात गेंदों में हैदराबाद की टीम कुछ हद तक सफल भी रही और उसने इस दौरान तीन विकेट निकाल दिए लेकिन इसके बाद कोलकाता के कप्तान ने 19 गेंदों पर नाबाद 32 रन ठोंककर अपनी टीम को क्वालिफायर दो में पहुंचा दिया।

यह थी हैदराबाद के कप्तान डेविड वॉर्नर की रणनीतिक भूल
* 6 ओवर के खेल में हैदराबाद की ओर से एक गेंदबाज को दो ओवर मिलने थे
* नियमानुसार हैदराबाद के चार गेंदबाजों को एक-एक ओवर मिलना था
* पहला ओवर आईपीएल-10 के सबसे सफल गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार ने डाला
* भुवनेश्वर कुमार 11 रन दिए, क्रिस लिन को आउट किया और यूसुफ पठान भी रनआउट हो गए
* वॉर्नर ने भुवनेश्वर को दूसरा ओवर करने दिया और अफगानिस्तान राशिद खान से 2 ओवर डलवाए
* वॉर्नर यदि भुवनेश्वर पर भरोसा करके दूसरा ओवर डलवाते तो वे विकेट निकाल लेते
* भुवनेश्वर ने तीसरा ओवर डाला होता तो वह कोलकाता पर दबाव बना सकते थे
* राशिद ने अपने 2 ओवर में भले 11 रन ही दिए लेकिन वह कोई विकेट नहीं निकाल पाए
* भुवनेश्वर ने आईपीएल-10 में कुल 26 विकेट हासिल किए
* टीम के लिए भुवनेश्वर मैच विजेता का काम कर सकते थे





डैथ ओवरों में उनकी गेंदबाजी सर्वश्रेष्ठ रही थी और छह ओवरों का खेल डैथ ओवरों जैसा ही था लेकिन वॉर्नर ने उनका एक ओवर रोककर न केवल टीम का नुकसान किया, बल्कि टीम को एलिमिनेट भी करा दिया। सनराइजर्स हैदराबाद की टीम को आईपीएल के इस संस्करण का संभावित विजेता माना जा रहा था लेकिन पहले बारिश ने उसकी उम्मीदों पर पानी फेरा और फिर कप्तान वॉर्नर की थोड़ी सी चूक ने उसे बाहर का रास्ता दिखा दिया।

हैदराबाद ने टॉस हारने के बाद बल्लेबाजी की चुनौती स्वीकार करके 7 विकेट पर 128 रन का स्कोर ही बनाया था। मैच की जब आखिरी दो गेंदें फेंकी जानी शेष थी, तभी तेज बारिश आ गई। किसी तरह 2 गेंदें फेंकी गई और एक पारी खत्म हुई लेकिन उसके बाद मैच में नाटकीय लम्हें आते रहे। कभी 11 बजे तो कभी 12 बजे अंपायर मैच शुरु करने और मैदान का मुआयना करने का ऐलान करते रहे लेकिन बारिश थमने का नाम ही नहीं ले रही थी।

चिन्नास्वामी स्टेडियम में रात 1 बजे बाद किसी तरह मैदान को सुखाया गया और डकवर्थ-लुईस नियम के तहत कोलकाता को 6 ओवर में 48 रन का टारगेट दिया गया था। भुवनेश्वर के पहले ही ओवर में जब कोलकाता ने 2 विकेट गंवा दिए, तब ड्रेसिंग रूम में खड़े कोलकाता नाइटराइडर्स के मालिक शाहरुख खान का चेहरा उतर गया था और उन्हें आशंका सताने की कहीं आज टीम आईपीएल से बाहर न हो जाए लेकिन कप्तान गौतम गंभीर की नाबाद 32 रनों की पारी ने कोलकाता को नया जीवन दे डाला।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine



और भी पढ़ें :