16 साल की लड़की ने इंस्टाग्राम पर पूछा खौफनाक सवाल और कर लिया सुसाइड

पुनः संशोधित बुधवार, 15 मई 2019 (21:05 IST)
युवाओं के जीवन सोशल मीडिया एक महत्वपूर्ण हिस्सा बनता जा रहा है। इस वर्चुअल दुनिया में डुबे युवा असली जिंदगी छोड़कर बहुत ही खतरनाक रास्ते पर चल पड़े हैं। सोशल मीडिया अन्य दूसरे नशे से ज्यादा खतरनाक नशा सिद्ध हो रहा है। रिचर्स में सामने आया है कि सोशल मीडिया युवाओं में उनकी नकारात्मक छवि को बढ़ावा दे रहा है। ऐसा ही एक मामला मलेशिया में सामने आया है। यहां एक 16 साल की लड़की ने आत्महत्या कर ली।
मलेशिया में 16 साल की एक लड़की द्वारा आत्महत्या करने के बाद सनसनी फैल गई है। लड़की ने आत्महत्या करने से पहले सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर सर्वे कर लोगों की राय जाननी चाही थी। लड़की ने मैसेज में लिखा था- 'यह वास्तव में महत्वपूर्ण, हेल्प मी चूज डी / एल।' उस लड़की का नाम जाहिर नहीं किया गया है, लेकिन उसके करीबियों ने पुलिस को बताया कि डी का मतलब डेथ यानी मौत और एल का मतलब लाइफ यानी जिंदगी था।
इस सर्वे में 69 प्रतिशत लोगों ने डी को वोट किया। इस सर्वे को करने के कई घंटे के बाद लड़की ने 13 मई को छत से छलांग लगाकर आत्महत्या कर ली।

मामला गर्माने के बाद मलेशिया के युवा और खेल मंत्री सैयद सद्दीक सैयद अब्दुल रहमान ने अधिकारियों को इसकी जांच के लिए आदेश दिए हैं। मंत्री का कहना है कि यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि एक युवा की जान इस तरह चली गई। उन्होंने यह भी कहा कि इस मामले के सामने आने के बाद देश में लोगों के मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दे को भी गंभीरता से देखने की जरूरत है।
पेनांग में एक वकील और सांसद रामकृपाल सिंह ने कहा कि अगर अधिकांश लोगों ने इंस्टाग्राम अकाउंट पर जान नहीं लेने नहीं सलाह दी होती, तो वह लड़की आज जिंदा होती?

क्या उसने ऐसा करने के लिए लोगों की सलाह पर ध्यान दिया होगा? उन्होंने आगे कहा कि लड़की को मरने के लिए जिन लोगों ने प्रेरित किया वे उसे आत्महत्या के लिए उकसाने के दोषी हो सकते हैं।

रामकृपाल ने कहा कि जिन लोगों ने पोल में मौत के लिए मतदान किया, वे इस आत्महत्या के लिए जिम्मेदार हो सकते हैं। रामकृपाल ने कहा कि अधिकारियों से कहा है कि वे उन परिस्थितियों की जांच करें, जिसमें लड़की ने आत्महत्या कर ली।

गौरतलब है कि मलेशिया में आत्महत्या के लिए उकसाने पर 20 साल तक जेल की सजा सुनाई जा सकती है। फरवरी में इंस्टाग्राम ने अपने प्लेटफार्म से खुद को नुकसान पहुंचाने से संबंधित जितने भी ग्राफिक इमेज और कंटेंट थे, उन्हें हटा दिया था।

-->

और भी पढ़ें :