महान समाज सुधारक सावित्रीबाई फुले

savitribai-phule
 
 
भारत की महान सावित्रीबाई फुले का जन्म महाराष्ट्र में 3 जनवरी 1831 को एक किसान परिवार में हुआ था। उनके पिता का नाम खण्डोजी नेवसे और माता का नाम लक्ष्मीबाई था। सावित्रीबाई फुले का विवाह सन् 1840 में मात्र 9 वर्ष की उम्र में 12 वर्षीय ज्योतिराव फुले के साथ हुआ। ज्योतिबा बहुत बुद्धिमान थे, उन्होंने मराठी में अध्ययन किया। वे महान क्रांतिकारी, भारतीय विचारक, समाजसेवी, लेखक एवं दार्शनिक थे। 
 
सावित्रीबाई फुले और उनके पति ज्योतिराव फुले ने वर्ष 1848 मात्र 9 विद्यार्थियों को लेकर एक स्कूल की शुरुआत की थी। उनकी कोई संतान नहीं हुई और उन्होंने एक ब्राह्मण विधवा के पुत्र यशवंतराव को गोद ले लिया। इसका फुले परिवार में तीखा विरोध हुआ तो दंपति ने अपने परिवार से संबंध समाप्त कर लिया। 
        
महिला अधिकार के लिए संघर्ष करने वाली सावित्रीबाई ने विधवाओं के लिए एक केंद्र की स्थापना की और उनको पुनर्विवाह के लिए प्रोत्साहित किया। उन्होंने अछूतों के अधिकारों के लिए संघर्ष किया। वर्ष 1897 में प्लेग फैलने के दौरान उन्होंने पुणे में अपने पुत्र के साथ मिलकर एक अस्पताल खोला और अस्पृश्य माने जाने वाले लोगों का इलाज किया। हालांकि इस दौरान वह स्वयं प्लेग से पीड़ित हो गईं और उसी वर्ष मार्च में उनका निधन हो गया। 
 
कवयित्री के रूप में सावित्रीबाई फुले ने 2 काव्य पुस्तकें लिखीं- काव्य फुले, बावनकशी सुबोधरत्नाकर। फुले दंपति को महिला शिक्षा के क्षेत्र में योगदान के लिए 1852 में तत्कालीन ब्रिटिश सरकार ने सम्मानित भी किया। केंद्र और महाराष्ट्र सरकार ने सावित्रीबाई फुले की स्मृति में कई पुरस्कारों की स्थापना की है।> > इसके अलावा उनके सम्मान में एक डाक टिकट भी जारी किया गया है। वे आधुनिक शिक्षा प्रणाली में पहली महिला अध्यापिका थीं और उन्हें आधुनिक मराठी कविता में अगुवा माना जाता है। 
- आरके
 

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

क्यों नहीं चढ़ती हैं यह 8 पूजन सामग्री भोलेनाथ को... आप ...

क्यों नहीं चढ़ती हैं यह 8 पूजन सामग्री भोलेनाथ को... आप नहीं जानते होंगे..
प्रति सोमवार भगवान शिव को प्रसन्न करने के प्रयास किए जाते हैं। लेकिन हम में से बहुत कम ...

हल्दी के औषधीय महत्व तो जानते हैं अब जानिए 11 धार्मिक महत्व

हल्दी के औषधीय महत्व तो जानते हैं अब जानिए 11 धार्मिक महत्व
हल्दी जितनी सेहत के लिए लाभप्रद है उतना ही धार्मिक कार्यों में भी उसका महत्व है। यहां हम ...

सोते समय सिर किधर रखें और पैर किधर, जानें 7 काम की बातें, ...

सोते समय सिर किधर रखें और पैर किधर, जानें 7 काम की बातें, नहीं तो होंगे परेशान
नींद लेना, सोना या शयन करना ये हमारे रोजमर्रा की दिनचर्या का महत्वपूर्ण अंग है। सुश्रुत ...

इन्हें अपनाएंगे तो आपके होंठ गुलाब की तरह खिल जाएंगे

इन्हें अपनाएंगे तो आपके होंठ गुलाब की तरह खिल जाएंगे
आपके होंठ चमकदार और मुलायम हो जाएंगे। इन्हें अपनाएंगे तो गुलाब की तरह खिल जाएंगे ...

सोते समय नाभि में बस 2 बूंद तेल डालें और सेहत के 17 फायदे ...

सोते समय नाभि में बस 2 बूंद तेल डालें और सेहत के 17 फायदे पाएं
नाभि शरीर का केंद्र बिंदु होता है। हर रात सोने से पहले अगर आप मात्र दो बूंद तेल भी नाभि ...

संतान के लिए सुरक्षा-कवच है पिता

संतान के लिए सुरक्षा-कवच है पिता
‘पिता’ शब्द संतान के लिए सुरक्षा-कवच है। पिता एक छत है, जिसके आश्रय में संतान विपत्ति के ...

घर को पेंट करवाने से पहले पढ़ें ये 5 वास्‍तु टिप्स

घर को पेंट करवाने से पहले पढ़ें ये 5 वास्‍तु टिप्स
क्या आप अपने नए घर को पेंट करवाने का सोच रहे हैं? या अपने पुराने आशियाने को ही नई रंगत ...

नमक के बारे में यह 7 बातें आपको नहीं पता है तो पछताएंगे, ...

नमक के बारे में यह 7 बातें आपको नहीं पता है तो पछताएंगे, दादी मां के टोटके
कई तरह के टोटके हमारे समाज में पीढ़ी दर पीढ़ी प्रचलित हैं। हमारी दादी-नानी हमें बताती है ...

अगर आपके पर्स में भी हैं यह 7 चीजें तो तुरंत बाहर निकालें.. ...

अगर आपके पर्स में भी हैं यह 7 चीजें तो तुरंत बाहर निकालें.. यह रोक‍ती हैं धन को...
पर्स में रखी कुछ चीजें ऐसी होती हैं जो धन के आगमन को रोकती हैं। अगर आपके पर्स में भी रखी ...

सामान्य नमक छोड़ दें, सेंधा नमक शुरू करें, जानिए सेहत के 7 ...

सामान्य नमक छोड़ दें, सेंधा नमक शुरू करें, जानिए सेहत के 7 अचूक फायदे
आयुर्वेद के अनुसार सेंधा नमक स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद है, इसलिए इसे सर्वोत्तम नमक ...