Independence Day Recipes : इन 5 डिशेज के साथ सादगी से मनाएं स्वतंत्रता दिवस, पढ़ें खास व्यंजन विधियां

Independence-Day-recipe
1. रंगबिरंगी तिरंगी बर्फी...

सामग्री :
500 ग्राम फ्रेश मावा, 450 ग्राम शकर, 150 ग्राम फ्रेश पनीर, आधा चम्मच इलायची पावडर, मीठा पीला रंग, हरा रंग, चांदी का वरक और वेनिला एसेंस।
विधि :
सर्वप्रथम खोया और पनीर को एक थाली में कद्दूकस करके रख लें। अब इसमें शकर मिलाएं, तत्पश्चात कड़ाही में मध्यम आंच पर पकने दें। मिश्रण गाढ़ा होने पर वेनिला एसेंस और इलायची पावडर डालकर मिलाएं तथा आंच बंद कर दें।

अब तैयार मिश्रण को 3 भागों में बराबर बांट लें। पहले वाले भाग को सफेद रखें। दूसरे भाग में मीठा पीला व तीसरे भाग में हरा रंग मिला लें। हल्के हाथ से मोटा बेल लें और सबसे नीचे हरा, फिर सफेद और ऊपर पीले रंग को जमा दें और हल्के से हाथ से दबाकर वरक चिपका दें। अब इसको चौकोर शेप या छोटे-छोटे साइज में काटकर नए फ्लेवर में तैयार तिरंगी बर्फी पेश करें।
**********

2. तिरंगा पुलाव

सामग्री :
2 कटोरी बासमती चावल, 50 ग्राम आलू, 50 ग्राम गाजर, 50 ग्राम फूलगोभी, 50 ग्राम हरी मटर, 50 ग्राम शिमला मिर्च, 50 ग्राम पनीर, 3 प्याज, हरा धनिया, टमाटर स्लाइस, टूटी-फ्रूटी, तेल, नमक।

प्यूरी के लिए मसाला सामग्री- लहसुन की 5 कलियां, 4-5 लालमिर्च, अदरक का टुकड़ा, 1 चम्मच खड़ा धनिया, आधा चम्मच जीरा सभी को एकसाथ पीस लीजिए।

विधि :
सबसे पहले पनीर, आलू, प्याज, शिमला मिर्च, गोभी को काटकर फ्राय कर लें। अब गाजर व मटर को उबालें। चावल में नमक डालकर पकाइए व पकने के बाद इनके 3 भाग करें।

एक भाग में खाने वाला हरा रंग, एक में मीठा पीला रंग व एक भाग को सफेद ही रहने दें। हरे चावल में हरे मटर, शिमला मिर्च, पीले चावल में गाजर व टूटी-फ्रूटी और आलू डालिए।

सफेद चावल में पनीर, गोभी व प्याज डालिए। कड़ाही में तेल गर्म कर पिसे मसाले को 5 मिनट तक भूनें व तीनों प्रकार के चावल में डाल दें। बाउल में तैयार लाजवाब तिरंगे को हरा धनिया डालकर सर्व करें।
**********
3. मसालेदार तिरंगा पनीर

सामग्री :
250 ग्राम ताजा पनीर, 75 ग्राम दही, बेसन पाव कटोरी, 1 बड़ा चम्मच लहसुन-अदरक पेस्ट, 2 टमाटर, 1/2 छोटा चम्मच अचार मसाला, 1 चम्मच पुदीना चटनी, 3/4 चम्मच चिली सॉस, 3/4 चम्मच टोमॅटो सॉस, लालमिर्च व गरम मसाला, नमक स्वादानुसार, कटा हरा धनिया।

विधि :
सर्वप्रथम पनीर को 3 भागों में काट लें। हर परत के ऊपर पुदीना चटनी, अचार मसाला, चिली सॉस व टोमॅटो सॉस लगा लें और उसे एक के ऊपर एक रखें। तत्पश्चात बेसन, तेल, नमक, लालमिर्च व गरम मसाला मिलाएं तथा घोल को 5 मिनट तक हिलाएं। अब इसमें पनीर को डुबोकर डीप फ्राई कर लें। उसके बाद उनको 2 भागों में काट लें।

अब एक कड़ाही में तेल गरम करके राई-जीरा तड़काएं। उसमें लहसुन-अदरक पेस्ट डालें तथा टोमॅटो प्यूरी डालकर तेल छोड़ने तक पकाएं। अब दही को फेंटकर उसमें डालें और ऊपर से तले हुए रंग-बिरंगे पनीर को डालकर 1-2 उबाली ले लें। अगर पानी की आवश्यकता हो तो डालें अन्यथा नहीं। अब ऊपर से कटे हरे धनिए से सजाकर रोटी या परांठे के साथ चटपटा और पेश करें।

**********

4. तिरंगे कटलेट

सामग्री :
1 किलो आलू, 1 किलो मटर के दाने, 1/2 किलो छेना, 1 बड़ा चम्मच मैदा, 200 ग्राम ब्रेडक्रम्स, 6 चम्मच नमक, साढ़े 3 चम्मच अमचूर, 1 चम्मच लालमिर्च, 1/2 चम्मच हल्दी, 2 चम्मच गर्म मसाला, 1 चुटकी हींग, 2 चम्मच नींबू का रस, 1 चम्मच चीनी, 2 इंच अदरक, 9-10 हरी मिर्च, तलने के लिए तेल या घी।
विधि :
आलू को उबालकर छील और मथ लें। उसमें 2 चम्मच नमक, लालमिर्च और नींबू का रस मिला लें। छेने में 1 चम्मच नमक, हल्दी, 1 चम्मच महीन कटी अदरक और 1 चम्मच कटी हरी मिर्च डालकर अच्छी तरह मिला लें।

मटर के दानों को उबालकर मोटा पीस लें। (यदि मटर कच्चे हो तो उबालने की आवश्यकता नहीं है)। किसी बर्तन में मटर को 1 चम्मच नमक, गर्म मसाला, हींग, अमचूर और चीनी देकर 3-4 मिनट तक सेंक लें।
अब कटलेट के तीनों सामान अलग-अलग तैयार हैं। छेना, आलू और मटर अलग-अलग 15-15 भागों में काट लें। छेने को अंडे के आकार में बना लें।

मटर को हाथ से पूड़ी-सी बनाकर छेने पर अच्छी तरह लपेटें, फिर इसके ऊपर आलू की पूड़ी बनाकर लपेटें। मैदे को 1/2 कप पानी में घोलकर इसे कटलेट के चारों ओर लगाकर ब्रेड क्रम्बस में अच्छी तरह लपेटकर तेज आंच में बादामी तलें। कुछ ठंडा होने पर इन्हें तेज चाकू से बीचोबीच आड़ा काटें। इन्हें टोमेटो सॉस के साथ खाएं।
**********

5. चटपटा
तिरंगा

ढोकला

सामग्री :
3 कटोरी चावल, 2 कटोरी चना दाल, 1 कटोरी उड़द दाल, लाल, हरा, पीला खाने का रंग, 3 चम्मच इनो पावडर, 3 चम्मच नमक, 12 चम्मच शकर, 12 चम्मच तेल, बघारने के लिए राई, कुछ मीठा नीम के पत्ते।

विधि :
सबसे पहले चावल, चना दाल और उड़द दाल को 2 घंटे पानी में भिगो लें। अच्छी तरह भीगने के बाद तीनों को मिक्सी में पीस लें। इस मिश्रण को एकसाथ मिला लें। अब घोल के 3 भाग करें और उसमें नमक, शकर व इनो पावडर को अच्छी तरह मिक्स करें।

इस घोल को फिर 3 भागों में डिवाइड करें। एक भाग में लाल, दूसरे में हरा और तीसरे में पीला रंग मिलाएं। अब कुकर में अंदाजे से इतना पानी भरें कि मिश्रण भरे पॉट में पानी न भरे। पॉट को ग्रीस कर उसमें सबसे पहले हरे रंग का घोल डालें और 2 मिनट गर्म होने दें। इसके बाद लाल और फिर आखिरी में पीले रंग का घोल डालें। इस पॉट को कुकर में रखकर ढक्कन लगा दें। तेज आंच में 15 मिनट तक पकाएं।

ठंडा होने पर इसे निकालकर चाकू से काट लें और एक कड़ाही में थोड़ा तेल गर्म कर उसमें राई, मीठा नीम डालकर ढोकला बघार लें। इसे गर्मागर्म हरी चटनी के साथ सर्व करें।
**********

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

अटल जी की कविता : जीवन की ढलने लगी सांझ

अटल जी की कविता : जीवन की ढलने लगी सांझ
जीवन की ढलने लगी सांझ उमर घट गई डगर कट गई जीवन की ढलने लगी सांझ।

अटल जी की लोकप्रिय कविता : मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊंचाई कभी ...

अटल जी की लोकप्रिय कविता : मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊंचाई कभी मत देना
मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊँचाई कभी मत देना गैरों को गले न लगा सकूँ इतनी रुखाई कभी मत ...

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी : बेदाग रहा राजनीतिक ...

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी : बेदाग रहा राजनीतिक पटल, बहुत याद आएंगे अटल
देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे। वह ना केवल एक ...

शिक्षा और भाषा पर अटल बिहारी वाजपेयी के 6 विचार, बदल सकते ...

शिक्षा और भाषा पर अटल बिहारी वाजपेयी के 6 विचार, बदल सकते हैं सोच...
अटल बिहारी वाजपेयी ने शिक्षा, भाषा और साहित्य पर हमेशा जोर दिया। उनके अनुसार शिक्षा और ...

अटल बिहारी वाजपेयी की कविता : जीवन को शत-शत आहुति में, जलना ...

अटल बिहारी वाजपेयी की कविता : जीवन को शत-शत आहुति में, जलना होगा, गलना होगा
बाधाएं आती हैं आएं घिरें प्रलय की घोर घटाएं, पांवों के नीचे अंगारे, सिर पर बरसें यदि ...

बारिश में बिल्कुल न खाएं अंकुरित अनाज, जानिए कारण ...

बारिश में बिल्कुल न खाएं अंकुरित अनाज, जानिए कारण ...
वैसे तो अंकुरित अनाज सेहत के लिए बेहद फायदेमंद है और इसे नियमित तौर पर अपनी डाइट में ...

वाजपेयीजी ऐसे राजनेता जिसे हम भूल नहीं सकते

वाजपेयीजी ऐसे राजनेता जिसे हम भूल नहीं सकते
अटलबिहारी वाजपेयी की पूरी जीवन यात्रा के मूल्यांकन के लिए कुछ आधार बनाना होगा। उनको ...

जो चाहें वो पाएं, ऐसे इस्तेमाल करें अपना 'सब कॉन्शस माइंड'

जो चाहें वो पाएं, ऐसे इस्तेमाल करें अपना 'सब कॉन्शस माइंड'
जीवन में हमारे साथ जो भी घटित होता है उसमें असल खेल तो हमारे 'सब कॉन्शस माइंड' का होता है ...

माखन-मिश्री के सेहत से जुड़े ये 6 मीठे फायदे आप भी जानिए...

माखन-मिश्री के सेहत से जुड़े ये 6 मीठे फायदे आप भी जानिए...
माखन मिश्री भगवान श्रीकृष्ण का प्रिय भोग है। यह स्वाद में जितना मधुर लगता है, उतने ही ...

ईद-उल-अजहा को क्यों कहते हैं ईदे कुरबां, जानिए

ईद-उल-अजहा को क्यों कहते हैं ईदे कुरबां, जानिए
ईद-उल-अजहा मुस्लिम भाइयों का एक महत्वपूर्ण त्योहार है। कुरबानी से जुड़ी होने की वजह से इसे ...