लघुकथा : भिक्षुक और हीरा व्यापारी

एक बार एक ईमानदार रास्ते से कहीं जा रहा था। आगे बढ़ते हुए उसे रोड पर एक चमड़े का बटुआ मिला। उसने बटुए को उठाया और देखा तो उसमें दो कीमती हार थे। वो भिक्षुक सोचने लगा कि जिस किसी व्यक्ति का भी यह बटुआ होगा, वो बड़ा ही परेशान हो रहा होगा। वो सोच ही रहा था कि इतने में भीड़ से एक आदमी चिल्लाया कि मेरा बटुआ खो गया है, किसी ने देखा क्या? जो भी मेरा बटुआ ढूंढकर मुझे लौटा देगा, उसे मैं इनाम दूंगा।
उस आदमी की आवाज सुनकर भिक्षुक दौड़कर उसके पास गया और बोला कि ये लो साहब आपका बटुआ, ये मुझे वहां उस जगह पड़ा मिला। अब आप मुझे क्या इनाम देंगे?

उस आदमी ने कहा कि जरा बटुए के अंदर तो देख लूं कि सब सही-सलामत है या नहीं? आदमी ने बटुए के अंदर देखा और कहा कि इसमें तो चार कीमती हार थे और अभी सिर्फ दो ही हैं, मतलब आधे तुमने चुरा लिए और अब इनाम भी मांगते हो? चल भाग यहां से...!

इतनी ईमानदारी दिखाने के बाद भी व्यर्थ का इल्जाम भिक्षुक से सहन नहीं हुआ। लेकिन अब वो दु:खी होने के सिवाय कर भी क्या सकता था? उसने व्यापारी को कहा कि भगवान सब देखता है कि कौन सही बोल रहा और कौन झूठ? ऐसा बड़बड़ाते हुए भिक्षुक वहां से चला गया।
कुछ दिनों बाद व्यापारी को अपने व्यापार के सिलसिले में किसी दूसरी दुकान वाले को 5 हार के नमूने दिखाने जाना था। व्यापारी ने सोचा कि थैली में कीमती सामान है, ऐसा किसी को शक न हो इसलिए थैली ऐसे पकड़कर चलता हूं, जैसे इसमें कुछ कीमती सामान ही नहीं हो। और वो आराम से बाजार में थैली को हिलाते-डुलाते चला जा रहा था और वहीं से कोई आदमी उसकी थैली छीनकर भाग गया।

व्यापारी जोर से चिल्लाया कि कोई मेरी थैली छीनकर भाग गया है, उसे पकड़ो। किसी ने उसे देखा क्या? जो कोई मेरी थैली मुझे लाकर दे देगा, मैं उसे इनाम दूंगा। लेकिन उसे उसकी थैली नहीं मिली और उसके सारे हार चोरी हो चुके थे। तब व्यापारी को उस ईमानदार भिक्षुक की याद आई जिसने कि उसका बटुआ उसे सही-सलामत लौटा दिया था।
अब उसे समझ में आ गया कि ईमानदारी जैसा गुण हर किसी में नहीं होता। इतने कीमती हार देखकर तो किसी की भी नीयत बदल सकती थी, लेकिन फिर भी तब उस भिक्षुक ने चोरी नहीं की थी। एक ईमानदार भिक्षुक से उसने बेईमानी की जिसकी सजा भगवान ने उसे दे दी और ईमानदारी की कीमत भी समझा दी।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

अटल जी की कविता : जीवन की ढलने लगी सांझ

अटल जी की कविता : जीवन की ढलने लगी सांझ
जीवन की ढलने लगी सांझ उमर घट गई डगर कट गई जीवन की ढलने लगी सांझ।

अटल जी की लोकप्रिय कविता : मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊंचाई कभी ...

अटल जी की लोकप्रिय कविता : मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊंचाई कभी मत देना
मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊँचाई कभी मत देना गैरों को गले न लगा सकूँ इतनी रुखाई कभी मत ...

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी : बेदाग रहा राजनीतिक ...

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी : बेदाग रहा राजनीतिक पटल, बहुत याद आएंगे अटल
देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे। वह ना केवल एक ...

शिक्षा और भाषा पर अटल बिहारी वाजपेयी के 6 विचार, बदल सकते ...

शिक्षा और भाषा पर अटल बिहारी वाजपेयी के 6 विचार, बदल सकते हैं सोच...
अटल बिहारी वाजपेयी ने शिक्षा, भाषा और साहित्य पर हमेशा जोर दिया। उनके अनुसार शिक्षा और ...

धर्म और परमात्मा के बारे में अटल बिहारी वाजपेयी ने कही थी ...

धर्म और परमात्मा के बारे में अटल बिहारी वाजपेयी ने कही थी यह 6 बातें -
धर्म के प्रति अटल बिहारी वाजपेयी की आस्था कम नहीं रही। देशभक्ति को भी उन्होंने अपना धर्म ...

फनी बाल कविता : ले गए पेड़ लुटेरे

फनी बाल कविता : ले गए पेड़ लुटेरे
मैं हूं नन्हीं परी, बगल में, पंख छुपे हैं मेरे। आसमान से उड़कर आई, बिलकुल सुबह सवेरे।

थोड़ी-सी बारिश की बड़ी-सी आफत

थोड़ी-सी बारिश की बड़ी-सी आफत
देश के कई शहरों में बारिश ने कोहराम मचाते हुए सामान्य जनजीवन को बड़ी बुरी तरह से प्रभावित ...

मच्छरों के काटने से क्या होता है असर, जानिए लक्षण और

मच्छरों के काटने से क्या होता है असर, जानिए लक्षण और उपाय...
मच्छर का काटना न केवल आपको डेंगू या मलेरिया का शिकार बना सकता है बल्कि एलर्जी और ...

पिंपल वाली स्किन पर मेकअप करना मुश्किल भरा होता है, ऐसे में ...

पिंपल वाली स्किन पर मेकअप करना मुश्किल भरा होता है, ऐसे में ये 5 टिप्स आपकी मदद करेंगे
मेकअप करना तो आजकल हर अवसर की जरूरत सा बन गया है। बिना मेकअप के आप महफिल में फीकी सी लगती ...

रक्षा बंधन पर चयन करें राशि अनुसार राखी के रंग, पर्व मनाएं ...

रक्षा बंधन पर चयन करें राशि अनुसार राखी के रंग, पर्व मनाएं शुभ मुहूर्त के संग
इस बार रक्षाबंधन के लिए समय ही समय मिलेगा। रक्षाबंधन वाले दिन भद्रा नहीं लगेगी, क्योंकि ...