हिन्दी कविता : मुझसे मिलने मत आना....


को चुनना है तो मुझसे मिलने मत आना,
को सीधा गुनना है तो मुझसे मिलने मत आना।
 
जीवन में संघर्षों को अपनाना बहुत कठिन है काम सखे,
साहस के शूलों को चुनना पुरुषार्थों का अंजाम सखे।
 
जीवन में कायरता हो तो मुझसे मिलने मत आना,
सरल मार्ग को चुनना है तो मुझसे मिलने मत आना।
 
जब भी मुझसे बात करो तो साहस के घेरे में करना,
जब भी आंख मिलाओ मुझसे पलकें नीची मत करना।
 
संघर्षों से मन हिलाता हो तो मुझसे मिलने मत आना,
सरल मार्ग को चुनना है तो मुझसे मिलने मत आना।
 
विषधरों के शहर में जीना है तो विष को पीना सीखो,
मरुस्थलों के हृदय में रहकर अपनी प्यास बढ़ाना सीखो।
 
मृत्यु भय से गर दिल कांपे तो मुझसे मिलने मत आना,
सरल मार्ग को चुनना है तो मुझसे मिलने मत आना।
 

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :