मधुमास पर कविता : मधुर-मधुर बहती हवाएं...

मधुर-मधुर बहती हवाएं,
छेड़ रहीं संवाद।
प्रकृति छटा बिखेर रही,
 
आया है मधुमास।
 
आया है अनोखा मास,
उमंगें उड़ रही हैं।
भंवरा गीत सुनाता,
कलियां खिल रही हैं।
 
महक रही है क्यारी,
मच रहा उल्लास।
सजी बसंती मचल रही है,
होगा अब उत्पात।
 
मधुर-मधुर बहती हवाएं,
छेड़ रही संवाद।
प्रकृति छटा बिखेर रही,
आया है मधुमास।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :