बेटी पर कविता



बेटी होती विदा
मन परेशान है
घर होगा तेरे बिन सूना
आंखें आज हैरान हैं।
दिल का टुकड़ा छूटा
कोई आवाज आती नहीं
दस्तक बेजान है।

तेरे बिना बहते नयन
मन अब है
पायल की आवाज आती नहीं
अंगना भी उदास है।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :