बेटी पर कविता



बेटी होती विदा
मन परेशान है
घर होगा तेरे बिन सूना
आंखें आज हैरान हैं।
दिल का टुकड़ा छूटा
कोई आवाज आती नहीं
दस्तक बेजान है।

तेरे बिना बहते नयन
मन अब है
पायल की आवाज आती नहीं
अंगना भी उदास है।


और भी पढ़ें :