प्रखर पत्रकार और सहज इंसान : राजेन्द्र माथुर

राजेन्द्र माथुर : जन्मदिवस विशेष

राजेन्द्र माथुर
आलोक मेहता|
ND
ND
वे भारतीय परंपराओं और संस्कृति का हवाला देते हुए संकीर्णता की बेड़ियाँ काट आधुनिक दृष्टिकोण अपनाने पर भी जोर देते रहे। वे सभ्यता को अक्षुण्ण रखने के लिए जंगली जिंदादिली को जरूरी मानते थे। वे आदर्श महापुरुषों की पूजा करवाने के बजाय उनके गुणों और विचारों को अपनाने के पक्षधर थे।

के लेखन की समय सीमा तय नहीं हो सकती। इतिहास की परतें निकालने के साथ 21वीं सदी की रेखाओं को असाधारण ढंग से कागज पर उतार देने की क्षमता भारत के किसी हिन्दी में देखने को नहीं मिल सकती। इसीलिए 1963 से 1969 के बीच राजेन्द्र माथुर द्वारा 'नईदुनिया' में लिखे गए लेख आज भी सामयिक और सार्थक लगते हैं।
अगस्त 1963 में उन्होंने लिखा था- 'हमारे राष्ट्रीय जीवन में दो बुराइयाँ घर कर गई हैं जिन्होंने हमें सदियों से एक जाहिल देश बना रखा है। पहली तो अकर्मण्यता, नीतिहीनता और संकल्पहीनता को जायज ठहराने की बुराई, दूसरी पाखंड की बीमारी, वचन और कर्म के बीच गहरी दरार की बुराई।'

लगभग 50 साल बाद भी भारत उन बुराइयों से निजात नहीं पा सका है और पत्रकारिता में माथुर साहब को पे्ररक मानने वाले पत्रकारों या सामान्य पाठकों का कर्तव्य है कि वे उन बुराइयों के विरुद्ध अभियान जारी रखें। माथुर साहब की दृढ़ मान्यता थी कि केवल अनेकता के गौरव का शंख बजाने से काम नहीं चल सकता। देश को एक बनाने के लिए ज्यादा कष्ट उठाने पड़ेंगे। एकता का मतलब है देश में धर्म-निरपेक्ष, धन-निरपेक्ष, अवसर की समानता यानी आर्थिक और सामाजिक एकता।
माथुर साहब के लेखन में गाँधी, नेहरू, मार्क्स, लोहिया के विचारों का अद्भुत समन्वय देखने को मिलता है। आप उन्हें किसी धारा से नहीं जोड़ सकते। वे भारतीय परंपराओं और संस्कृति का हवाला देते हुए संकीर्णता की बेड़ियाँ काट आधुनिक दृष्टिकोण अपनाने पर भी जोर देते रहे।

वे सभ्यता को अक्षुण्ण रखने के लिए जंगली जिंदादिली को जरूरी मानते थे। वे आदर्श महापुरुषों की पूजा करवाने के बजाय उनके गुणों और विचारों को अपनाने के पक्षधर थे। उनके लेखन में राष्ट्रवाद कूट-कूटकर भरा है, लेकिन भाषा, धर्म, क्षेत्र के आधार वाली कट्टरता कहीं नहीं मिलती।


और भी पढ़ें :