निबंध : बुराई पर अच्छाई की जीत का त्योहार होली

होली का त्योहार भारत में फाल्गुन महीने के पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है। यह रंगों और खुशियों का त्योहार है। बच्चों में इस दिन बड़ा ही उत्साह रहता है। कई तरह के स्वादिष्ट व्यंजन इस दिन के अवसर के लिए घरों में बनाए जाते हैं। कहा जाता है कि इस दिन सभी लोगों को सारे गिले-शिकवे मिटाकर दोस्ती कर एक नई शुरुआत करनी चाहिए। यही इस त्योहार का उद्देश्य भी है। अहंकार पर आस्था और विश्वास की जीत के कारण यह त्योहार मनाया जाता है।
क्यों मनाया जाता है होली का त्योहार?

दीति के पुत्र हिरण्यकश्यप भगवान विष्णु से घोर शत्रुता रखते थे। वे खुद से बढ़कर किसी को कुछ भी नहीं समझते थे। लेकिन उनका पुत्र प्रहलाद भगवान विष्णु का परम भक्त था। प्रहलाद भगवान विष्णु में बहुत आस्था रखता था और अपने पिता के मना करने पर भी वह उनकी ही पूजा करता था। इस बात से बेहद नाराज और गुस्सा होकर हिरण्यकश्यप ने अपने ही पुत्र को मार देने के कई प्रयास किए। एक बार उन्होंने प्रहलाद को मारने के लिए अपनी बहन होलिका की मदद ली। होलिका को भगवान शंकर से वरदान मिला हुआ था। उसे वरदान के रूप में एक ऐसी चादर मिली थी जिसे ओढ़ने पर अग्नि उसे जला नहीं सकती थी। होलिका उस चादर को ओढ़कर और प्रहलाद को अपनी गोद में लेकर अग्नि में बैठ गई। लेकिन वह चादर उड़कर प्रहलाद के ऊपर आ गई और प्रहलाद की जगह स्वयं होलिका ही जल गई!

होली का त्योहार भारत में फाल्गुन महीने के पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है। यह रंगों और खुशियों का त्योहार है। बच्चों में इस दिन बड़ा ही उत्साह रहता है। कई तरह के स्वादिष्ट व्यंजन इस दिन के अवसर के लिए घरों में बनाए जाते हैं। कहा जाता है कि इस दिन सभी लोगों को सारे गिले-शिकवे मिटाकर दोस्ती कर एक नई शुरुआत करनी चाहिए। यही इस त्योहार का उद्देश्य भी है। अहंकार पर आस्था और विश्वास की जीत के कारण यह त्योहार मनाया जाता है।
तभी से होली से 1 दिन पहले की रात होलिकादहन किया जाता है। इस दिन घमंड और हर तरह की बुरी चीजों और आदतों की आहुति दी जाती है। होलिका के फेरे लगाकर मंगल-कामना की जाती है और राख से तिलक लगाया जाता है। इस दिन नकारात्मकता को त्यागकर सकारात्मकता को अपनाया जाता है। अगली सुबह रंगों से होली खेली जाती है। इन दिनों फूलों से भी होली खेलने का चलन है। मित्र, संबंधी व पड़ोसी सभी एक-दूसरे से मिलकर रंग-गुलाल लगाते हैं। छोटे, बड़ों के पैर छूकर आशीर्वाद लेते हैं।

होली की बुराइयां

होली का बहाना लेकर कई लोग नशा करते हैं और अपनी सुध-बुध खो देते हैं। इस दिन कई असामाजिक तत्व अपनी मस्ती के लिए हानिकारक रंगों का इस्तेमाल कर दूसरों को नुकसान पहुंचाते हैं। बच्चों को बड़ों की निगरानी में ही होली खेलना चाहिए। दूर से गुब्बारे फेंकने से आंखों में घाव भी हो सकता है। रंगों को आंखों और अन्य अंदरुनी अंगों में जाने से बचाएं और दूसरों को रंगते हुए आप भी इस बात का ध्यान रखें कि उनकी आंखों में रंग न जाने पाएं। कुछ बुराइयों पर रोक लगा दें तो होली के त्योहार का रंग फीका नहीं पड़ने पाएगा।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

क्यों नहीं चढ़ती हैं यह 8 पूजन सामग्री भोलेनाथ को... आप ...

क्यों नहीं चढ़ती हैं यह 8 पूजन सामग्री भोलेनाथ को... आप नहीं जानते होंगे..
प्रति सोमवार भगवान शिव को प्रसन्न करने के प्रयास किए जाते हैं। लेकिन हम में से बहुत कम ...

हल्दी के औषधीय महत्व तो जानते हैं अब जानिए 11 धार्मिक महत्व

हल्दी के औषधीय महत्व तो जानते हैं अब जानिए 11 धार्मिक महत्व
हल्दी जितनी सेहत के लिए लाभप्रद है उतना ही धार्मिक कार्यों में भी उसका महत्व है। यहां हम ...

सोते समय सिर किधर रखें और पैर किधर, जानें 7 काम की बातें, ...

सोते समय सिर किधर रखें और पैर किधर, जानें 7 काम की बातें, नहीं तो होंगे परेशान
नींद लेना, सोना या शयन करना ये हमारे रोजमर्रा की दिनचर्या का महत्वपूर्ण अंग है। सुश्रुत ...

इन्हें अपनाएंगे तो आपके होंठ गुलाब की तरह खिल जाएंगे

इन्हें अपनाएंगे तो आपके होंठ गुलाब की तरह खिल जाएंगे
आपके होंठ चमकदार और मुलायम हो जाएंगे। इन्हें अपनाएंगे तो गुलाब की तरह खिल जाएंगे ...

सोते समय नाभि में बस 2 बूंद तेल डालें और सेहत के 17 फायदे ...

सोते समय नाभि में बस 2 बूंद तेल डालें और सेहत के 17 फायदे पाएं
नाभि शरीर का केंद्र बिंदु होता है। हर रात सोने से पहले अगर आप मात्र दो बूंद तेल भी नाभि ...

संतान के लिए सुरक्षा-कवच है पिता

संतान के लिए सुरक्षा-कवच है पिता
‘पिता’ शब्द संतान के लिए सुरक्षा-कवच है। पिता एक छत है, जिसके आश्रय में संतान विपत्ति के ...

घर को पेंट करवाने से पहले पढ़ें ये 5 वास्‍तु टिप्स

घर को पेंट करवाने से पहले पढ़ें ये 5 वास्‍तु टिप्स
क्या आप अपने नए घर को पेंट करवाने का सोच रहे हैं? या अपने पुराने आशियाने को ही नई रंगत ...

नमक के बारे में यह 7 बातें आपको नहीं पता है तो पछताएंगे, ...

नमक के बारे में यह 7 बातें आपको नहीं पता है तो पछताएंगे, दादी मां के टोटके
कई तरह के टोटके हमारे समाज में पीढ़ी दर पीढ़ी प्रचलित हैं। हमारी दादी-नानी हमें बताती है ...

अगर आपके पर्स में भी हैं यह 7 चीजें तो तुरंत बाहर निकालें.. ...

अगर आपके पर्स में भी हैं यह 7 चीजें तो तुरंत बाहर निकालें.. यह रोक‍ती हैं धन को...
पर्स में रखी कुछ चीजें ऐसी होती हैं जो धन के आगमन को रोकती हैं। अगर आपके पर्स में भी रखी ...

सामान्य नमक छोड़ दें, सेंधा नमक शुरू करें, जानिए सेहत के 7 ...

सामान्य नमक छोड़ दें, सेंधा नमक शुरू करें, जानिए सेहत के 7 अचूक फायदे
आयुर्वेद के अनुसार सेंधा नमक स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद है, इसलिए इसे सर्वोत्तम नमक ...