नकसीर का यह आदिवासी घरेलू इलाज आपको पता होना चाहिए


यानि नाक से खून बहने की समस्या प्रमुख रूप से गर्मियों में सामने आती है। अत्यधिक तापमान और तेज धूप के संपर्क में आने से यह समस्या हो सकती है। इस समस्या का उपाय आप घर बैठे, घरेलु नुस्खों को अपनाकर आसानी से कर सकते हैं। घर में सरलता से उपलब्ध होने वाल कुछ वनस्पति और औषधियां आपकी इस समस्या का निवारण कर सकती है।



आदिवासी हर्बल जानकार अपने आस-पास पाई जाने वाली वनस्पतियों से ही साधारण और खतरनाक रोगों को मिटाने तक का दावा करते हैं। मजे की बात ये भी है कि इनके बताए काफी सारे फार्मुलों में ऐसी जडी-बूटियां उपयोग में लायी जाती है जो हम घर-आंगन या हमारी रसोई में पायी जाती है। गर्मियां सर पर हैं और ऐसे में कई लोगों को नकसीर (नाक से खून बहने की शिकायत) से जूझता हुआ देखा जा सकता है। चलिए जानते हैं किन साधारण वनस्पतियों को लेकर इस समस्या से निपटा जा सकता है।
हरे ताजे धनिया की पत्तियां लगभग 20 ग्राम और उसमें चुटकी भर कपूर मिला कर पीस लें और रस छान लें। इस रस की दो बूंदें नाक के छिद्रों में दोनों तरफ टपकाने से तथा रस को माथे पर लगा कर हल्का-हल्का मलने से नाक से निकलने वाला खून, जिसे नकसीर भी कहा जाता है, तुरंत बंद हो जाता है।


वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :