प्यार न होगा...

ND
जग रूठे तो बात न कोई
तुम रूठे तो प्यार न होगा।

मणियों में तुम ही तो कौस्तुभ
तारों में तुम ही तो चन्दा,
नदियों में तुम ही तो गंगा
गन्धों में तुम ही निशिगन्धा।

दीपक में जैसे लौ-बाती,
तुम प्राणों के संग-सघाती,
तन बिछुड़े तो बात न कोई
तुम बिछुड़े सिंगार न होगा।

जग रूठे तो बात न कोई
तुम रूठे तो प्यार न होगा।

व्योम नहीं यह, भाल तुम्हारा
धरा नहीं है धूल चरण की,
सृष्टि नहीं यह लीला केवल
सृजन-प्रलय की प्रलय-सृजन की,

तन का, मन का, जग जीवन का
तुमसे ही नाता इन-उन का,
हम न रहे तो बात न कोई
तुम न रहे संसार न होगा।

जग रूठे तो बात न कोई
तुम रूठे तो प्यार न होगा।

पूनम गौर कपोल विराजे
अधर हँसें उर अरुणीली,
कुन्तल-लट से लिपटी संध्या
श्यामा अंजन-रेख नशीली,

सारे सागर, दिशि भू-अम्बर
तुमसे ही द्युतिमान चराचर
रवि न उगे तो बात न कोई
तुम न उगे उजियार न होगा।

जग रूठे तो बात न कोई
तुम रूठे तो प्यार न होगा।

तुम बोले संगीत जी गया
तुम चुप हुई चुप वाणी,
तुम विहँसे मधुमास हँस उठा
तुम रोये रो उठा हिमानी,

जन्मविरह-दिन, मरणमिलन-क्षण,
तुम ही दोनों पर्व चिरन्तन,
दृग न दिखें तो बात न कोई
तुम न दिखे दरबार न होगा।

जग रूठे तो बात न कोई
तुम रूठे तो प्यार न होगा।

तुमसे लागी प्रीति, बिना-
भाँवर दुलहिन हो गई सुहागिन,
तुमसे हुआ बिछोह, मृत्तिका-
की बन्दिन हो गई अनादिन,

निपट-बिचारी, निपट-दुखारी
बिना तुम्हारे राजकुमारी,
मुक्ति न मिले, न कोई चिन्ता
तुम न मिले भव पार न होगा।

जग रूठे तो बात न कोई,
WD|
तुम रूठे तो प्यार न होगा।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :