शून्य के चमत्कार को नमस्कार...!

- श्रीनिवास वत्स

ND|
ND

अंकों के मामले में विश्व भारत का ऋणी है। भारत ने की खोज की। किसी भी व्यक्ति के मन में प्रश्न उठना स्वाभाविक है कि शून्य की खोज भारत में क्यों और कैसे हुई? आवश्यकता आविष्कार की जननी है। हमारे पूर्वज जानते थे कि आने वाले समय में भारत को शून्य की बहुत आवश्यकता पड़ेगी इसीलिए उन्होंने शून्य की खोज की।

आज ऐसे बहुत से मामले हैं जो शून्य से संबंधित हैं। सरकार नव निर्माण की योजनाएं बनाती है। इनमें सड़कें बनती हैं, भवन बनते हैं, बांध, नहरें और न जाने क्या-क्या पर इनमें से अधिकांश चीजें सिर्फ कागजों पर बन कर वास्तविक आकार लेने से पूर्व शून्य में विलीन हो जाती हैं। फिर जांच होती है, आयोग बैठते हैं और परिणाम शून्य ही रहता है।

शून्य कहने को तो शून्य है परंतु शून्य का ही चमत्कार है कि यह एक से दस, दस से हजार, हजार से लाख, करोड़ कुछ भी बना सकता है। बहुत से व्यक्ति भावशून्य होते हैं। ऐसे व्यक्ति जब राजनीति में सक्रिय होते हैं तो देखते ही देखते करोड़पति बन जाते हैं।
ND
चोर-उचक्के गली-मौहल्लों में चोरियां करते हैं। इससे बड़े स्तर की लूट को डाका कहा जाता है और राष्ट्रीय स्तर की चोरी घोटाला कहलाती है। हिंदुस्तान में सहज तरीके से तीनों तरह की चोरियां होती रहती हैं। अपराधों के आंकड़े बढ़ते जाते हैं और पुलिस की भूमिका शून्य होती जाती है।
शून्य की विशेषता है कि इसे किसी संख्या से गुणा करो अथवा दो, फल शून्य ही रहेगा। महंगाई से परेशान जनता कितने ही धरने-प्रदर्शन करे अथवा मंत्रियों के चक्कर काटती फिरे, परिणाम शून्य ही रहता है। जब क्रिकेट का मौसम आता है तो दफ्तरों में हाजिरी शून्य के आसपास पहुंच जाती है।
राजनीतिज्ञ तो शून्य को अपना इष्टदेव मानते हैं। राजनीति में आने से पूर्व वे शून्य थे, अब देश व समाज को शून्य बना रहे हैं। इसीलिए इन शून्य साधकों के लिए संसद सत्र में शून्यकाल का प्रावधान रखा गया है।

उधर मठाधीश लोगों को समझा रहे हैं, साथ क्या लाया था? साथ क्या ले जाएगा? जीव शून्य से आता है, शून्य में खो जाएगा। दान कर और भवसागर से पार कर। कई लोग दान पुण्य के मामले में शून्य हैं तो कई दान पुण्य करके शून्य हो गए।
यदि बच्चे का रिपोर्ट कार्ड यदि शून्य दर्शाए तो अध्यापक की कार्यक्षमता पर प्रश्नचिह्न लगाने से पूर्व शिक्षा पद्धति का मूल्यांकन जरूर कर लें जिसके बोझ से बालक का मस्तिष्क शून्य हो गया है। संस्कार शून्य युवा वर्ग रोजगार शून्य भी होता जा रहा है। ऐसे में आतंक के नाम पर कुछ सिरफिरे संवेदन शून्य होकर अबोध लोगों को मार रहे हैं।
पृथ्वी गोल है, शून्य भी गोल है। दुनिया में सब गोलमाल है। ऐसे में कोई शून्य के प्रभाव से बच भी कैसे सकता है।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

धड़क : फिल्म समीक्षा

धड़क : फिल्म समीक्षा
मराठी में बनी सुपरहिट फिल्म 'सैराट' का हिंदी रीमेक 'धड़क' नाम से बनाया गया है। जिन्होंने ...

एली अवराम के हॉट फोटो में देखिए उनका मदमस्त अंदाज

एली अवराम के हॉट फोटो में देखिए उनका मदमस्त अंदाज
एली अवराम फिल्म और टीवी की दुनिया में जाना-पहचाना चेहरा है। उन्हें कुछ फिल्मों में हीरोइन ...

सनी देओल और राजकुमार संतोषी ने मिलाए हाथ, धमाकेदार फिल्म ...

सनी देओल और राजकुमार संतोषी ने मिलाए हाथ, धमाकेदार फिल्म करेंगे साथ
सनी देओल और राजकुमार संतोषी ने बतौर हीरो और निर्देशक के 'घायल', 'घातक' और 'दामिनी' जैसी ...

फन्ने खान की कहानी

फन्ने खान की कहानी
फन्ने खान एक मध्यमवर्गीय पुरुष फन्ने खान (अनिल कपूर) की कहानी है जिसने जवानी के दिनों में ...

सेक्रेड गेम्स में बोल्ड सीन करने वाली राजश्री देशपांडे रियल ...

सेक्रेड गेम्स में बोल्ड सीन करने वाली राजश्री देशपांडे रियल लाइफ में करती हैं ये काम
इन दिनों सोशल मीडिया पर वेब सीरिज 'सेक्रेड गेम्स' की कुछ क्लिपिंग्स वायरल हो रही हैं ...

सनी देओल और अजय देवगन थे 'करण अर्जुन' की पहली पसंद

सनी देओल और अजय देवगन थे 'करण अर्जुन' की पहली पसंद
1995 में प्रदर्शित फिल्म 'करण अर्जुन' ने बॉक्स ऑफिस पर धमाकेदार सफलता हासिल की थी। इस ...

जाह्नवी कपूर ने इस एक्टर को लिख दिया था 'आई लव यू'

जाह्नवी कपूर ने इस एक्टर को लिख दिया था 'आई लव यू'
श्रीदेवी की बेटी जाह्नवी कपूर की पहली फिल्म 'धड़क' रिलीज हो चुकी है और पहले ही दिन फिल्म ...

अस्पताल में लड़की को गाना सुनाने गए थे गायक मुकेश

अस्पताल में लड़की को गाना सुनाने गए थे गायक मुकेश
दर्दभरे नगमों के बेताज बादशाह मुकेश

रितिक रोशन और टाइगर श्रॉफ की सुपर बिग बजट धमाकेदार एक्शन ...

रितिक रोशन और टाइगर श्रॉफ की सुपर बिग बजट धमाकेदार एक्शन मूवी
बॉलीवुड निर्देशक सिद्धार्थ आनंद, रितिक रोशन और एक्शन स्टार टाइगर श्रॉफ को लेकर धमाकेदार ...

लवमेकिंग सीन के पहले नर्वस हो गई थीं ये एक्ट्रेस, फिर मां ...

लवमेकिंग सीन के पहले नर्वस हो गई थीं ये एक्ट्रेस, फिर मां के साथ बैठ कर देखा सीन
भूमि पेडनेकर की छवि गर्ल नेक्स्ट डोर की है क्योंकि उन्होंने 'दम लगा के हईशा' 'टॉयलेट एक ...