बदलती कहावत...

WD

'नेकी कर दरिया में डाल' कहावत को

अब बदलकर 'नेकी कर कचरे में डाल' कर देना चाहिए।

आदमी के पास पीने को पानी नहीं है,

दरिया कहाँ से आएगा।
WD|
- राजेंद्र शर्मा

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :