जीपीएस से होगी गिलहरियों की गिनती!

ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम

भाषा|
FILE
का में पाई जाने वाली लुप्तप्राय: विशाल गिलहरी की सटीक गिनती के लिए से पहली बार ‘: जीपीएस’ का इस्तेमाल करने जा रहा है।
गौरतलब है कि की पहली अनुसूचि में शामिल यह गिलहरी लुप्त होने के कगार पर है। भीमशंकर अभयारण्य में देश के 12 में से एक ‘ज्योर्तिलिंग’ भी मौजूद है।

FILE
इस नए अभियान के प्रभारी वनाधिकारी राजेंद्र नाले ने बताया, ‘इन गिलहरियों की आखिरी बार की गई गिनती में पता चला था कि इनमें से 1200 अभी भी भीमशंकर में मौजूद हैं, हालांकि उन्हें विरले ही देखा गया।’
उन्होंने बताया कि इस काम के लिए 10 उपकरणों के अलावा इतने ही खोजियों को भी लगाया जाएगा, जिन्हें दूरबीन और कंपास भी दिए जाएंगे। राजेंद्र ने बताया कि जीपीएस के जरिए जुटाए गए आंकड़ों को एक पर दर्ज किया जाएगा। (भाषा)


और भी पढ़ें :