देश-विदेश में डेंटिस्ट्री का भविष्य

ND
यह कैसे हो सकता है कि दूसरों के चेहरे पर नूर बरसाने वाले का करियर चमकदार न हो? डेंटिस्ट्री निश्चित ही आज की नई दुनिया का एक ऐसा प्रोफेशन है, जिसका आज भी चमकदार है और कल तो और भी ज्यादा चमकदार होगा। जहाँ तक भारतीय दंत चिकित्सा क्षेत्र का प्रश्न है वह अत्यधिक चमकदार है क्योंकि पिछले कुछ दिनों से यह एक परिष्कृत पेशा अर्थात साफिस्टिकेटेड प्रोफेशन के रूप में उभरा है। कल तक यह आलम था कि डेंटिस्ट को ग्राहकों का इंतजार होता था और आज हालत यह है कि अपना मुँह पकड़े ग्राहक घंटों डेंटिस्ट के क्लिनिक पर सोचता रहता है मेरा नंबर कब आएगा।

विदेशों में दाँतों के प्रति शुरू से ही जागरूकता बनी हुई है, लेकिन अब विदेशियों में यह जागरूकता भी आ गई है कि भारत में ओरल ट्रीटमेंट न केवल सस्ता है, बल्कि इस क्षेत्र में उन्हें दी जाने वाली सर्विसेज भी वर्ल्ड क्लास है। यही कारण है कि अमेरिका और ब्रिटेन जैसे अतिविकसित देशों के लोगों का ओरल ट्रीटमेंट के लिए भारत आने का सिलसिला बढ़ता ही जा रहा है।

सबसे अच्छी बात यह है कि विदेशी प्रवासियों को भारत में न केवल सस्ती और अच्छी उपचार सुविधा मिल जाती है बल्कि वे अपने देश से कम खर्च कर यहाँ पर्यटन और आराम का मजा भी उठा रहे हैं और इससे हमारे डेंटिस्टों की झोली भी खनाखन करते नहीं थक रही है।

पिछले साल ही लंदन में रहने वाले एक दंपति भारत आए थे। उन्होंने दिल्ली स्थित सरकारी अस्पताल से नई बत्तीसी बनवाई। इस पर उन्हें मात्र 700 रुपए का खर्च आया था। उन्होंने बताया कि यदि यही बत्तीसी वे लंदन में बनवाते तो इस पर उन्हें 5000 पौंड अर्थात लगभग चार लाख रुपए खर्च करना पड़ते। इसी तरह विदेशों में सभी तरह का ओरल ट्रीटमेंट अत्यधिक महँगा है।

अमेरिका में नागरिक हर साल औसतन 70 बिलियन अमेरिकी डॉलर जितनी भारी भरकम राशि दंत सेवाओं पर खर्च करते हैं जिसमें जाँच से लेकर इम्प्लांट तथा नई कास्मेटिक व्हाइटिंग सेवा भी शामिल है। इसने भारत के लिए डेंटल टूरिज्म का कार्य क्षेत्र बढ़ाकर भारतीय डेंटिस्ट का भविष्य जगमग कर दिया है।

विदेशों में भविष्य
ND|
जहाँ तक विदेशों का प्रश्न है दुनिया के सारे देशों में डेंटिस्ट्री को एक सम्मानजनक प्रोफेशन माना जाता है। कई विकसित देशों में डेंटिस्ट सबसे ज्यादा पैसा कमाने वाले प्रोफेशनल्स माने जाते हैं। कई देशों में तो यह हालत है कि लोगों को डेंटल एपॉइंटमेंट के लिएदो से लेकर तीन महीने लंबा इंतजार करना पड़ता है और इस इंतजार के बावजूद वे दंत चिकित्सा पर जो राशि हँसते-हँसते देते हैं वह भारत में उसी उपचार पर होने वाले व्यय से हजार गुना तक ज्यादा होता है।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :