नोटबंदी ने बढ़ाईं महिलाओं की मुश्किलें : सचिन पायलट

Last Updated: सोमवार, 9 जनवरी 2017 (19:21 IST)
जयपुर। के प्रदेशाध्यक्ष ने कि कहा कि नोटबंदी के कारण महिलाओं की बचत की राशि बैंकों में जमा होने से कर के दायरे में आ गई है। पायलट महिला कांग्रेस द्वारा भाजपा सरकार की नोटबंदी के खिलाफ आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने दावा किया कि नोटबंदी गरीब परिवारों के लिए जीवन-यापन मुश्किल हो गया है। देशभर में एक करोड़ से ज्यादा लोग बेरोजगार हो गए हैं। केंद्र सरकार के खिलाफ एक मुहिम शुरू की गई है जिसके तहत आज राजस्थान के सभी जिलों में सरकार की नोटबंदी के फैसले के खिलाफ प्रदर्शन किए गए हैं।
उन्होंने कहा कि महिलाओं को बैंकों एवं एटीएम में पैसा उपलब्ध नहीं होने के कारण घर खर्च चलाने में मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। बच्चों की फीस जमा करवाने में भी कठिनाईयों का सामना करना पड़ रहा है। बेरोजगारी के कारण गरीब लोगों के चूल्हे तक नहीं जल रहे हैं। बच्चियों की शादियां तक स्थगित करनी पड़ी हैं। सरकार की इस नीति ने लोगों के जीवन को अस्त-व्यस्त कर दिया है। ग्रामीण इलाकों में तो हालात और भी चिंताजनक हैं।
Widgets Magazine
पायलट ने आरोप लगाया कि भाजपा ने जनादेश के खिलाफ जाकर जनता पर ‘आर्थिक आतंक’ थोप दिया है। बिना सोचे-समझे लिए गए नोटबंदी के फैसले के कारण उत्पन्न हुई समस्याओं का 60 दिन बाद भी कोई समाधान नहीं निकला है। आम लोग बैंकों व एटीएम के बाहर कतारों में खड़े हैं, वहीं दूसरी ओर उद्योगपतियों व भाजपा के नेताओं ने आसानी से अपना कालाधन सफेद कर लिया है।

लगभग एक करोड़ लोग बेरोजगार हो गए हैं, नोटबंदी के फैसले ने आम जनता की कमर तोड़ दी है। पायलट ने कहा कि एक तरफ तो नोटबंदी से जनता के पास पैसा नहीं है, दूसरी ओर केंद्र व राज्य की सरकार प्रतिदिन महंगाई को बढ़ा रही है। प्रदर्शन के दौरान महिलाओं के साथ पायलट ने भी थाली बजाकर विरोध-प्रदर्शन किया। (भाषा)

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।


Widgets Magazine

और भी पढ़ें :