नोटबंदी कड़वी‍ दवा, डॉक्टर को बीमारी का पता नहीं

पुनः संशोधित बुधवार, 8 नवंबर 2017 (15:38 IST)
नई दिल्ली। नोटबंदी के शुरुआती दिनों में सरकार बहुत उत्साहित थी और प्रधानमंत्री मोदी ने इसके लिए कुल 50 दिन का समय मांगा था। रिजर्व बैंक शुरुआत में रोजाना बता रहा था कि बैंकों में कितने रद्द नोट वापस आ गए हैं। लेकिन दिसंबर के आखिरी दिनों में अचानक यह जानकारी देना बंद कर दी गई क्योंकि जिस गति से रद्द नोट बैंकों में वापस आ रहे थे, उससे सरकार की फजीहत होनी तय थी और नोटबंदी के बाद तक कुल कितने रद्द नोट वापस आ चुके हैं, इसे बताने में रिजर्व बैंक महीनों आना-कानी करता रहा। नोटबंदी के एक साल बाद भी रिजर्व बैंक की नोटों की गिनती जारी है और सरकारी जानकारों के अनुसार पूरी गिनती में छह माह और लग सकते हैं।

जब संसद ने मामले में हस्तक्षेप करना चाहा तो रिजर्व बैंक ने संसदीय समिति को यह कह कर टरका दिया कि अभी रद्द नोटों की गिनती जारी है, जबकि 97 प्रतिशत रद्द नोट बैंकों में वापस आ चुके हैं। यह जानकारी दिसंबर के आखिरी दिनों में सार्वजनिक हो चुकी थी। देर से आई भारतीय रिजर्व बैंक की सालाना रिपोर्ट ने नोटबंदी की सरकारी उम्मीदों पर पानी फेर दिया।

इस रिपोर्ट से उजागर हुआ कि 500 और 1000 रुपए के रद्द किए नोटों में से 99 फीसदी नोट रिजर्व बैंक के पास वापस आ गए हैं। नोटबंदी के समय रिजर्व बैंक के मुताबिक 15.44 लाख करोड़ रुपए के रद्द नोट प्रचलन में थे। इनमें से 15.28 लाख करोड़ रुपए बैंकिंग सिस्टम में वापस लौट आए हैं। महज 16000 करोड़ रुपए के प्रतिबंधित नोट वापस नहीं आए।

रिजर्व बैंक की इस रिपोर्ट ने बता दिया कि नोटबंदी अपने घोषित लक्ष्यों को पाने में बुरी तरह नाकाम रही। अब तक प्रधानमंत्री मोदी और उनके मंत्री यह बताने में असमर्थ रहे हैं कि नोटबंदी के इलाज से देश का क्या भला हुआ, व्यापार बढ़ा, रोजगार में इजाफा हुआ या आर्थिक विकास दर बढ़ी। पर इतना सबको मालूम है कि नोटबंदी के दौरान बैंकों के आगे लगी लंबी-लंबी कतारों के कारण किसी कालेधन के स्वामी की अकाल मौत नहीं हुई। लेकिन 100 से ज्यादा मेहनतकश गरीब लोग नोटबंदी की यातना से अपनी जान खो बैठे।

यह केंद्र सरकार का सीधा-सीधा नुकसान है। इसके साथ नोटबंदी से आई भारी नकदी पर रिजर्व बैंक को 18 हजार करोड़ रुपए ब्याज देना पड़ा और नए नोटों की प्रिंटिंग पर साढ़े चार हजार करोड़ रुपए अलग से खर्च करने पड़े। ऐसे नोटबंदी को लेकर प्रधानमंत्री मोदी और वित्त मंत्री अरुण जेटली की दलीलों में कोई दम नजर नहीं आता है।

प्रधानमंत्री मोदी ने इसे काला धन, भ्रष्टाचार, नकली नोट, आतंकवाद और नक्सलवाद के खिलाफ जंग बताया था। पर वित्तमंत्री कहते हैं कि नोटबंदी का असली मकसद काला धन को समाप्त करना नहीं, वित्त व्यवहार बदलने के लिए किया गया फैसला था। कुल मिलाकर नोटबंदी का फैसला उस कड़वी दवा के जैसा था जिसका बुरा स्वाद अभी लोगों की जुबान पर है लेकिन दवा देने वाले को पता ही नहीं था कि बीमारी क्या थी और वे किसका इलाज कर रहे थे?


Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

कठुआ गैंगरेप मामला, पीड़िता की वकील को भी रेप का डर

कठुआ गैंगरेप मामला, पीड़िता की वकील को भी रेप का डर
जम्मू। बहुचर्चित रसाना मामले में नए मोड़ आ रहे हैं। अगर जम्मू की जनता मामले की जांच सीबीआई ...

टीवी के जरिए होगी आप पर सरकार की नजर

टीवी के जरिए होगी आप पर सरकार की नजर
नई दिल्ली। सरकार की नजर अब लोगों के टीवी सेट पर भी पहुंचने वाली है। सूचना व प्रसारण ...

नहीं रखने चाहिए बच्चों के ये नाम, वर्ना पछताएंगे

नहीं रखने चाहिए बच्चों के ये नाम, वर्ना पछताएंगे
हिंदुओं में वर्तमान में यह प्रचलन बढ़ने लगा है कि वे अपने बच्चों के नाम कुछ हटकर रखने लगे ...

इन पांच वज़हों से होते हैं बलात्कार

इन पांच वज़हों से होते हैं बलात्कार
जम्मू के कठुआ में आठ साल की बच्ची आसिफा के बलात्कार के बाद नृशंस हत्या से पूरा भारत ...

3 बड़ी बीमारियों का इलाज है लौकी के छिलके

3 बड़ी बीमारियों का इलाज है लौकी के छिलके
लौकी ही नहीं उसका छिलका भी कुछ समस्याओं के लिए कारगर औषधि है। जानिए कौन सी 3 समस्याओं का ...

खूनी मुठभेड़ के बाद पुलिस जवानों ने सपना चौधरी के गाने पर ...

खूनी मुठभेड़ के बाद पुलिस जवानों ने सपना चौधरी के गाने पर किया डांस (वीडियो)
नागपुर। पूर्वी महाराष्ट्र के गढ़चिरौली जिले में हुई मुठभेड़ में 27 नक्सली मारे गए। पहले ...

मूल मानवाधिकारों का दुश्मन है आतंकवाद : सुषमा

मूल मानवाधिकारों का दुश्मन है आतंकवाद : सुषमा
बीजिंग। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने मंगलवार को कहा कि आतंकवाद मूल मानवाधिकारों का दुश्मन ...

मुकेश अंबानी फॉर्च्यून की टॉप 50 अग्रणी लोगों की सूची में

मुकेश अंबानी फॉर्च्यून की टॉप 50 अग्रणी लोगों की सूची में
नई दिल्ली। फॉर्च्यून पत्रिका ने उद्योगपति मुकेश अंबानी और मानवाधिकार अधिवक्ता इंदिरा ...

जियो लाया एप्पल वॉच सीरीज 3, घड़ी में मिलेंगे मोबाइल फोन ...

जियो लाया एप्पल वॉच सीरीज 3, घड़ी में मिलेंगे मोबाइल फोन जैसे फीचर
एप्पल वॉच सीरीज-3 सेल्यूलर फोन की खूबियों के साथ लांच की गई है। कॉल करने और रिसिव करने का ...

भारतीय सेना का पाकिस्तान को करारा जवाब, पांच सैनिक ढेर, कई ...

भारतीय सेना का पाकिस्तान को करारा जवाब, पांच सैनिक ढेर, कई बंकर तबाह
श्रीनगर। पाकिस्तानी सेना द्वारा एलओसी के कई सेक्टरों में की जा रही लगातार गोलाबारी का ...

वीवो का धमाकेदार सेल्फी फोन वीवो वी 9, ये हैं फीचर्स

वीवो का धमाकेदार सेल्फी फोन वीवो वी 9, ये हैं फीचर्स
चीनी स्मार्टफोन निर्माता कंपनी वीवो ने पिछले महीने भारत में अपना नया सेल्फी स्मार्टफोन ...

सस्ते Nokia 1 के साथ जियो का कैश बैक ऑफर

सस्ते Nokia 1 के साथ जियो का कैश बैक ऑफर
एचएमडी ग्लोबल ने एंड्राइड गो एडिशन के स्मार्टफोन्स के पहले बैच में Nokia 1 फोन को भारत ...

Xiaomi Redmi 5, सस्ता फोन, दमदार फीचर्स

Xiaomi Redmi 5, सस्ता फोन, दमदार फीचर्स
चीनी मोबाइल कपंनी ने भारतीय बाजार में एक और किफायती फोन लांच किया है। नए रेडमी 5 की कीमत ...

दो रियर कैमरों वाला सस्ता स्मार्ट फोन, जानिए फीचर्स

दो रियर कैमरों वाला सस्ता स्मार्ट फोन, जानिए फीचर्स
भारतीय कंपनी स्वाइट टेक्नोलॉजीज ने एक नया स्मार्टफोन लांच किया है। Swipe Elite Dual नाम ...

Nokia के इस स्मार्टफोन पर मिल रहा है भारी डिस्काउंट

Nokia के इस स्मार्टफोन पर मिल रहा है भारी डिस्काउंट
भारत में Nokia 6 के 3जीबी रैम वेरिएंट की कीमत पर जबर्दस्त डिस्काउंट मिल रहा है। ...