एशिया कप में दूसरी बार फाइनल मुकाबले में भारत और बांग्लादेश होंगे आमने-सामने

अतुल शर्मा|
दुबई में खेले जा रहे एशिया कप टूर्नामेंट के मुकाबले में भारतीय टीम 28 सितंबर को चैंपियन बनने के इरादे से मैदान पर उतरेगी। रोहित शर्मा की कप्तानी में टीम इंडिया पहली बार बांग्लादेश के साथ एशिया कप के फाइनल मुकाबले में आमने-सामने होगी। जिस तरह से बांग्लादेश ने पाकिस्तान को हराया है, उसे देखकर कहा जा सकता है कि फाइनल मैच रोमांचक होने के साथ ही साथ दिलचस्प भी होगा।

धोनी की कप्तानी में जीता था भारत : इससे पहले 2016 के टी-20 एशिया कप में भी भारत और बांग्लादेश की टी‍में आपस में भिड़ी थीं। उस समय टीम इंडिया के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी थे और इस मुकाबले को 8 विकेट से जीतकर बांग्लादेश के खिलाफ पहली बार एशिया कप का खिताब अपने नाम किया था।

भारत का शानदार अतीत : में एशिया कप टूर्नामेंट का आयोजन 3 बार हुआ है। 1984 में पहली, 1995 में दूसरी और अब 2018 में तीसरी बार यहां यह आयोजित हुआ है। इसमें सबसे मजेदार बात यह रही कि तीनों ही मर्तबा भारतीय टीम फाइनल मुकाबले तक पहुंची।
जीत का सिलसिला आगे बढ़ाने की जिम्मेदारी रोहित पर : 1984 में खेले गए एशिया कप टूर्नामेंट के फाइनल मैच में टीम इंडिया का मुकाबला श्रीलंका के साथ हुआ था, जिसमें भारतीय टीम की कप्तानी सुनील गावस्कर ने करते हुए टीम को जीत दिलाई थी। 1995 में दूसरी बार भारतीय टीम फाइनल मुकाबले में श्रीलंका से भिड़ी और भारतीय टीम को मोहम्मद अजरुद्दीन ने शानदार जीत दिलाई। इसी तरह तीसरी बार भी जीत को बरकरार रखने की तमाम जिम्मेदारी रोहित शर्मा के कंधों पर है।

एशिया कप 2018 में टीम का प्रदर्शन : इस एशिया कप टूर्नामेंट में टीम इंडिया ने मिलाजुला प्रदर्शन किया। उसने कुल 5 मैच खेले, जिसमें से एक 'टाई' रहा और 4 मैचों में जीत हासिल की। भारत का पहला मैच हांगकांग से हुआ था, जिसमें वह रोमांचक स्थिति में जाकर विजयी हुआ था। भारत-पाकिस्तान के बीच दो मुकाबले हुए, जिसमें टीम इंडिया ने पाकिस्‍तान को बुरी तरह 8 और 9 विकेट से शिकस्त दी। अफगानिस्तान के खिलाफ भारत ने बैंच स्ट्रेंथ को मौका दिया, लेकिन अफगानी गेंदबाजों की तारीफ करनी होगी, जिन्होंने बेहद रोमांचक मुकाबले को 'टाई' पर समाप्त कराया।
बांग्लादेश का प्रदर्शन : 2015 से पहले बांग्लादेश के ऊपर ऐसी मनहूसियत छाई थी कि उसने 25 मैच खेले, जिसमें से वह एक भी मैच नहीं जीत पाया था, लेकिन 2015 के बाद बांग्लादेश का सितारा चमका और इस टीम ने 4 मैच खेले और चारों में ही जीत हासिल की।

पाकिस्तान पर जीत से मनोबल बढ़ेगा : बांग्लादेश ने जिस तरह फाइनल की पायदान चढ़ने से पहले ताकतवर पाकिस्तान को 37 रनों से हराया, उससे लगता है कि उसका मनोबल आसमान को छू रहा होगा। बल्लेबाजी में जहां एक ओर मुशफिकुर रहीम केवल 1 रन से शतक चूके, वहीं दूसरी ओर उसके नायाब गेंदबाज मुस्तफिजुर रहमान ने 43 रन देकर 4 विकेट हासिल कर दर्शकों का दिल जीत लिया।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :