आइए आज चलते हैं सांता के घर

क्रिसमस पर आप लोग सांता के आने का इंतजार करते हैं ना। इस बार क्रिसमस बहुत ही खास है क्योंकि सांता तो आपके लिए तोहफे लाने ही वाले हैं पर इस बार आप भी सांता की दुनिया की सैर पर निकलने वाले हैं। तो गर्म कपड़े पहन लीजिए क्योंकि सांता की दुनिया में पूरे सालभर बहुत ठंड पड़ती है। 
बच्चों क्या आप जानते हैं कि सांता का घर कहां है जहां वह अपनी पत्नी मिसेस सांता और एक बहुत बड़े परिवार के साथ रहते हैं?
 
सांता नार्थ पोल पर रहते हैं। नार्थ पोल कनाडा, डेनमार्क, फिनलैंड, आइसलैंड, नार्वे, रशिया, स्वीडन और यूनाइटेड स्टेट्स जैसे देशों के पास है। सांता का घर बहुत बड़ा है, इतना बड़ा कि इसमें अनगिनत लोग रहते हैं। में एक खास जगह है जिसे सांता की डेन यानी निजी जगह कहा जाता है जहां सभी लोग जिसमें सांता, उनकी पत्नी, बहुत सारे एल्व्स और रेनडियर्स एक साथ रहते हैं। 
 
सांता का घर बहुत बड़ा है और पूरे साल वह क्रिसमस के दिन की तरह सजा हुआ रहता है। यहां बहुत रोशनी होती है और पूरा घर बर्फ से ढंका हुआ रहता है। यह बहुत सुंदर लगता है। यहां एक बड़ा सा क्रिसमस ट्री रहता है जो बेहद खूबसूरत दिखाई देता है, सांता की पत्नी और एल्व्स मिलकर इसे सजाते हैं। 
 
इस घर में एक क्राफ्ट कॉटेज यानी हाथ से सामान बनाने की खास जगह है, जहां एल्व्स मिलकर खूबसूरत सामान जैसे ग्रीटिंग कार्डस, फूलों की डलियां, कागज के फूल, सुंदर पर्स, लकडी की नाव, गुलदस्ते और भी बहुत कुछ बनाते हैं वैसे ही जैसे आप अपने स्कूल में क्राफ्ट की क्लास में बनाते हैं। 
यहां क्राफ्ट बनाने वाली एक लड़की मैगी है जो आपके जैसी ही छोटी और प्यारी सी बच्ची है। मैगी सांता जैसा टोप पहनती है। यह सालभर अच्छी बच्ची बनी रहती है और रोज स्कूल जाती है। इसे क्राफ्ट बनाने में बहुत मजा आता है और यह बहुत सुंदर-सुंदर चीजें सांता की क्राफ्ट कॉटेज में बनाती है। उसे खास तौर पर बच्चों के लिए सजने-संवारने की चीजें जैसे कान में पहनने के लिए बाली, नेकलेस, और बालों के लिए क्लिप्स हाथ से बनाने का बहुत शौक है। 
 
सांता के घर का दूसरा हिस्सा एक डाकघर है। मजा आया ना, यही वह जगह है जहां आपके द्वारा भेजे गए खत पहुंचते है और सांता को पता चलता है कि आप अपने लिए क्या तोहफा चाहते हैं। यहां डाकघर का सारा काम सांता के एल्व्स देखते हैं। यहां एल्फ जिसका नाम बिफ है, आपको डाकघर के बारे में विस्तार से बताएगा। हमने उसे आपसे सीधे बात करने के लिए मना लिया है। मजा आ रहा है ना। तो सुनिए बिफ क्या कहता है- 
 
हेलो बच्चो, 
 
मैं बिफ हूं, मै सांता के डाकघर में काम करता हूं। आपको पता है सांता आपके सभी लेटर्स को खुद पढ़ते हैं और नोट करते हैं कि आपने क्या फरमाइश भेजी है और कौन सा तोहफा अपने लिए पसंद किया है। सांता चाहते हैं कि आप एक बड़ा सा लेटर भेजें जिसमें न सिर्फ आपके तोहफे के बारे में लिखा हो बल्कि आप क्या सोचते हैं, अपने मम्मी-पापा, टीचर, फ्रेंड, और बाकी सारे रिश्तेदारों से क्या चाहते हैं यह भी लिखा हो। आपको क्या पंसद है, क्या नापंसद है, और इन सभी को खुद में क्या बदलाव लाना चाहिए,यह सब आपको लिखना होगा ताकि सांता इन सभी से बात करके आप की इच्छाओं को मनवा सके। जी हां बच्चों, सांता ये सब कर सकते हैं। 
 
अभी के लिए टाटा, आप अपना लेटर लिखना मत भूलिएगा।  
 
आपका, 
बिफ 
 
 
बच्चों कैसा लगा बिफ का परिचय, अच्छा था ना। आप अपना अभी से लिखना शुरू कर दीजिए ताकि आपकी इच्छाओं  को सांता जल्द से जल्द पूरा करवा सकें और हां अपना लेटर अपने मम्मी-पापा को जरूर दिखा देना। सांता को छुपाकर काम करवाना बिल्कुल पंसद नहीं है। 
 
चलों अब अगली जगह देखते हैं, यह है एल्व्स क्लब हाउस। आइए सबसे पहले हम आपको बताते हैं कि एल्व्स कौन होते हैं। बच्चों, एल्व्स सांता की जादू की दुनिया में, सांता की मदद करने के लिए होते हैं। ये लोग कम ऊंचाई के, काफी समझदार, बुद्धिमान, काम करने में तेज और एनर्जी से भरपूर होते हैं। ऐसे एल्फ आपने हैरी पॉटर की जादुई दुनिया में देखे हैं। याद है वह बैंक जहां हैरी के मम्मी-पापा उसके लिए बहुत सारा पैसा छोड़ गए थे। वह बैंक एल्व्स ही तो चलाते थे। 
सांता के एल्व्स अभी आपके जैसे कम उम्र के बच्चे हैं। ये सालभर आपकी पसंद के तोहफे बनाते हैं और खूब मेहनत करते हैं इसलिए खास इनके आराम के लिए सांता के घर में यह क्लब हाउस बनाया गया है जहां बोनी, बड, बिफ, बर्ट, सैली, विल और सिड जैसे अनगिनत एल्व्स खेलते, कूदते, नाचते, गाते, बोर्ड गेम्स, कार्ड्स, वीडियो गेम्स, और कम्प्यूटर गेम्स खेलते हैं। यहां एल्व्स के लिए दावतों का भी इंतजाम रहता है। है ना मजेदार सांता का घर? 
 
प्रस्तुति : निवेदिता भारती

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

ऐसा उत्पन्न हुआ धरती पर मानव और ऐसे खत्म हो जाएगा

ऐसा उत्पन्न हुआ धरती पर मानव और ऐसे खत्म हो जाएगा
हिन्दू धर्म अनुसार प्रत्येक ग्रह, नक्षत्र, जीव और मानव की एक निश्‍चित आयु बताई गई है। वेद ...

सूर्य कर्क संक्रांति आरंभ, क्या सच में सोने चले जाएंगे सारे ...

सूर्य कर्क संक्रांति आरंभ, क्या सच में सोने चले जाएंगे सारे देवता... पढ़ें पौराणिक महत्व और 11 खास बातें
सूर्यदेव ने कर्क राशि में प्रवेश कर लिया है। सूर्य के कर्क में प्रवेश करने के कारण ही इसे ...

ज्योतिष सच या झूठ, जानिए रहस्य

ज्योतिष सच या झूठ, जानिए रहस्य
गीता में लिखा गया है कि ये संसार उल्टा पेड़ है। इसकी जड़ें ऊपर और शाखाएं नीचे हैं। यदि कुछ ...

श्रावण मास में शिव अभिषेक से होती हैं कई बीमारियां दूर, ...

श्रावण मास में शिव अभिषेक से होती हैं कई बीमारियां दूर, जानिए ग्रह अनुसार क्या चढ़ाएं शिव को
श्रावण के शुभ समय में ग्रहों की शुभ-अशुभ स्थिति के अनुसार शिवलिंग का पूजन करना चाहिए। ...

क्या ग्रहण करें देवशयनी एकादशी के दिन, जानिए 6 जरूरी ...

क्या ग्रहण करें देवशयनी एकादशी के दिन, जानिए 6 जरूरी बातें...
हिन्दू धर्म में आषाढ़ मास की देवशयनी एकादशी का बहुत महत्व है। यह एकादशी मनुष्य को परलोक ...

सोने की लंका का असली इतिहास

सोने की लंका का असली इतिहास
श्रीलंका सरकार ने 'रामायण' में आए लंका प्रकरण से जुड़े तमाम स्थलों पर शोध कराकर उसकी ...

क्या आप भी संकोची हैं, अपना ही सामान मांग नहीं पाते हैं तो ...

क्या आप भी संकोची हैं, अपना ही सामान मांग नहीं पाते हैं तो यह एस्ट्रो टिप्स आपके लिए है
क्या आप भी संकोची हैं, अगर हां तो यह आलेख आपके लिए है...

खांडव वन में इस तरह बसाया था इंद्रप्रस्थ और पांडवों को मिले ...

खांडव वन में इस तरह बसाया था इंद्रप्रस्थ और पांडवों को मिले थे अद्भुत हथियार
कौरव और पांडवों के बीच जब राज्य बंटवारे को लेकर कलह चली, तो मामा शकुनि की अनुशंसा पर ...

श्री गुरु पूर्णिमा : कैसे मनाएं घर में पर्व जब कोई गुरु ...

श्री गुरु पूर्णिमा : कैसे मनाएं घर में पर्व जब कोई गुरु नहीं हो...ग्रहण के कारण इस समय कर लें पूजन
वे लोग जिन्हें गुरु उपलब्ध नहीं है और साधना करना चाहते हैं उनका प्रतिशत समाज में अधिक है। ...

23 जुलाई को है देवशयनी एकादशी व्रत, चातुर्मास होंगे आरंभ, ...

23 जुलाई को है देवशयनी एकादशी व्रत, चातुर्मास होंगे आरंभ, मंगल कार्य निषेध
हरिशयनी एकादशी, देवशयनी एकादशी, पद्मा एकादशी, पद्मनाभा एकादशी नाम से पुकारी जाने वाली ...

राशिफल