अपनी इस कमजोरी की वजह से अजय देवगन नहीं जाएंगे राजनीति में

भारत इन दिनों चुनावी रंग में रंगा हुआ है। लोकसभा चुनाव में इस बार कई बॉलीवुड सितारें अपनी किस्मत अजमा रहे हैं। हर दिन कोई ना कोई एक्टर्स की राजनीति में आने की खबरें आ रही हैं, लेकिन का कहना है कि वह कभी पॉलीटिक्स में नहीं आएंगे और इसके पीछे उन्होंने बेहद अलग तर्क दिया है।

अजय देवगन इन दिनों अपनी अपकमिंग फिल्म 'दे दे प्यार दे' के प्रमोशन में बिजी है। यह फिल्म 17 मई को रिलीज हो रही हैं। फिल्म के प्रमोशन के दौरान जब अजय के पुछा गया कि वो राज‍नीति में आने के बारे में क्या विचार रखते है तो इस पर उन्होंने कहा कि वो कभी राजनीति में कदम नहीं रखेंगे।

अजय देवगन ने इसके पीछे की वजह बताते हुए कहा कि मैं पॉलिटिक्स के लिए बहुत शर्मीला हूं। मुझे लगता है कि मैं राजनीति में खुद को जस्टिफाई नहीं कर पाऊंगा। मैं भीड़ के सामने असहज महसूस करता हूं। मैं कैमरे के सामने सहज हूं लेकिन भीड़ के सामने असहज हूं। मैं इंट्रोवर्ट किस्म का इंसान हूं।

अजय ने कहा कि राजनीति एक ऐसा व्यक्ति-पेशा है जहां किसी को उन लोगों के साथ लगातार बातचीत करने की जरूरत है जिन्होंने आप पर भरोसा किया है। कोई भी एक अच्छा नेता नहीं बन सकता अगर वे बाहर जाने लोगों से मिलने से शर्माते हो।
में चुनाव लड़ने के लिए कई बॉलीवुड सितारों ने एंट्री की है। जहां उर्मिला मातोंडकर ने कांग्रेस का दामन थामा है वहीं सनी देओल बीजेपी की तरफ से चुनाव लड़ रहे हैं। वहीं सपना चौधरी, शिल्पा शिंदे, दिनेश लाल यादव(निरहुआ) जैसे सितारों के नाम भी शामिल है। अजय देवगन भी भाजपा के लिए कैम्पेन कर चुके हैं।


और भी पढ़ें :