भीम आज के जमाने में आ गए तो

रूना आशीष| पुनः संशोधित शनिवार, 2 दिसंबर 2017 (15:16 IST)
जूही चावला मुंबई के बंद्रा इलाके में एक किताब के लांच में पहुंची थी। इस किताब का नाम है 'भीम - डेस्टिनीज़ वॉरियर'। इसके लेखक हैं निर्माता-निर्देशक ज्योतिन गोयल, जिन्होंने 'इनाम दस हजार' और 'जहरीले' जैसी फिल्में बनाई हैं। इसके अलावा ज्योतिन ने देश का पहला साइंस टीवी सीरीज 'अंतरिक्ष' का निर्देशन भी किया है।

लेखक के बारे में बताते हुए जूही कहती हैं "मैंने अपने करियर की शुरुआत में ज्योतिन के साथ काम किया था। उनकी स्क्रिप्ट सधी हुई और बेहतरीन होती थी और अब किताब मैं भी वही झलक मिलती है। हालांकि भीम नाम पढ़ कर मुझे पहले लगा था कि ये बच्चों के लिए लिखी गई किताब है।"

अपनी किताब के बारे में बताते हुए लेखक ज्योतिन का कहना है "ये कहानी एक तरह से बताती है कि अगर भीम आज के जमाने में आ जाएं तो किस तरह की परेशानियों का सामना करेंगे। किस तरह से इन दिक्कतों से निपटेंगे।'

बात पद्मावती की भी निकली। पद्मावति विवाद पर सीधे-सीधे जवाब न देते हुए जूही चावला ने कहा "मैं हाल ही में जयपुर की महारानी से मिली थीं। उनका कहना है कि फिल्म एक बहुत ही बड़ा और अहम माध्यम है। ये वो माध्यम है जिसे आज की पीढ़ी देखती है। यह पीढ़ी शाययद किताब खोल कर अपना इतिहास भी नहीं पढ़ती है। ये वो लोग हैं जो फिल्मों पर विश्वास करते हैं। फिल्में 50 साल बाद या 75 साल बाद भी देखी जाएंगी।" हालांकि इतना कहने के बाद जूही का कहना है कि ये उनका वक्तव्य नहीं है।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :