गणेशोत्सव के मामले में पीछे नहीं बॉलीवुड

Widgets Magazine

महाराष्ट्र में की धूम रहती है और राज्य की राजधानी मुंबई में तो गणपति पर्व एक मुख्य त्योहार के तौर पर मनाया जाता है। फिर भला ‘गणपति बप्पा मोरया’ कहने से कैसे बच सकता है। ढोल नगाड़ों के साथ भगवान गणेश को घर लाने, उनकी पूजा, विसर्जन और उन्हें अपने सुख-दु:ख के बारे में बताने से लेकर गणेशोत्सव की आड़ में स्वार्थपूर्ति जैसे कई घटनाक्रम को बॉलीवुड ने फिल्मों में दिलचस्प तरीके से पेश किया है।
 
गणेशोत्सव को फिल्मों में दिखाने के लिए मुख्य प्रतिमा के आगे नायक या नायिका की शूटिंग तो की जाती है, लेकिन स्थानीय संस्कृति दिखाने के लिए गणेशोत्सव के दौरान लिए गए फुटेज भी प्रयुक्त किए जाते हैं।
 
किसी पीड़ा या तकलीफ से मुक्ति के लिए तो नायक या नायिका को गणपति पूजा करते हुए दिखाया जाता है। किसी भी उत्सव की आड़ में होने वाले अपराध दिखाने के लिए भी फिल्मों में इसका उपयोग किया गया है। जीतेंद्र और संजीव कुमार अभिनीत ‘टक्कर’ में गणेश की प्रतिमा की आड़ में मादक पदार्थों की तस्करी की जाती है। गणेश मंडलों की राजनीति देखनी हो तो नाना पाटेकर की ‘अंकुश’ देखें। 
 
पुरानी ‘अग्निपथ’ में गुस्से से भरे अमिताभ ऐसे समय अपने गांव लौटते हैं जब वहां गणेशोत्सव की धूम मची होती है। वर्ष 2012 में रिलीज हुई रितिक रोशन और संजय दत्त अभिनीत ‘अग्निपथ’ में विशाल गणपति प्रतिमा के साथ यह उत्सव दिखाया गया है। दोनों ही फिल्मों में कहानी का तानाबाना इस तरह बुना गया कि अपराध की साजिशों के बीच गणेशोत्सव और इसका फायदा उठाने की कोशिश में असामान्य कुछ नहीं लगता। 
 
मूल ‘डॉन’ में अमिताभ और उसके सीक्वल में शाहरूख खान गणेशोत्सव पर ढोल बजा कर बच्चों की पढ़ाई के लिए धन का इंतजाम करते नजर आते हैं। वर्ष 2009 में रिलीज हुई फिल्म ‘वान्टेड’ में गणपति पूजा करते नजर आए। उन पर फिल्माया गया गीत ‘तेरा ही जलवा’ बहुत लोकप्रिय हुआ। आज गणेशोत्सव में यह गीत अक्सर बजाया जाता है। ‘हम से बढ़कर कौन’ का हिट गीत ‘देवा हो देवा गणपति देवा’ अभी भी गणेशोत्सव के दौरान सुनने को मिलता है। 
 
फिल्म ‘दर्द का रिश्ता’ में सुनील दत्त गंभीर बीमारी से पीड़ित अपनी बेटी के ठीक होने की कामना करते हुए गणपति स्थापना करते हैं। हालांकि फिल्मों में इस तरह के दृश्यों की खास जरूरत नहीं होती, लेकिन इन्हें संस्कृति के प्रतीक के तौर पर रखा जाना गलत भी नहीं है। हम पांच, प्रतिघात और भी कई फिल्में हैं जिनमें परंपरागत गणेशोत्सव दिखाया गया है। 
 
विघ्नहर्ता को हर शुभ काम से पहले याद करने का चलन रहा है और ऐसा माना जाता है कि गणेश वंदना से शुरू होने वाले काम आसानी से बन जाते हैं। ऐसे में रूपहली दुनिया के लोग भी अगर अपनी फिल्मों में गणेशोत्सव की धूम दिखाकर इसके सफल होने की कामना करते हैं तो इसमें गलत क्या है।
Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।