अजय देवगन की बादशाहो का बॉक्स ऑफिस गणित

और मिलन लथुरिया की 'बादशाहो' साथ में की गई चौथी फिल्म है। इसके पहले वे 'कच्चे धागे' (1999), चोरी चोरी (2003) और वंस अपॉन ए टाइम इन मुंबई (2010) कर चुके हैं। इनके अलावा मिलन ने द डर्टी पिक्चर (2011) और टैक्सी नंबर 9211 (2006) जैसी उम्दा फिल्में भी बनाई है।

मिलन की ताजा फिल्म आपातकाल के दौर की है। वैसे भी सत्तर या अस्सी का दशक दिखाने में मिलन माहिर हैं। उनकी दो बेहतरीन फिल्में वंस अपॉन ए टाइम इन मुंबई और द डर्टी पिक्चर उसी दौर की थी। साथ ही वास्तविक घटनाओं से प्रेरित फिल्में बनाने में भी मिलन को महारत है, लिहाजा 'बादशाहो' से फिल्म उद्योग को काफी उम्मीद है।


फिल्म में अजय देवगन, इमरान हाशमी, इलियाना डीक्रूज, संजय मिश्रा और ईशा गुप्ता जैसे बेहतरीन सितारे हैं। ये बात और है कि इनकी पिछली कुछ फिल्में पर अच्छा नहीं कर पाई, लेकिन इनमें भीड़ खींचने का अभी भी दम है।

फिल्म उद्योग में चर्चा है कि 'बादशाहो' सिंगल स्क्रीन सिनेमाघर के दर्शकों के लिए है और मल्टीप्लेक्स ऑडियंस का झुकाव इस फिल्म की ओर कम है, लेकिन यदि फिल्म अच्छी हो तो यह बात मायने नहीं रखती, हां पहले दिन कलेक्शन जरूर थोड़े प्रभावित रह सकते हैं। इस फिल्म के एक-दो गाने हिट हो चुके हैं और अजय-इमरान की उपस्थिति फिल्म को अच्छी ओपनिंग दिला सकती है।



जहां तक फिल्म का सवाल है तो यह 65 करोड़ रुपये में तैयार हुई है। 20 करोड़ रुपये प्रचार पर खर्च किए गए हैं। इस तरह कुल खर्चा 85 करोड़ रुपये हुआ है। विभिन्न अधिकारों को बेचकर फिल्म ने रिलीज के पहले ही 97 करोड़ रुपये वसूल लिए हैं। यानी निर्माता मुनाफे में हैं। फिल्म यदि 85 करोड़ रुपये का कलेक्शन करती है तो वितरक भी सुरक्षित हो जाएंगे और लग रहा है कि फिल्म सौ करोड़ तक पहुंच सकती है। हालांकि सितंबर में कई फिल्में रिलीज हो रही हैं और फिल्म को कड़ा मुकाबला करना होगा।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :