दुनिया के सबसे ज़्यादा अरबपतियों वाले देश

Last Updated: शनिवार, 11 अगस्त 2018 (10:58 IST)
आप कब होंगे अरबपतियों की सूची में शामिल? इसका जवाब एक रिपोर्ट से मिल सकता है जिसके मुताबिक जब आपके पास 50 करोड़ से ज़्यादा पैसा होगा। और अगर आपके पास इतना पैसा हो तो आप कहां रहना पसंद करेंगे? इसी को लेकर नाइट फ्रेंक एलएलपी एजेंसी 2009 से जानने की कोशिश कर रही है। ये एजेंसी एक रियल एस्टेट एजेंसी और कंसल्टेंसी है जिसकी स्थापना 1896 में लंदन में हुई थी।

इस एजेंसी की हालिया रिपोर्ट के मुताबिक 50 करोड़ डॉलर की संपत्ति वाले ज़्यादातर लोग उत्तर अमेरिकी महाद्वीप में रहते हैं और उसमें भी सबसे ज़्यादा अमेरिका और कनाडा में (31.8%)। इसके बाद एशिया का नंबर है (28.1%) और फिर यूरोप (25.4%) में। बाकी बचे 15 फ़ीसदी मध्य एशिया, ऑस्ट्रेलिया, रूस, राष्ट्रमंडल के स्वतंत्र देश (सीआईएस), लैटिन अमरीका और अफ़्रीका में मिलते हैं।


इस रिपोर्ट को बनाने के लिए एजेंसी ने वेल्थ-एक्स नाम की एक अंतरराष्ट्रीय डेटा कंपनी से जानकारी ली है। ये डेटा कंपनी कई लक्ज़री ब्रांड, एनजीओ और शिक्षण कंपनियों के साथ काम करती है। इसके अलावा रिपोर्ट के लिए जानकारी दुनिया के 500 बड़े बैंकों पर हुए सर्वे से जुटाई गई है। ये 500 बैंक दुनिया के 50 हज़ार लोगों के साथ काम करते हैं जिनकी कुल संपत्ति 3 अरब डॉलर है।

टॉप 10 अरबपतियों के देश
इस रिपोर्ट के मुताबिक टॉप 10 देशों में अमेरिका, चीन, जर्मनी, जापान, हॉन्ग कॉन्ग, कनाडा, स्विट्ज़रलैंड, फ्रांस, रूस, सीआईएस देश और ब्रिटेन आते हैं। हालांकि अमेरिका और दूसरे स्थान वाले चीन के अरबपतियों की संख्या में काफ़ी अंतर है। अमेरिका में चीन के मुक़ाबले 1,340 अरबपति ज़्यादा हैं। अमेरिका में अरबपतियों की तादाद 1,830 है।


इस लिस्ट में भारत भी 200 अरबपतियों के साथ ग्यारहवें स्थान पर है। साल 2016 और 2017 के बीच अरबपतियों की संख्या सबसे ज़्यादा हॉन्ग कॉन्ग (23 फीसदी) में बढ़ी। वहीं ब्रिटेन में 4 फीसदी अरबपति कम भी हुए। भारत में 2016 और 2017 के बीच 18 फ़ीसदी अरबपति बढ़ गए।

एक ये ज़्यादा घर
हम ये साफ़ कर दें कि आमतौर पर अरबपतियों के पास एक से ज़्यादा प्रॉपर्टी होती है और वे दुनिया में कई जगह रहते हैं। इस रिपोर्ट के लिए जिन 500 प्राइवेट बैंकर्स को इंटरव्यू किया गया, उन्होंने बताया कि 50 करोड़ डॉलर से ज़्यादा संपति वाले ग्राहकों के कम से कम 3 घर हैं, जिसमें मुख्य और अतिरिक्त रिहायशी घर शामिल हैं।


इन सभी में एक से ज़्यादा मुख्य घर वाले अरबपति सबसे ज़्यादा मध्य एशिया में थे। औसतन चार घर वाले। सबसे कम मुख्य घर वाले अफ़्रीकी अरबपति हैं जिनके पास औसतन दो घर हैं। इसके साथ-साथ अरबपतियों के पास दो पासपोर्ट होना यानी दो देशों की नागरिकताएं होना आम है। इस रिपोर्ट के मुताबिक सभी रूसी बैंक ग्राहकों में से 58 फीसदी के पास दो पासपोर्ट थे। 41 फीसदी लैटिन अमेरिकी और 39 फीसदी मध्य एशियाई लोगों के पास दो नागरिकताएं थीं।

लिस्ट में कौन-कौन है?
नाइट फ़्रेक एलएलपी की लिस्ट काफ़ी चुनिंदा है। इस लिस्ट में 2,208 लोग ऐसे हैं जिनकी संपत्ति 100 करोड़ डॉलर है और फोर्ब्स 2018 लिस्ट में भी उन्हें जगह दी गई है। उदाहरण के तौर पर जेफ़ बेज़ोस, बिल गेट्स और वॉरन बफ़ेट जो इस साल फोर्ब्स लिस्ट में टॉप पर हैं।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

मुंगेर के निसार हैं 'लावारिस शवों के मसीहा'

मुंगेर के निसार हैं 'लावारिस शवों के मसीहा'
जहां धर्म और मजहब के नाम पर हिंदू और मुसलमानों के बीच तनाव की खबरें सुर्खियों में आती ...

शवों के साथ एकांत का शौक रखने वाला यह तानाशाह

शवों के साथ एकांत का शौक रखने वाला यह तानाशाह
चार अगस्त, 1972, को बीबीसी के दिन के बुलेटिन में अचानक समाचार सुनाई दिया कि युगांडा के ...

तो क्या खुल गया स्टोनहेंज का राज?

तो क्या खुल गया स्टोनहेंज का राज?
शायद आपने फिल्मी गानों में इन रहस्यमयी पत्थरों को देखा हो। इंग्लैंड में प्राचीन पत्थरों ...

कैंसर ने इरफान खान को बदल डाला

कैंसर ने इरफान खान को बदल डाला
अपने एक्टिंग से बॉलीवुड और हॉलीवुड को हिलाने वाले इरफान खान ने कैंसर की खबर के बाद पहला ...

दिल्ली का जीबी रोड: जिस सड़क का अंत नहीं

दिल्ली का जीबी रोड: जिस सड़क का अंत नहीं
दिल्ली की एक सड़क है, जिसका नाम सुनते ही लोगों की भौंहें तन जाती हैं और वे दबी जुबान में ...

वियना दुनिया का सबसे रहने लायक शहर, दिल्ली 112वें, मुंबई ...

वियना दुनिया का सबसे रहने लायक शहर, दिल्ली 112वें, मुंबई 117वें पायदान पर
लंदन। दुनिया के रहने लायक शहरों की सूची में भारत समेत दक्षिणी एशियाई देशों का प्रदर्शन ...

ब्रिटिश संसद के बाहर आतंकी हमला, तेज रफ्तार कार ने ढाया कहर

ब्रिटिश संसद के बाहर आतंकी हमला, तेज रफ्तार कार ने ढाया कहर
लंदन। ब्रिटेन में संसद के बाहर एक आतंकी हमले में आज एक व्यक्ति ने तेज रफ्तार कार पैदल ...

स्वतंत्रता बरकरार रखने के लिए रुका नहीं है कुर्बानियों का ...

स्वतंत्रता बरकरार रखने के लिए रुका नहीं है कुर्बानियों का सिलसिला
अंबाला का विक्रमजीत सिंह 5 साल पहले सेना में भर्ती होने के बाद कश्मीर में शहादत पा गया। ...