BBChindi

ट्यूनीशिया: सेक्स के बाद वर्जिन बनने को मजबूर हैं लड़कियां

Last Updated: सोमवार, 19 जून 2017 (13:02 IST)
- सेहम हसैनी (ट्यूनिश)

ट्यूनीशिया में जब लड़कियों की शादी होती है तो उनसे होने की उम्मीद की जाती है. इस वजह से वहां वर्जिनिटी को फिर से हासिल करने के लिए 'हाइमन' लगाने का कारोबार ख़ूब फल-फूल रहा है।
यास्मीन (बदला हुआ नाम) काफ़ी घबराई हुई हैं। वह अपने नाखूनों को दांत से काटे जा रही हैं लगातार मोबाइल देख रही हैं। उन्होंने कहा, ''मैं इसे धोखे की तरह मानती हूं और इसलिए बहुत दुखी हूं।'' ट्यूनीशिया के एक प्राइवेट क्लिनिक में हम लोग चौथे फ्लोर पर हैं। यहां महिलाओं की समस्या से जुड़े डॉक्टर हैं। गुलाबी रंग के वेटिंग रूम में महिलाएं बड़े धैर्य के साथ प्रतीक्षा कर रही हैं।
यास्मीन ने मुझे बताया कि उन्होंने नकली लगवाई है। एक छोटी मेडिकल प्रक्रिया के तहत महिलाओं के प्राइवेट पार्ट में हाइमन जो एक झिल्ली की तरह होता है उसे जोड़ा जाता है। हाइमन को फिर से जोड़ने को वर्जिनिटी वापस लाने के तौर पर देखा जाता है।

समाजशास्त्री सामिया एलुमी ने कहा, ''हम आधुनिक समाज में रहने का दावा करते हैं...लेकिन यह आधुनिकता महिलाओं के यौन संबंधों से जुड़ी आज़ादी में नहीं दिखती।'' यास्मीन की दो महीने बाद शादी होने वाली है। 28 साल की यास्मिन को डर सता रहा है कि वो वर्जिन नहीं है। उन्हें लगता है कि कि भविष्य में उनके वर्जिन न होने की बात पता चल सकती है।
उन्होंने कहा, ''एक दिन अनजाने में पति के साथ बातचीत के दौरान ये न हो कि मैं धोखा खा जाऊं या फिर मेरे पति को संदेह होने लगे।''

'सोच नहीं सकती थी, इतना दबाव'
यहां कई ऐसी ख़बरें आई हैं कि पुरुष वर्जिन नहीं होने के संदेह में पत्नी को शादी के तुरंत बाद तलाक़ दे देते हैं। यास्मीन का जन्म एक उदार परिवार में हुआ था। वह कई सालों तक विदेश में भी रहीं। उन्हें डर है कि उनके आतीत के यौन संबंधों के बारे में मंगेतर को शक हुआ तो शादी टूट जाएगी।
यास्मीन ने कहा, ''मेरा एक पुरुष के साथ अफेयर था। उस वक़्त मैं कल्पना नहीं कर सकती थी कि वर्जिनिटी को लेकर हमारे समाज में कितना दबाव रहता है और उसके क्या नतीजे हो सकते हैं। ऐसे में मैं डरी हुई हूं। अगर मैंने अपने अफेयर के बारे में मंगेतर को बताया तो निश्चित है कि मेरी शादी टूट जाएगी।''

फिर से हाइमन लगाने में कुल आधे घंटे का वक़्त लगता है और इसके लिए यास्मीन लगभग 26 हज़ार रुपए (400 डॉलर) देंगी। वह कई महीनों से पैसे बचा रही थीं और इसे उन्होंने अपने पति और मंगेतर से छुपाकर रखा। यास्मीन को फिर से 'वर्जिन' बनाने की प्रक्रिया एक गाइनिकॉलजिस्ट पूरी करेगा।
डॉ. रशीद एक हफ़्ते में औसत इस तरह की दो सर्जरी करते हैं। डॉ. रशीद ने कहा कि जो हाइमन को फिर लगवाने आती हैं उनमें से 99 फ़ीसदी वो लड़कियां होती हैं जो अपने परिवार और रिश्तेदारों की शर्मिंदगी से डरी होती हैं। उन्होंने कहा कि यास्मीन की तरह वो ज़्यादातर कम उम्र की लड़कियां होती हैं जो इस बात को छुपाना चाहती हैं कि वह वर्जिन नहीं हैं।

हालांकि हाइमन टूटने की वजह केवल नहीं है, लेकिन फिर भी महिलाओं को ग़लत तरीके से गुनाहगार ठहराया जाता है और उन पर शादी से पहले सेक्स का आरोप लगाया जाता है।
डॉक्टर ने कहा, ''गाइनिकॉलजिस्ट हाइमन को फिर से बहाल करते हैं। यह कोई अपवाद नहीं है। यहां कई डॉक्टर ऐसा नहीं करते हैं। मैं निजी तौर पर ऐसा करता हूं क्योंकि मैं उन लोगों से सहमत नहीं हूं जो वर्जिनिटी को पवित्र चीज़ मानते हैं। हम कहते हैं कि यह पुरुष प्रभुत्व है और मैं इन सबके ख़िलाफ़ युद्ध जारी रखूंगा।''

'वर्जिन नहीं तो तलाक़ दे सकते हैं '
उत्तरी अफ़्रीका में ट्यूनीशिया महिलाओं को अधिकार देने के लिए जाना जाता है लेकिन धर्म और परंपरा के कारण यहां महिलाओं को शादी से पहले तक वर्जिन रहने पर मजबूर किया जाता है। ट्यूनीशिया के तलाक़ नियम में यह भी प्रावधान है कि यदि पति को पता चलता है कि उसकी पत्नी वर्जिन नहीं है तो वह तलाक़ दे सकता है।
समाजशास्त्री सामिया एलुमी ने कहा, ''ट्यूनीशियाई समाज एक खुला समाज है लेकिन हम लोग पाखंडी हो रहे हैं। यहां सामाजिक रूढ़िवाद बहुत प्रबल रूप में है और हम इसे आधुनिक समाज में सही नहीं मान सकते। महिलाओं की कामुकता और उनकी स्वतंत्रता के मामले में आधुनिकता अब भी कोसों दूर है।''

एक सरकारी यूनिवर्सिटी में मेरी मुलाक़ात ईशेन से हुई। 29 साल के ईशेन की शादी पिछले साल हुई थी। मैंने उनसे पूछा कि क्या वह और उनके दोस्त वर्जिनिटी का ख़्याल रखते हैं तो उन्होंने कहा कि उनके लिए यह बहुत ज़्यादा अहम है।
ईशेन ने कहा, ''यदि मुझे शादी के बाद पता चलता कि वह वर्जिन नहीं है तो मैं फिर से कभी भरोसा नहीं कर पाता। मै इसे धोखे की तरह देखता। मैं नक़ली हाइमन पर भरोसा नहीं करता। मेरा मानना है कि वह काम नहीं करता है।'' ईशेन के बगल में ही बैठे एक स्टूडेंट ने कहा कि ट्यूनीशियाई परंपरा में महिलाओं को प्रताड़ना झेलनी पड़ती है।

उन्होंने कहा कि उनके लिए यह पूरी तरह से पाखंड है। उन्होंने कहा कि यदि पुरुष शादी से पहले सेक्स कर सकता है महिलाओं को क्यों कटघरे में खड़ा किया जाए?

और भी पढ़ें :