जापान के लोगों को क्यों नहीं भा रहा सेक्स

पुनः संशोधित शनिवार, 18 मार्च 2017 (12:53 IST)
क्या में 'सेक्स संकट' का दायरा भयावह रूप ले रहा है? क्या एक दिन ऐसा आएगा जब जापान खाली हो जाएगा? जापानी लोगों को 'ज़्यादा सेक्स' करने की ज़रूरत क्यों बताई जा रही है। तोहोकु यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने इन्हीं निष्कर्षों के बाद डूम्ज़डे क्लॉक (प्रलय के दिन का अंदाजा लगाना) बनाई है।
इसके मुताबिक़ जापान में वर्तमान 'सेक्स संकट' का मतलब है कि 16 अगस्त 3766 को जापान में केवल एक शख्स बच जाएगा। यह अनुमान देश में घटती प्रजनन दर और बूढ़ों की आबादी पर आधारित है। ब्रिटेन में भी 1920 के दशक की पीढ़ी की तुलना में लाखों लोगों की सेक्स में दिलचस्पी कम हुई है। हालांकि जापान में तो स्थिति भयावह है।
 
जापान फैमिली प्लानिंग असोसिएशन के सर्वे में बताया गया है कि 16 से 24 साल की उम्र वाली 45 फ़ीसदी जापानी महिलाओं को यौन संबंध में कोई दिलचस्पी नहीं है। एक तिहाई से ज़्यादा भी इस बात से सहमत हैं।
 
तोहोकु यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं का कहना है कि स्थिति काफी गंभीर है। शोधकर्ताओं ने बताया कि वह वक़्त भी आएगा जब जापान बिल्कुल अकेला महसूस करेगा क्योंकि तब यहां सिर्फ एक शख्स होगा। ब्रिटेन में भी सेक्स को बढ़ावा देने के लिए की शुरुआत की गई फिर भी ब्रिटिश युवा कम सेक्स कर रहे हैं। सेक्स में कमी की एक बड़ी वजह ज़्यादा वक़्त इंटरनेट पर खर्च करना है।
 
जापान में कम सेक्स की वजह
*जापानी काम पर ज़्यादा वक़्त खर्च करते हैं। काम में इस कदर थक जाते हैं कि उनके लिए सेक्स कोई प्राथमिकता नहीं रह जाती।
 
*औसतन जापानी पुरुष एक हफ़्ते में 80 घंटे काम करते हैं।
 
*ज़्यादातर जापानी महिलाएं महसूस करती हैं कि उन्हें करियर और गृहस्थी के बीच किसी एक को चुनना होता है और कइयों की प्राथमिकता परिवार बसाने से ज़्यादा काम है।
 
*यदि लोग कहते हैं कि युवाओं को सेक्स, ड्रग्स और रॉक ज़्यादा आकर्षित करते हैं तो यह जापानी युवाओं के लिए सच नहीं है।
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

भारत में इंसानी मल को ढोते हजारों लोग

भारत में इंसानी मल को ढोते हजारों लोग
भारत में 21वीं सदी में भी ऐसे लोग मौजूद हैं जो इंसानी मल को उठाने और सिर पर ढोने को मजबूर ...

क्या होगा जब कंप्यूटर का दिमाग पागल हो जाए

क्या होगा जब कंप्यूटर का दिमाग पागल हो जाए
क्या होगा अगर कंप्यूटर और मशीनों को चलाने वाले दिमाग यानी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पागल हो ...

चंद हज़ार रुपयों से अरबपति बनने वाली केंड्रा की कहानी

चंद हज़ार रुपयों से अरबपति बनने वाली केंड्रा की कहानी
गर्भ के आख़िरी दिनों में केंड्रा स्कॉट को आराम के लिए कहा गया था। उसी वक़्त उन्हें इस ...

सिंगापुर डायरी: ट्रंप-किम की मुलाकात की जगह बसता है 'मिनी ...

सिंगापुर डायरी: ट्रंप-किम की मुलाकात की जगह बसता है 'मिनी इंडिया'
सिंगापुर का "लिटिल इंडिया" दो किलोमीटर के इलाक़े में बसा एक मिनी भारत है। ये विदेश में ...

जर्मन बच्चे कितने पढ़ाकू, कितने बिंदास

जर्मन बच्चे कितने पढ़ाकू, कितने बिंदास
जर्मनी में एक साल के भीतर कितने बच्चे होते हैं, या बच्चों को कितनी पॉकेट मनी मिलती है, या ...

एम्स के एमबीबीएस पाठ्यक्रम में दाखिले के लिए परिणाम घोषित

एम्स के एमबीबीएस पाठ्यक्रम में दाखिले के लिए परिणाम घोषित
नई दिल्ली। एम्स में एमबीबीएस पाठ्यक्रम में दाखिले के लिए 26 और 27 मई को आयोजित की गई ...

सरकार भगोड़ा आर्थिक अपराधियों से निपटने वाले कानूनों को ...

सरकार भगोड़ा आर्थिक अपराधियों से निपटने वाले कानूनों को मजबूत बना रही है : रविशंकर प्रसाद
नई दिल्ली। केंद्रीय विधि मंत्री रविशंकर प्रसाद ने सोमवार को कहा कि सरकार नीरव मोदी, मेहुल ...

मोदी बनाम बाकी भारत के बीच होगा अगला लोकसभा चुनाव : गौरव ...

मोदी बनाम बाकी भारत के बीच होगा अगला लोकसभा चुनाव : गौरव गोगोई
कोलकाता। पश्चिम बंगाल के नए कांग्रेस प्रमुख गौरव गोगोई ने सोमवार को दावा किया कि 2019 ...