जापान के लोगों को क्यों नहीं भा रहा सेक्स

पुनः संशोधित शनिवार, 18 मार्च 2017 (12:53 IST)
क्या में 'सेक्स संकट' का दायरा भयावह रूप ले रहा है? क्या एक दिन ऐसा आएगा जब जापान खाली हो जाएगा? जापानी लोगों को 'ज़्यादा सेक्स' करने की ज़रूरत क्यों बताई जा रही है। तोहोकु यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने इन्हीं निष्कर्षों के बाद डूम्ज़डे क्लॉक (प्रलय के दिन का अंदाजा लगाना) बनाई है।
इसके मुताबिक़ जापान में वर्तमान 'सेक्स संकट' का मतलब है कि 16 अगस्त 3766 को जापान में केवल एक शख्स बच जाएगा। यह अनुमान देश में घटती प्रजनन दर और बूढ़ों की आबादी पर आधारित है। ब्रिटेन में भी 1920 के दशक की पीढ़ी की तुलना में लाखों लोगों की सेक्स में दिलचस्पी कम हुई है। हालांकि जापान में तो स्थिति भयावह है।
 
जापान फैमिली प्लानिंग असोसिएशन के सर्वे में बताया गया है कि 16 से 24 साल की उम्र वाली 45 फ़ीसदी जापानी महिलाओं को यौन संबंध में कोई दिलचस्पी नहीं है। एक तिहाई से ज़्यादा भी इस बात से सहमत हैं।
 
तोहोकु यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं का कहना है कि स्थिति काफी गंभीर है। शोधकर्ताओं ने बताया कि वह वक़्त भी आएगा जब जापान बिल्कुल अकेला महसूस करेगा क्योंकि तब यहां सिर्फ एक शख्स होगा। ब्रिटेन में भी सेक्स को बढ़ावा देने के लिए की शुरुआत की गई फिर भी ब्रिटिश युवा कम सेक्स कर रहे हैं। सेक्स में कमी की एक बड़ी वजह ज़्यादा वक़्त इंटरनेट पर खर्च करना है।
 
जापान में कम सेक्स की वजह
*जापानी काम पर ज़्यादा वक़्त खर्च करते हैं। काम में इस कदर थक जाते हैं कि उनके लिए सेक्स कोई प्राथमिकता नहीं रह जाती।
 
*औसतन जापानी पुरुष एक हफ़्ते में 80 घंटे काम करते हैं।
 
*ज़्यादातर जापानी महिलाएं महसूस करती हैं कि उन्हें करियर और गृहस्थी के बीच किसी एक को चुनना होता है और कइयों की प्राथमिकता परिवार बसाने से ज़्यादा काम है।
 
*यदि लोग कहते हैं कि युवाओं को सेक्स, ड्रग्स और रॉक ज़्यादा आकर्षित करते हैं तो यह जापानी युवाओं के लिए सच नहीं है।
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

इस पैंतरेबाजी से तो संसद चलने से रही

इस पैंतरेबाजी से तो संसद चलने से रही
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का एक दिवसीय उपवास संपन्न हो गया। उनके साथ ही उनके मंत्रियों ...

इन देशों में नहीं होती रविवार की छुट्टी

इन देशों में नहीं होती रविवार की छुट्टी
5 या 6 दिन के कामकाजी हफ्ते के बाद साप्ताहिक छुट्टियों का बड़ा महत्व है। बहुत से काम हैं ...

क्यों कहते हैं, जानवरों की तरह मत चीखो?

क्यों कहते हैं, जानवरों की तरह मत चीखो?
दुनिया में सबसे ज्यादा शोर इंसान या उसकी गतिविधियों से पैदा होता है तो भी हम अक्सर कहते ...

क्या यही 'एक भारत, श्रेष्ठ भारत' है ?

क्या यही 'एक भारत, श्रेष्ठ भारत' है ?
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री मोदी जहां ‘एक भारत, श्रेष्ठ भारत’का नारा देते नहीं थकते वहीं ...

बलात्कार पर धर्म की राजनीति क्यों?

बलात्कार पर धर्म की राजनीति क्यों?
उत्तर प्रदेश और कश्मीर में गैंग रेप के मामलों के बाद जिस तरह का माहौल बना है, उसमें ...

सजा सुन फूट-फूटकर रोया आसाराम...

सजा सुन फूट-फूटकर रोया आसाराम...
जोधपुर की अदालत ने जिस समय स्वयंभू धर्मगुरु आसाराम को उम्रकैद की सजा सुनाई, वह फूट-फूटकर ...

देश के स्वयंभू बाबाओं का कच्चा चिट्‍ठा

देश के स्वयंभू बाबाओं का कच्चा चिट्‍ठा
नई दिल्ली। धर्म गुरु आसाराम बापू पर जोधपुर की जेल में लगी अदालत ने एक नाबालिग बच्ची से ...

बड़ी खबर, बलात्कार मामले में आसाराम को उम्रकैद

बड़ी खबर, बलात्कार मामले में आसाराम को उम्रकैद
जोधपुर। जोधपुर अदालत ने आसाराम को एक नाबालिग लड़की से बलात्कार के मामले में आज दोषी करार ...