कर्नाटक विधानसभा चुनाव : आगे-आगे राहुल गांधी, पीछे-पीछे अमित शाह

पुनः संशोधित शुक्रवार, 30 मार्च 2018 (14:13 IST)
इमरान क़ुरैशी
कर्नाटक की राजनीतिक पगडंडियों पर इन दिनों दिलचस्प तस्वीर दिखाई दे रही है। आगे-आगे राहुल गांधी और पीछे पीछे अमित शाह। कर्नाटक विधानसभा के लिए 12 मई को वोट डाले जाएंगे। चुनाव अभियान के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी जिन क्षेत्रों में जा रहे हैं कुछ दिनों के बाद भारतीय जनता पार्टी अध्यक्ष भी वहीं नज़र आते हैं।
 
मैसूर और आसपास के ज़िलों के दौरे के बाद राहुल गांधी रविवार को यहां से रवाना हुए। अब शुक्रवार को उनके पीछे बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह पुराने मैसूर क्षेत्र में पहुंच रहे हैं। कर्नाटक में विधानसभा चुनाव के लिए जब से प्रचार ने तेज़ी पकड़ी है तभी से अमित शाह तमाम उन इलाकों में पहुंच रहे हैं, जहां राहुल गांधी हाल में प्रचार कर चुके होते हैं।
 
इसकी शुरुआत हैदराबाद कर्नाटक इलाके (पूर्वोत्तर कर्नाटक) से हुई। इसके बाद बॉम्बे कर्नाटक (उत्तरी कर्नाटक) क्षेत्र में भी यही दिखा। तटीय और मध्य कर्नाटक में भी ऐसा ही हुआ। बीजेपी प्रवक्ता डॉक्टर वमन आचार्य कहते हैं, 'हम झाडू लेकर जा रहे हैं। जो आप गंदा करके जाते हैं वो हम साफ करते हैं।'
 
दौरे का मकसद : अमित शाह रामनगरम, चन्नपटना, मांड्या, मैसूर और चामराजनगर ज़िलों के दौरे के दौरान बूथ कमेटी के सदस्यों,  दलित नेताओं, लकड़ी के खिलौने बनाने वाले उद्योंगों के सदस्यों और रेशम उत्पादकों से मिलेंगे। लेकिन उनकी सबसे अहम मुलाकात सुत्तूर मठ के जगद्गुरु श्री शिवरात्रि देशिकेंद्र महास्वामी से होगी। इस मुलाक़ात को कई कारणों से अहम माना जा रहा है।
 
शाह उत्तर और मध्य कर्नाटक के दौरे के वक्त भी लिंगायत और वीरशैव लिंगायत स्वामियों से मुलाक़ात करते रहे हैं। इस मुलाकात का मकसद सिद्धारमैया सरकार की ओर से लिंगायत समुदाय को 'अल्पसंख्यक' दर्जा दिए जाने को लेकर उनकी राय जानना रहा है।
 
लिंगायत समुदाय बीजेपी का वोट बैंक रहा है। इसकी बड़ी वजह पार्टी की ओर से मुख्यमंत्री पद के दावेदार बीएस येदियुरप्पा हैं। ऐसे में लिंगायत समुदाय को अल्पसंख्यक दर्जा दिए जाने की सिफारिश ने अन्य किसी भी दल के मुक़ाबले बीजेपी के नेताओं को ज़्यादा परेशान किया है। इसे मुख्यमंत्री सिद्धारमैया का लिंगायत समुदाय पर बीजेपी के प्रभुत्व में सेंध लगाने की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है।
 
मठ का मत : सुत्तूर मठ के स्वामी से अमित शाह की मुलाक़ात इस वजह से भी अहम है कि जब वो दो दिन पहले मध्य कर्नाटक में लिंगायत मठ के एक अन्य शक्तिशाली प्रमुख से मिले थे तो उन्होंने शाह को एक ज्ञापन थमा दिया था। श्री मुरुगराजेंद्र मठ के प्रमुख जगद्गुरु डॉक्टर शिवमूर्ति मुरुगा शरनारु ने आधिकारिक तौर पर कहा कि उन्होंने शाह से अनुरोध किया है कि वो केंद्र सरकार से कहें कि वो सिद्धारमैया सरकार की सिफारिश को मंजूर करे।
 
लिंगायत समुदाय और राजनीति पर करीबी नज़र रखने वाली प्रीति नागराज का कहना है, "मुरुगराजेंद्र मठ हमेशा मानता है कि लिंगायत और वीरशैव लिंगायत अलग हैं। ये कोई नई बात नहीं है। ये मठ लंबे समय से यही मानता रहा है।"
 
इस मुद्दे पर सुत्तूर मठ के रुख को लेकर वो कहती हैं, "मठ के रुख के बारे में किसी को जानकारी नहीं है। उन्होंने इस मुद्दे पर एक दूरी बनाए रखी है। वो लिंगायत मठ में से अधिकांश की राय के मुताबिक भी जा सकते हैं और उनसे अलग राय भी रख सकते हैं।" वो मानती हैं कि अमित शाह का मठ का दौरा एक 'शिष्टाचार भेंट' भर साबित हो सकता है।
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

मुंगेर के निसार हैं 'लावारिस शवों के मसीहा'

मुंगेर के निसार हैं 'लावारिस शवों के मसीहा'
जहां धर्म और मजहब के नाम पर हिंदू और मुसलमानों के बीच तनाव की खबरें सुर्खियों में आती ...

शवों के साथ एकांत का शौक रखने वाला यह तानाशाह

शवों के साथ एकांत का शौक रखने वाला यह तानाशाह
चार अगस्त, 1972, को बीबीसी के दिन के बुलेटिन में अचानक समाचार सुनाई दिया कि युगांडा के ...

तो क्या खुल गया स्टोनहेंज का राज?

तो क्या खुल गया स्टोनहेंज का राज?
शायद आपने फिल्मी गानों में इन रहस्यमयी पत्थरों को देखा हो। इंग्लैंड में प्राचीन पत्थरों ...

कैंसर ने इरफान खान को बदल डाला

कैंसर ने इरफान खान को बदल डाला
अपने एक्टिंग से बॉलीवुड और हॉलीवुड को हिलाने वाले इरफान खान ने कैंसर की खबर के बाद पहला ...

दिल्ली का जीबी रोड: जिस सड़क का अंत नहीं

दिल्ली का जीबी रोड: जिस सड़क का अंत नहीं
दिल्ली की एक सड़क है, जिसका नाम सुनते ही लोगों की भौंहें तन जाती हैं और वे दबी जुबान में ...

वियना दुनिया का सबसे रहने लायक शहर, दिल्ली 112वें, मुंबई ...

वियना दुनिया का सबसे रहने लायक शहर, दिल्ली 112वें, मुंबई 117वें पायदान पर
लंदन। दुनिया के रहने लायक शहरों की सूची में भारत समेत दक्षिणी एशियाई देशों का प्रदर्शन ...

ब्रिटिश संसद के बाहर आतंकी हमला, तेज रफ्तार कार ने ढाया कहर

ब्रिटिश संसद के बाहर आतंकी हमला, तेज रफ्तार कार ने ढाया कहर
लंदन। ब्रिटेन में संसद के बाहर एक आतंकी हमले में आज एक व्यक्ति ने तेज रफ्तार कार पैदल ...

स्वतंत्रता बरकरार रखने के लिए रुका नहीं है कुर्बानियों का ...

स्वतंत्रता बरकरार रखने के लिए रुका नहीं है कुर्बानियों का सिलसिला
अंबाला का विक्रमजीत सिंह 5 साल पहले सेना में भर्ती होने के बाद कश्मीर में शहादत पा गया। ...