ज्योतिष के अनुसार शुक्र की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते होंगे...

Shukra-Gruha-P-n-740
राजसी प्रकृति के धनी हैं शुक्र

ज्योतिष के अनुसार हर ग्रह की परिभाषा अलग है। भारतीय ज्योतिष और पौराणिक कथाओं में गिने जाते हैं, सूर्य, चन्द्रमा, बुध, शुक्र, मंगल, गुरु, शनि, राहु और केतु। यहां पाठकों के लिए प्रस्तुत है के बारे में रोचक जानकारी...

* शुक्र देव अथवा 'शुक्र वार' के स्वामी हैं। शुक्र, जो भृगु और उशान के बेटे हैं।

* शुक्र सफेद रंग, मध्यम आयु वर्ग और भले चेहरे के हैं।

* वे दैत्यों के शिक्षक और असुरों के गुरु हैं जिन्हें शुक्र ग्रह के साथ पहचाना जाता है।

* शुक्र की सवारी ऊंट, घोड़े तथा मगरमच्छ और हाथों में कमल, माला, कभी-कभी धनुष-बाण तथा दंड लिए दिखाया जाता है।

* शुक्र जिसका संस्कृत में शुद्ध और स्वच्छ अर्थ होता है।

* यह शुक्रवार का स्वामी तथा शुक्र ग्रह का प्रतिनिधित्व करता है।

* उनकी प्रकृति राजसी हैं और धन, खुशी और प्रजनन का प्रतिनिधित्व करते हैं।

* मंत्र- ॐ शुं शुक्राय नम:।



वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :