जानिए सूर्य देव के जन्म की कथा


सूर्य और चंद्र इस पृथ्वी के सबसे साक्षात देवता हैं जो हमें प्रत्यक्ष उनके सर्वोच्च दिव्य स्वरूप में दिखाई देते हैं। वेदों में सूर्य को जगत की आत्मा कहा गया है। समस्त चराचर जगत की आत्मा सूर्य ही है। सूर्य से ही इस पृथ्वी पर जीवन है। वैदिक काल से ही भारत में सूर्योपासना का प्रचलन रहा है। वेदों की ऋचाओं में अनेक स्थानों पर
सूर्य देव की स्तुति की गई है। पुराणों में सूर्य की उत्पत्ति,प्रभाव,स्तुति, मन्त्र इत्यादि विस्तार से मिलते हैं। ज्योतिष शास्त्र में को राजा का पद प्राप्त है।

कैसे हुई सूर्य देव की उत्पत्ति

मार्कंडेय पुराण के अनुसार पहले यह सम्पूर्ण जगत प्रकाश रहित था। उस समय कमलयोनि ब्रह्मा जी प्रकट हुए। उनके मुख से प्रथम शब्द ॐ निकला जो रुपी सूक्ष्म रूप था। तत्पश्चात ब्रह्मा जी के चार मुखों से चार वेद प्रकट हुए जो ॐ के तेज में एकाकार हो गए।
यह वैदिक तेज ही आदित्य है जो विश्व का अविनाशी कारण है। ये वेद स्वरूप सूर्य ही सृष्टि की उत्पत्ति,पालन व संहार के
कारण हैं। ब्रह्मा जी की प्रार्थना पर सूर्य ने अपने महातेज को समेट कर स्वल्प तेज को ही धारण किया।

सृष्टि रचना के समय ब्रह्मा जी के पुत्र मरीचि हुए जिनके पुत्र ऋषि कश्यप का विवाह अदिति से हुआ। अदिति ने घोर तप द्वारा भगवान् सूर्य को प्रसन्न किया जिन्होंने उसकी इच्छा पूर्ति के लिए सुषुम्ना नाम की किरण से उसके गर्भ में प्रवेश किया। गर्भावस्था में भी अदिति चान्द्रायण जैसे कठिन व्रतों का पालन करती थी।
ऋषि राज कश्यप ने क्रोधित हो कर अदिति से कहा-'तुम इस तरह उपवास रख कर गर्भस्थ शिशु को क्यों मरना चाहती हो”

यह सुन कर देवी अदिति ने गर्भ के बालक को उदर से बाहर कर दिया जो अपने अत्यंत दिव्य तेज से प्रज्वल्लित हो रहा था। भगवान् सूर्य शिशु रूप में उस गर्भ से प्रगट हुए। अदिति को मारिचम- अन्डम कहा जाने के कारण यह बालक मार्तंड नाम से प्रसिद्ध हुआ। ब्रह्मपुराण में अदिति के गर्भ से जन्मे सूर्य के अंश को विवस्वान कहा गया है।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

राशिफल

अगर आपके पर्स में भी हैं यह 7 चीजें तो तुरंत बाहर निकालें.. ...

अगर आपके पर्स में भी हैं यह 7 चीजें तो तुरंत बाहर निकालें.. यह रोक‍ती हैं धन को...
पर्स में रखी कुछ चीजें ऐसी होती हैं जो धन के आगमन को रोकती हैं। अगर आपके पर्स में भी रखी ...

ज्योतिष के अनुसार शनि की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते ...

ज्योतिष के अनुसार शनि की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते होंगे...
पौराणिक कथाओं में नौ ग्रह गिने जाते हैं, सूर्य, चन्द्रमा, मंगल, बुध, गुरु, शुक्र, शनि, ...

ज्योतिष के अनुसार बृहस्पति ग्रह की खास विशेषताएं, जो आप ...

ज्योतिष के अनुसार बृहस्पति ग्रह की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते होंगे...
ज्योतिष के अनुसार हर ग्रह की परिभाषा अलग है। भारतीय ज्योतिष और पौराणिक कथाओं में नौ ग्रह ...

जून माह विशेष : ग्रहों के राशि परिवर्तन का आपकी राशि पर ...

जून माह विशेष : ग्रहों के राशि परिवर्तन का आपकी राशि पर क्या होगा असर
जून माह में कई ग्रहों ने अपने घर बदले हैं और कुछ और ग्रह राशि परिवर्तन करेंगे। आइए जानें ...

सिर्फ 2 पंक्तियों में जानें कि जून माह में ग्रह बदलने का ...

सिर्फ 2 पंक्तियों में जानें कि जून माह में ग्रह बदलने का किस राशि को मिलेगा लाभ
जून महीने में ग्रहों के परिवर्तन का सभी 12 राशियों पर क्या असर होगा आइए जानते हैं...

ज्योतिष के अनुसार मंगल की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते ...

ज्योतिष के अनुसार मंगल की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते होंगे...
ज्योतिष के अनुसार हर ग्रह की परिभाषा अलग है। पौराणिक कथाओं में नौ ग्रह गिने जाते हैं, ...

गुलाब का एक फूल बदल सकता है जीवन की दिशा, जानिए 10 रोचक ...

गुलाब का एक फूल बदल सकता है जीवन की दिशा, जानिए 10 रोचक टोटके
हम आपके लिए लाए हैं सुंगधित गुलाब के फूल के कुछ ऐसे उपाय या टोटके जिन्हें आजमाकर आप अपने ...

आखिर क्यों होती हैं हमारे कामों में देरी, जानिए, क्या कहता ...

आखिर क्यों होती हैं हमारे कामों में देरी, जानिए, क्या कहता है ज्योतिष
जानते हैं कि जन्मपत्रिका में वे कौन सी ऐसी ग्रहस्थितियां व ग्रह होते हैं जो कार्यों में ...

घर के लड़ाई-झगड़े से हैं परेशान, तो आज ही शुरू करें ये ...

घर के लड़ाई-झगड़े से हैं परेशान, तो आज ही शुरू करें ये चमत्कारिक उपाय...
वर्तमान समय में हर मनुष्य तनाव में जी रहा है। यदि आपके हर काम में विघ्न-बाधाएं आ रही हों, ...

धन का संकट दूर करना है तो आजमाएं अनमोल एवं कारगर उपाय ...

धन का संकट दूर करना है तो आजमाएं अनमोल एवं कारगर उपाय (पढ़ें अपनी राशिनुसार)
अगर आप अपने ईष्ट का स्मरण कर भक्ति भाव से पूजन और नियमितता से नीचे दिए गए उपाय आजमाते हैं ...